बलियाः 500 साल पुरानी लाठी पूजा के आयोजन में पहुंचे 2 लाख श्रद्धालु

लखनेश्वर परगना को जजिया कर से मुक्त कराने की याद में आयोजित की जाती है 500 साल पुरानी लाठी पूजा.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 27, 2018, 4:04 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 27, 2018, 4:04 PM IST
बलिया जिले के रसड़ा कोतवाली के महाराजपुर गांव स्थित नाथ बाबा के मंदिर परिसर में रविवार को ऐतिहासिक लाठी पूजा का आयोजन किया गया. आपको बतातें चले कि इस लाठी पूजा में 150 से भी अधिक गांवों के तकरीबन 2 लाख लोग लाठियों के साथ मंदिर पहुंचकर विधिवत नाथ बाबा का पूजन किया. इसके बाद अपने शौर्य और कला का प्रदर्शन करते हुए एक-दूसरे गांव के लोगों के साथ मल्ल युद्ध किया.

मल्ल युद्ध को देखकर वहां मौजूद लाखों की भीड़ दांतों तले अंगुली दबाने को मजबूर हो जा रही थी. वहीं पूजा कमेटी द्वारा लगाए गए मेडिकल कैंप में मौजूद डॉक्टर लाठी पूजा के दौरान घायल भक्तों का प्राथमिक उपचार करते दिख रहे थे तो सेवादार भक्तों श्रद्धालुओं को तत्परता से शर्बत का पिलाते हुए दिख रहे थे.

आपको बताते चलें कि इस पूजा का इतिहास 500 साल से भी अधिक पुराना है. तब रसड़ा क्षेत्र लखनेश्वर परगना के नाम से जाना जाता था. उस समय मुगल शासक क्षेत्र की जनता से सख्ती के साथ जजिया कर वसूलते थे.

ये भी पढ़ें -

ग्रेटर नोएडा: 9वीं की छात्रा का अपहरण कर चलती कार में गैंगरेप


जानिए कब-कब मुलायम सिंह यादव ने दिखाया अखिलेश यादव को 'आईना'


इससे त्रस्त जनता ने नाथ बाबा से क्षेत्र को कर मुक्त करवाने की गुहार लगाई. तब नाथ बाबा ने क्षेत्र की जनता से वादा किया कि अब आगे से आपको जजिया कर नहीं देना होगा. फिर नाथ बाबा ने मुगलो से लाठियों के बल पर लड़कर सम्पूर्ण लखनेश्वर क्षेत्र को जजिया कर से मुक्त कराया.

उसी की याद में जनपद के सेंगर वंशीय क्षत्रिय समेत पूरे जनपद के लोग महान सन्त नाथ बाबा की याद में हर वर्ष लाठी पूजा का आयोजन करते हैं. वहीं आज के कार्यक्रम के मुख्य आयोजनकर्ता व क्षेत्रीय बसपा विधायक उमाशंकर सिंह ने वैदिक मंत्रोचार के साथ पूजा की शुरुआत कराई.

इस दौरान विधायक उमाशंकर सिंह ने नाथ बाबा पर आधारित एक स्मारिका श्री नाथ महिमा का भी विमोचन किया. वहीं कार्यक्रम के अंत में पूजा में शामिल भक्तों को विधायक उमाशंकर सिंह ने खुद अपने हाथों से प्रसाद के रूप मे आंटा व शुद्ध घी से बना स्पेशल रोट का वितरण किया जिसे पाकर भक्तगण बहुत गदगद दिखे. इस समारोह में हजारों श्रद्धालुओं के साथ-साथ एसडीएम रसड़ा के साथ बड़ी संख्या में इलाकाई पुलिस मौजूद रही.

रिपोर्ट - अमित कुमार श्रीवास्तव
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर