हाथरस कांड: UP में गिरफ्तार PFI सदस्यों के इंडो-नेपाल सीमा से जुड़े हैं तार, जांच शुरू

बहराइच (Behraicj) के अपर पुलिस अधीक्षक, कुवर ज्ञानेंद्र सिंह (Photo: News 18)
बहराइच (Behraicj) के अपर पुलिस अधीक्षक, कुवर ज्ञानेंद्र सिंह (Photo: News 18)

हाथरस केस (Hathras Case) में पकड़ा गया PFI का एक सदस्य जामिया यूनवर्सिटी का छात्र है. बहराइच (Behraicj) के ASP कुंवर ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि मामले में विदेशी फंडिंग की भी पूरी जांच की जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 2:53 PM IST
  • Share this:
बहराइच. हाथरस केस (Hathras case) में रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं. मामले में पुलिस अब साजिश के एंगल पर भी तेजी से काम कर रही है. इस क्रम में पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया है, जो पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के सदस्य बताए जा रहे हैं. गिरफ्तार सदस्यों में एक शख्स बहराइच (Behraich) के जरवल का रहने वाला है. इसके बाद से यूपी पुलिस सक्रिय हो गई है. बहराइच पुलिस का कहना है कि ये इलाका इंडो-नेपाल सीमा से सटा हुआ है और पिछले कुछ समय में पीएफआई से जुड़े कुछ अन्य लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है. ऐसे में पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि यूपी और देश के भीतर जातीय और सांप्रदायिक दंगे फैलाने के लिए भारत नेपाल सीमा पर पीएफआई की गतिविधियां क्या चल रही हैं?

जामिया यूनिवर्सिटी में एलएलबी छात्र है मसूद
बहराइच के अपर पुलिस अधीक्षक, कुंवर  ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि मथुरा में जो पीएफआई के सदस्यों के गिरफ्तारी हुई है, उसमें बहराइच के जरवल का एक लड़का भी शामिल है. पता चला है कि मथुरा में गिरफ्तार मसूद अहमद पुत्र शकील अहमद बहराइच जिले के जरवल रोड के मोहल्ला बैरा काजी के थाना जरवल रोड क्षेत्र का रहने वाला है. वह दिल्ली की जामिया यूनिवर्सिटी में एलएलबी का छात्र है. बीते 2 साल से ये कैम्पस फ्रेंड ऑफ इंडिया (CFI) से जुड़ा है. सीएफआई पॉपुलर फ्रंड ऑफ इंडिया (PFI) की स्टूडेंट विंग है.

विदेशी फंडिंग पर नजर
उन्होंने बताया कि जो मैसेज चले हैं, उनकी लिंकेज डेटा जो हमें मिल रहे हैं, उसे जांच में शामिल किया जाएगा. मामले में जो विदेशी फंडिंग की बात आ रही है, उसकी भी पूरी जांच की जा रही है, जरूरत पड़ी तो आर्थिक जांच एजेंसियों से सहयोग लेकर पूरे मामले की तह तक पहुंचा जाएगा. उन्होंने बताया कि ये साम्प्रदायिक तनाव और समाज में विघटन का प्रयास करने वाले संगठन हैं. इससे पहले भी राम मंदिर के भूमि पूजन में इस संगठन से जुड़े लोगों की गिरफ्तारी हुई थी. उन्होंने कहा कि जरवल कस्बे में एक लिंक डेवलप करने के बाद उससे चार लिंक डेवलप हुए, इस पूरी विस्तार से जांच की जा रही है.





टोल टैक्स से गिरफ्तार हुए चारों आरोपी
बता दें हाथरस मामले में पुलिस ने चंदपा थाने में जाति आधारित संघर्ष की साजिश रचने और सरकार की छवि को बिगाड़ने के प्रयास के आरोप में अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी (FIR) दर्ज की है. इस मामले में 4 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है. प्रदेश भर में इस संबंध में कुल 21 मुकदमें दर्ज किए गए हैं. दिल्‍ली से हाथरस जा रहे एक संगठन से जुड़े चार युवकों को पुलिस ने‍ गिरफ्तार कर लिया है. इनका संबंध PFI से बताया जा रहा है.

प्रदेश के कई जिलों में 6 मुकदमे
अपर पुलिस महानिदेशक (कानून-व्‍यवस्‍था) प्रशांत कुमार के मुताबिक, हाथरस प्रकरण में जिले के विभिन्‍न थाना क्षेत्रों में 6 मुकदमों के अलावा सोशल मीडिया के विभिन्‍न प्‍लेटफार्म पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी को लेकर बिजनौर, सहारनपुर, बुलंदशहर, प्रयागराज, हाथरस, अयोध्‍या, लखनऊ आयुक्तालय में कुल 13 मामले दर्ज किये गये हैं. दिल्‍ली से हाथरस की तरफ जा रहे चार संदिग्‍धों के खिलाफ निरोधात्‍मक कार्रवाई करते हुए उन्‍हें गिरफ़तार किया गया है. पुलिस का आरोप है कि ये लोग हाथरस के बहाने उत्‍तर प्रदेश को जलाने की साजिश में शामिल हैं.

पीएफआई और सीएफआई का लिंक
प्रशांत कुमार ने बताया कि सोमवार को पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ संदिग्‍ध व्‍यक्ति दिल्‍ली से हाथरस की तरफ जा रहे हैं. इस पर टोल प्‍लाजा के पास संदिग्‍ध वाहनों की चेकिंग की गई. स्विफ़्ट डिजायर गाड़ी में सवार चार युवकों को रोक कर पूछताछ की गई तो उनका संबंध पॉपुलर फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआई) एवं उसके सहयोगी संगठन कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया (सीएफआई) से होने की जानकारी मिली. पकड़े गये युवकों में मुजफ्फरनगर के नगला का रहने वाला अतीकुर्रहमान, मल्‍लपुरम का निवासी सिद़दीकी, बहराइच जिले के जरवल का निवासी मसूद अहमद और रामपुर जिले की कोतवाली क्षेत्र के रहने वाले आलम शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज