UP News : बलिया में टायर के सहारे जलाया जा रहा लावारिस शव, सामने आई भयावह तस्वीर

टायर के सहारे जलाया जा रहा लावारिस शव

टायर के सहारे जलाया जा रहा लावारिस शव

यूपी में नदियों में शव प्रवाहित होने की लगातार आ रही खबरों के बीच इसे रोकने के लिए योगी सरकार (Yogi Government) ने शवों के अंतिम संस्कार के 5000 रुपये उपलब्ध कराए जाने का फैसला लिया है, लेकिन बलिया की घटना कुछ और कह रही है.

  • Share this:

मनीष मिश्रा/ बलिया. कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते बीते कुछ महीनों में बेहद डरावनी तस्वीरें और खबरें सामने आईं. ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बलिया (Ballia) से भी सामने आया है,जहां टायर के सहारे लावारिस शव की अंत्येष्टि की जा रही है. पुलिस की मौजूदगी में टायर के सहारे लावारिस शव का दाह संस्कार किया जा रहा है. टायर के जरिये अंत्येष्टि का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

यह वीडियो फेफना थाना क्षेत्र के मालदे घाट का है, जहां नदी में बह कर आने वाले शवों का दाह संस्कार हो रहा है. लेकिन नदी में बह कर आने वाले लावारिस शवों के अंतिम संस्कार का नजारा बेहद शर्मनाक दिख रहा है. वायरल वीडियो में पुलिस वालों की मौजूदगी में एक लावारिस शवों का दाह संस्कार किया जा रहा है, लेकिन शवों की अंत्येष्टि में दाह संस्कार के दौरान टायर का सहारा लिया जा रहा है, ताकि जल्द से जल्द इस काम से छुट्टी मिल सके. फिलहाल मामला संज्ञान में आने के बाद एसपी विपिन टाडा ने दोषी 5 पुलिसकर्मी को निलंबित कर दिया है. विपिन टाडा ने बताया कि जांच के आदेश दिए गए है. आरोपी पुलिसकर्मी पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

UP: शामली के इस गांव में रहस्यमयी बीमारी का कहर, 5 लोगों की मौत से पसरा सन्नाटा

बता दें कि नदियों में शव प्रवाहित होने की लगातार आ रहीं खबरों के बीच इसे रोकने के लिए योगी सरकार ने शवों के अंतिम संस्कार के 5000 रुपये उपलब्ध कराए है. इस संबंध में अपर प्रमुख सचिव पंचायती राज ने आदेश जारी किया है. अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज मनोज कुमार सिंह ने कहा कि जानकारी मिली है कि कोरोना या अन्य किसी कारण से मृत्यु होने पर शवों को नदियों में बहा दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि इस संबंध में प्रधान अपने क्षेत्र में सुनिश्चित करें कि शव किसी भी हाल में नदी में प्रवाहित नहीं किए जाएं. साथ ही मृत व्यक्ति के परिजनों को अंत्येष्टि कराने के लिए 5 हजार रुपये प्रदान करने के साथ कोरोना संक्रमित का अंतिम संस्कार कोविड प्रोटोकाल के तहत ही किया जाए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज