यूपी चुनाव: पांचवें चरण में हुआ 57.36 फीसदी मतदान

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण के तहत सोमवार को 11 जिलों की 51 विधानसभा सीटों पर वोट डाले गए. निर्वाचन आयोग के मुताबिक, इस चरण में कुल 57.36 फीसदी मतदान हुआ. इस तरह 51 विधानसभा क्षेत्रों के 617 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद हो गई.

News18Hindi
Updated: February 27, 2017, 10:00 PM IST
यूपी चुनाव: पांचवें चरण में हुआ 57.36 फीसदी मतदान
File Photo : PTI
News18Hindi
Updated: February 27, 2017, 10:00 PM IST
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के पांचवें चरण के तहत सोमवार को 11 जिलों की 51 विधानसभा सीटों पर वोट डाले गए. निर्वाचन आयोग के मुताबिक, इस चरण में कुल 57.36 फीसदी मतदान हुआ. इस तरह 51 विधानसभा क्षेत्रों के 617 प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में बंद हो गई.

निर्वाचन आयोग के अधिकारियों के मुताबिक, शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे. सुबह सात बजे शुरू हुआ मतदान शाम पांच बजे तक चला. मतदान का समय समाप्त होने के बाद भी कई पोलिंग बूथों पर मतदाताओं की लाइनें लगी देखी गईं.

पांचवें चरण की वोटिंग के लिए मतदान केंद्रों पर सुबह से ही मतदाता अपने हाथ में पहचानपत्र लिए कतारों में खड़े अपनी बारी की प्रतीक्षा करते दिखे. अधिकांश जगह कतारों में पुरुषों और महिलाओं की संख्या लगभग बराबर रही. इस चरण में 51 निर्वाचन क्षेत्रों में 617 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला होना था. अनुमान के मुताबिक इन क्षेत्रों में कुल 1.84 करोड़ से अधिक मतदाता रहते हैं.

polls 1

पांचवें चरण के तहत 10 जिलों के 51 निर्वाचन क्षेत्रों में 43 महिला उम्मीदवार चुनाव मैदान में थीं. ये जिले हैं- बहराइच, बस्ती, बलरामपुर, गोंडा, संत कबीरनगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सुल्तानपुर, फैजाबाद और अमेठी.

polls 2

अंबेडकरनगर की अलापुर निर्वाचन क्षेत्र में 27 फरवरी को ही मतदान होना था, लेकिन समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार की मौत के बाद चुनाव स्थगित कर कर दिया गया. इस सीट पर मतदान अब आठ मार्च को होगा.
Loading...

polls 3

पांचवें चरण के मतदान में अपने मताधिकार का प्रयोग करने वाले मतदाताओं में 99.50 लाख पुरुष और 85 लाख महिलाएं रहीं. इसके साथ ही 946 थर्ड जेंडर मतदाता थे.

इस चरण में भी मुख्य मुकाबला समाजवादी पार्टी-कांग्रेस गठबंधन, बहुजन समाज पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के बीच था.

सबसे रोचक मुकाबला अमेठी में देखा गया, जहां कांग्रेस नेता संजय सिंह की दोनों पत्नियां मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति का रास्ता रोकने के लिए खड़ी थीं. संजय सिंह की पहली पत्नी गरिमा सिंह जहां भाजपा के टिकट पर मैदान में थीं, वहीं दूसरी पत्नी अमिता सिंह गठबंधन को दरकिनार करते हुए कांग्रेस से चुनाव लड़ रही हैं.

अमेठी के अलावा दूसरी सबसे चर्चित सीट अयोध्या की रही. यहां पर सपा नेता व मंत्री पवन पांडेय इस बार फिर प्रत्याशी थे. बसपा से बज्मी सिद्दीकी और भाजपा से वेद प्रकाश गुप्ता चुनाव मैदान में थे.
First published: February 27, 2017, 7:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...