BJP MLA का विवादित बयान, मुस्लिम बहुसंख्यक हो जाएंगे तो भारत नहीं रहेगा प्रजातंत्र

भाजपा विधायक ने कहा कि भारत में जिस दिन मुस्लिम समाज बहुसंख्यक हो जाएगा उस दिन भारत में न तो प्रजातंत्र रहेगा और न ही भारत धर्मनिरपेक्ष रहेगा. एनआरसी के बारे में उन्होंने कहा कि भारत कोई अनाथालय नहीं है कि जहां कहीं से भी मुसलमान भारत में आकर बस जाएं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 1, 2018, 11:23 AM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 1, 2018, 11:23 AM IST
उत्तर प्रदेश के बलिया जिले के बैरिया विधानसभा से बीजेपी के विधायक सुरेंद्र सिंह ने एक बार फिर विवादित और भड़काऊ बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि भारत में जिस दिन मुस्लिम समाज बहुसंख्यक हो जाएगा उस दिन भारत में न तो प्रजातंत्र रहेगा और न ही भारत धर्मनिरपेक्ष रहेगा.

एनआरसी के बारे में उन्होंने कहा कि भारत कोई अनाथालय नहीं है कि जहां कहीं से भी मुसलमान भारत में आकर बस जाएं. भारत किसी भी देश के मुसलमानों या ईसाइयों के लिए अनाथालय नहीं बनने वाला है, उनको बाहर निकाला जाएगा.

विवादित बात कहते हुए विधायक ने कहा कि 1947 में ही भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित हो जाना चाहिए था लेकिन दुर्भाग्य है कि भारत की कुर्सी पर नेहरू जैसे कमजोर आत्मबल का व्यक्ति बैठ गया था. आत्मबल के धनी व्यक्ति सरदार वल्लभभाई पटेल बैठे होते तो उसी दिन भारत हिन्दू राष्ट्र घोषित हो गया होता.

अपने निजी दौरे पर मंगलवार देर रात बलिया के सदर कोतवाली क्षेत्र में पहुंचे बैरिया के चर्चित बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने भारत में रहने वाले मुसलमानों पर कड़ा प्रहार करते हुए एक के बाद एक कई विवादित बयान दे डाले. विधायक ने कहा कि भारत में धर्मनिरपेक्षता की भाव भाषा तभी तक है जब भारत में हिंदू बाहुल्य है.

ये भी पढ़ें - 

नोएडा प्राधिकरण ने 96 भवनों को किया असुरक्षित घोषित, एक सप्ताह में गिराने का निर्देश

यूपी में निवेश के बहाने 2019 के लक्ष्य पर निशाना साध रही योगी सरकार

यूपी में हर साल होगी TET और शिक्षकों की भर्ती, परीक्षा की तारीख भी पहले से होगी तय

राम मन्दिर के बारे में उन्होंने कहा कि मंदिर नहीं बनने से हिन्दुस्तान में हिन्दुओं की भावना को ठेस पहुंच रही है. अगर अयोध्या में राम का मंदिर नहीं बनेगा काशी में शिव का मंदिर नहीं बनेगा तो क्या पाकिस्तान व अरबिस्तान में बनेगा?

सुरेंद्र सिंह ने कहा कि भारत कोई अनाथालय नहीं है कि जहां कहीं से भी मुसलमान भारत में आकर बस जाएं. भारत किसी भी देश के मुसलमानों या ईसाइयों के लिए अनाथालय नहीं बनने वाला है. घुसपैठियों को बाहर निकाला जाएगा. मुसलमानों को प्रसन्न करने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियां कुछ भी कर सकती हैं. जब तक भारत में मुस्लिम परस्त भावना ताकतवर रहेगी हिंदू समाज दुर्बल रहेगा.

रिपोर्ट - अमित कुमार श्रीवास्तव
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर