लाइव टीवी

बलिया में बोले राज्यपाल- RSS एक राष्ट्रवादी संगठन है, स्वयंसेवक अपने ढंग से काम करते रहे हैं

News18Hindi
Updated: February 12, 2018, 3:44 PM IST
बलिया में बोले राज्यपाल- RSS एक राष्ट्रवादी संगठन है, स्वयंसेवक अपने ढंग से काम करते रहे हैं
राज्यपाल राम नाईक (File Photo)

राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि जो भाव आरएसएस के स्वयंसेवकों ने निर्माण किया है, उससे अगर राष्ट्र पर कितनी भी कठिनाई आ जाये वो एकजुट होकर उससे लड़ने व बलिदान होने के लिये तैयार रहते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2018, 3:44 PM IST
  • Share this:
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान को लेकर उठे विवाद के बीच बलिया में उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक ने कहा है कि संघ एक राष्ट्रवादी संगठन है. राज्यपाल ने बलिया में चितबड़ागांव थाना स्थित महरेव गांव मे पण्डित दिन दयाल उपाध्याय के मूर्ति का अनावरण करने आए थे. इस दौरान राज्यपाल ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कई वर्षो से कार्य कर रहा है और वो अपने ढंग से काम करते रहे हैं. जो भाव आरएसएस के स्वयंसेवकों ने निर्माण किया हुआ है, उससे अगर राष्ट्र पर कितनी भी कठिनाई आ जाये वो एकजुट होकर उससे लड़ने व बलिदान होने के लिये तैयार रहते हैं.

राम मन्दिर के मुद्दे पर राज्यपाल ने कहा कि मामला सुप्रीम कोर्ट मे विचाराधीन है. अगर दोनों पक्ष मिलकर कुछ समझौता करते हैं तो ठीक है. नहीं तो जो सुप्रीम कोर्ट निर्णय करेगी, उसे सबको मान्य होना चाहिये. प्रदेश मे हो रहे यूपो बोर्ड की परीक्षा को लेकर राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश मे नकल के साथ बड़े पैमाने पर काम चल रहा है. ये भी कहां कि ये बीमारी यूपी मे बड़े पैमाने पर है और समय-समय पर झूठे सर्टिफिकेट भी दिये गये हैं. लेकिन अब नकल बन्द हुई है, ये सराहनीय कार्य है.

बता दें कि आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत के संघ और सेना पर दिए बयान पर इस समय विवाद खड़ा हो गया है. बिहार के मुजफ्फरपुर में एक कार्यक्रम के दौरान संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा था, 'यह हमारी क्षमता है पर हम सैन्य संगठन नहीं, पारिवारिक संगठन हैं, लेकिन संघ में सेना जैसा अनुशासन है.

यदि देश को जरूरत पड़े और संविधान और कानून की इजाजत हो तो सेना तैयार करने में भले ही 6 माह का समय लग जाए, लेकिन संघ के स्वयंसेवक 3 दिनों में देश के लिए तैयार हो जाएंगे. इसके साथ ही उन्होंने भारत-चीन के युद्ध की चर्चा करते हुए कहा कि जब चीन ने हमला किया था तो उस समय संघ के स्वयंसेवक सीमा पर सेना के आने तक डटे रहे.

वहीं भागवत के इस बयान पर संघ की तरफ से भी आई सफाई में कहा गया कि भागवत के बयान को संदर्भ से हटकर पेश किया गया है. संघ की तरफ से जारी बयान में कहा गया, 'मोहन भागवत भारतीय सेना की तुलना आरएसएस से नहीं कर रहे थे. हकीकत में उन्होंने कहा था कि आर्मी अपने जवानों को तैयार करने में 6 महीने का समय लेती है. अगर आरएसएस ट्रेनिंग दे तो सैनिक 3 दिन में स्वयंसेवक भी बन सकते हैं.'

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बलिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2018, 3:44 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...