• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • जातीय जनगणना : यूपी के BJP MLA ने नीतीश कुमार पर साधा निशाना, बोले- राजनीतिक लाभ की खातिर समाज को न तोड़ें

जातीय जनगणना : यूपी के BJP MLA ने नीतीश कुमार पर साधा निशाना, बोले- राजनीतिक लाभ की खातिर समाज को न तोड़ें

जातिगत जनगणना को लेकर बिहार का सियासी पारा चढ़ा हुआ है.

जातिगत जनगणना को लेकर बिहार का सियासी पारा चढ़ा हुआ है.

Caste Census: जातिगत जनगणना को लेकर सोमवार को सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) समेत बिहार के 10 दलों के 11 नेताओं ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से मुलाकात की. इसको लेकर यूपी के बलिया जिले की बैरिया सीट से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह (BJP MLA Surendra Singh) ने नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. उन्‍होंने कहा कि वह राजनीति की खातिर ऐसा कर रहे हैं.

  • Share this:

    बलिया. उत्‍तर प्रदेश के बलिया जिले की बैरिया सीट से भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह (BJP MLA Surendra Singh)ने देश में जाति आधारित जनगणना की मांग करने को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Bihar CM Nitish Kumar) पर निशाना साधा है. उन्‍होंने कहा,’ सामाजिक न्याय की बात करने वाले नेता नीतीश कुमार तथा अन्य से मेरा निवेदन है कि यदि वास्तव में वह अपने गरीब पिछड़े वर्ग के भाइयों को न्याय दिलाना चाहते हैं तो सबसे पहले उन्हें स्वयं और अन्य संपन्न लोगों को आरक्षण कोटे से बाहर रहने की घोषणा करनी चाहिए.’

    इसके अलावा भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह कहा कि ऐसा करने से आरक्षण का लाभ पिछड़े वर्ग के गरीब लोगों को मिल सकेगा. उन्‍होंने साथ ही कहा कि राजनीतिक लाभ की खातिर समाज को तोड़ना देश के लिए उचित नहीं है.

    ये भी पढ़ें- आपके लिए इसका मतलब : क्षेत्रीय दलों का जातिगत जनगणना पर जोर क्यों? जानें OBC वोट बैंक का समीकरण

    जानें पूरा मामला
    गौरतलब है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अगुवाई में राज्य की 10 पार्टियों के नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की थी. इन सभी दलों ने जाति आधारित जनगणना की आवश्यकता पर एक स्वर में बात की और जोर देकर कहा था कि विभिन्न जातियों संबंधी आंकड़े प्रभावी विकास योजनाएं बनाने में मदद करेंगे क्योंकि उनमें से कई को उनकी वास्तविक जनसंख्या के अनुरूप अब तक लाभ नहीं मिला है. बिहार के सीएम नीतीश कुमार के साथ भाजपा और कांग्रेस सहित सभी प्रमुख दलों के प्रतिनिधि बैठक में शामिल हुए और उन्होंने मोदी को अपनी मांग सौंपी है.

    बिहार के सीएम ने दिया ये तर्क
    बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने जातीय जनगणना को लेकर कहा कि एक बार जनगणना हो जाएगी तो आबादी स्‍पष्‍ट हो जाएगी और फिर उसी आधार पर सरकारी कार्यक्रमों को फायदा मिलेगा. साथ ही कहा कि सही आंकड़ा नहीं होने की वजह से कई समूहों को सरकार की नीतियों को फायदा नहीं मिल पा रहा है. जबकि आरजेडी नेता तेजस्‍वी यादव ने कहा कि बिहार विधानसभा में दो बार जातीय जनगणना का प्रस्ताव पारित हुआ और आखिरी जातीय जनगणना 1931 में हुई. इससे पहले 10-10 साल में जातीय जनगणना होती रही. जनगणना से सही आंकड़े सामने आएंगे जिससे हम लोगों के लिए बजट में योजना बना सकते हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज