Covid-19: बहराइच में 14 साल का किशोर बना चौकी प्रभारी, समझाया लॉकडाउन का महत्व
Bahraich News in Hindi

Covid-19: बहराइच में 14 साल का किशोर बना चौकी प्रभारी, समझाया लॉकडाउन का महत्व
पुलिस आगे की कार्रवाई में लग गई है. (Demo Pic)

आम लोगों को कोरोना वायरस (Corona Virus) से निपटने के लिए जागरुक करने के उद्देश्य से पुलिस अनेक प्रयोग कर रही है. इसी क्रम में 14 साल के किशोर को बहराइच में ‘चौकी प्रभारी’ घोषित किया गया.

  • Share this:
बहराइच (उत्तर प्रदेश). बहराइच (Bahraich) जिले में लोगों को कोरोना वायरस (Corona Virus) से निपटने के लिए जागरुक करने के उद्देश्य से पुलिस अनेक प्रयोग कर रही है, जिसमें ‘यमराज’ के भेष में संक्रमण से लड़ने की प्रेरणा देने के साथ ही चौदह साल के किशोर द्वारा पुलिस टीम के साथ लोगों को लॉकडाउन (Lockdown) नहीं तोड़ने की नसीहत देना शामिल है. शहर में 14 वर्षीय बालक चौकी प्रभारी के रूप में पुलिसकर्मियों के साथ हाथ में डंडा लिए लोगों को समझा रहा है,, 'लॉकडाउन मत तोड़ना, गैर-जरूरी वजह से घर से नहीं निकलना. अंगौछा, रूमाल या मास्क से चेहरा ढककर रखना. साबुन से बार-बार हाथ धोना या सैनेटाइजर लगाना.' वह अपने अंदाज में कहता है, 'याद रखना नियमों का पालन करना है, उल्लंघन होगा तो चौकी इंचार्ज मैं हूं. तुरंत मुकदमा लिख दूंगा. जेल भी जा सकते हो.'

'यमराज ने किया था कोरोना से सावधान'

बहराइच के एसपी विपिन मिश्र बताते हैं कि आजकल कम्युनिटी पुलिसिंग का युग है. मुझे कम्युनिटी पुलिसिंग में विश्वास भी है जिसके चलते मैं अपनी टीम को इस तरह के प्रयोग करने के लिए प्रोत्साहित करता रहता हूं. उन्होंने कहा, ‘‘इसी क्रम में गत 12 अप्रैल को बौंडी थाना क्षेत्र में यमराज के भेष में लोगों को कोरोना वायरस से लड़ने की प्रेरणा दी गयी थी. वहां यमराज के पात्र ने स्वयं को कोरोना वायरस का रूप बताकर लोगों को इस महामारी से सावधान रहने की सलाह दी थी."



मॉडरेट पुलिसिंग को बढ़ावा दे रही है पुलिस
एसपी ने कहा, ‘‘हम आगे भी इसी तरह की मॉडरेट पुलिसिंग को बढ़ावा देकर पुलिस को जनता की दोस्त की तरह पेश करना चाहते हैं.’’ भारत-नेपाल सीमा व कतर्नियाघाट सेंचुरी के जंगलों से सटे मोतीपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत मिहींपुरवा कस्बे के 14 साल के सौम्य अग्रवाल की नेतृत्व क्षमता से प्रभावित होकर पुलिस ने एक और अभिनव प्रयोग किया.

14 साल के किशोर को बनाया चौकी प्रभारी

थाना प्रभारी जे पी शुक्ला को जब इस बात का पता लगा तो उन्होंने सौम्य के माध्यम से अनोखा प्रयोग करने की योजना बनाई और जनता के बीच जाकर उसे मिहींपुरवा का ‘चौकी प्रभारी’ घोषित किया और चौकी प्रभारी अजय तिवारी की बजाय सौम्य के साथ पुलिस टीम को भेजा. सौम्य अब लोगों को लॉकडाउन पालन, सोशल डिस्टेंसिंग, सैनेटाइजेशन व बेहतर साफ-सफाई की शिक्षा दे रहा है.

दो गज दूरी, बहुत जरूरी की हो रही अपील

चश्मदीदों के मुताबिक बालक सौम्य अग्रवाल जब पुलिस बल के साथ लोगों के बीच जाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के शब्द "दो गज दूरी, बहुत जरूरी" बोलता है तो लोग अपने बीच का बच्चा होने व उसकी इस शैली के चलते मुस्कराते भी हैं तो उसे गंभीरता से भी लेते हैं. थाना प्रभारी शुक्ला बताते हैं कि उनका यह प्रयोग काफी सफल रहा है और लोग पहले के मुकाबले बेहतर अनुशासन के साथ लॉकडाउन का पालन कर रहे हैं.

सांसद ने भी की सराहना

बहराइच के सांसद अक्षयवर लाल गौंड ने भी सौम्य के काम व पुलिस के प्रयोग की सराहना करते हुए कहा, "हमारी सरकार जनता की सरकार है और जनता को रुचिकर ढंग से अपनी बात पहुंचाने का तरीका अच्छा साबित हो सकता है."

ये भी पढ़ें:

Lockdown: रेप की सजा काट रहे कैदी ने बांदा में की आत्महत्या, छूटकर आया था घर
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading