Home /News /uttar-pradesh /

board exam paper leak case ballia jail administration not allow sp leaders meet journalists nodelsp

आजमगढ़ जेल में बंद पत्रकारों से मिलने पहुंचे सपा नेता बैरंग लौटे, जेल प्रशासन ने नहीं दी अनुमति

आजमगढ़ जेल में बंद पत्रकारों से मिलने पहुंचे सपा नेता बैरंग वापस लौटे.

आजमगढ़ जेल में बंद पत्रकारों से मिलने पहुंचे सपा नेता बैरंग वापस लौटे.

Azamgarh Jail: बलिया में बोर्ड परीक्षा के दौरान पेपर लीक मामले में आजमगढ़ जिला कारागार में बंद तीन पत्रकारों से सपा प्रतिनिधि मंडल मुलाकात करने पहुंचा, लेकिन जेल प्रशासन ने अनुमति नहीं दी. वह अखिलेश यादव के निर्देश पर पहुंचा था. मुलाकात नहीं होने पर सपा जिलाध्यक्ष हवलदार यादव ने प्रदेश सरकार पर लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या करने का आरोप लगाया है.

अधिक पढ़ें ...

आजमगढ़. बलिया में बोर्ड परीक्षा के दौरान पेपर लीक मामले (Board Exam Paper Leak Case) में आजमगढ़ जिला कारागार में बंद तीन पत्रकारों से मिलने के लिए सपा का एक प्रतिनिधि मंडल जिला कारागार पहुंचा. यहां पहुंचे प्रतिनिधिमंडल को जेल प्रशासन ने मिलने के अनुमति नहीं दी. इसके बाद सपा का प्रतिनिधि मंडल बैरंग वापस लौट आया, लेकिन इस दौरान सपा जिलाध्यक्ष हवलदार यादव ने प्रदेश सरकार पर लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या करने का आरोप लगाया है. प्रतिनिधिमंडल अखिलेश यादव के निर्देश पर जेल मं बंद पत्रकारों से मिलने पहुंचा था.

जानकारी के अनुसार सपा जिलाध्यक्ष हवलदार यादव के नेतृत्व में सपा विधायकों का प्रतिनिधिमण्डल बलिया में बोर्ड परीक्षा का पर्चा लीक मामले में गिरफ्तार पत्रकारों से मिलने सोमवार को जिला कारागार इटौरा पहुंचा. प्रतिनिधि मण्डल में निजामाबाद विधायक आलमबदी आजमी, गोपालपुर विधायक नफीस अहमद, सामयिक कारवां के संपादक डॉ रविंद्र नाथ राय, जिला उपाध्यक्ष विवेक सिंह को जेल अधीक्षक ने पत्रकारों से मिलने की अनुमति नहीं दी. जेल अधीक्षक ने बताया कि पत्रकारों से केवल उनके परिवार वाले ही मिल सकते हैं. जिसके बाद प्रतिनिधि मंडल वापस लौट गया.

मुलाकात नहीं होने पर सपा जिलाध्यक्ष हवलदार यादव ने कहा कि भाजपा सरकार लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या कर रही है. संविधान में प्रदत्त अधिकारों को कुचलकर हिटलर शाही के रास्ते पर चल रही है. कोई व्यक्ति सरकार की जन नीतियों का विरोध कर रहा है या शासन प्रशासन के भ्रष्टाचार की पोल खोल रहा है तो उसके विरुद्ध फर्जी मुकदमे दर्ज कर जेल में डाल दिया जा रहा है. अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को पुलिस प्रशासन के जरिए दमनकारी रवैया अपनाकर डराया धमकाया जा रहा है. बिना साक्ष्य व सबूत देखे बुलडोजर का भय पैदा कर दिया जा रहा है.

सपा नेताओं ने कहा कि आज देश में अघोषित आपात काल जैसे हालात हैं. पत्रकारिता जो चौथा स्तंभ माना गया है उसको भी स्वतंत्र नहीं रहने दिया जा रहा है.

इस मामले में बंद हैं पत्रकार
30 मार्च को यूपी बोर्ड अंग्रेजी का पेपर लीक हो गया था. इसी मामले में बलिया जिले के तीन पत्रकारों को जिला कारागार आजमगढ़ निरूद्ध किया गया है. इससे पहले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू भी पत्रकारों से मिलने जिला कारागार आजमगढ़ पहुंचे थे, लेकिन जेल प्रशासन ने मिलने नहीं दिया था.

Tags: Akhilesh yadav, Azamgarh news, UP news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर