होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

Sikanderpur Assembly Seat: 2017 में रिकॉर्ड मतों से जीती थी भाजपा, इस बार किस ओर बह रही सियासी हवा

Sikanderpur Assembly Seat: 2017 में रिकॉर्ड मतों से जीती थी भाजपा, इस बार किस ओर बह रही सियासी हवा

UP Chunav 2022: सपा-बसपा के बीच भाजपा ने बनाई थी पकड़.

UP Chunav 2022: सपा-बसपा के बीच भाजपा ने बनाई थी पकड़.

Sikanderpur Assembly Seat Election: बलिया की सिकंदरपुर विधानसभा सीट पर सपा और बसपा के बीच ही सियासी जंग होती थी. 2017 में पहली बार भाजपा ने यहां परचम फहराया था. इससे पहले तक भाजपा कभी दूसरे नंबर की पार्टी भी नहीं बन पाई थी. इस सीट पर जीत की चाभी यादव, मुस्‍लिम और राजभर मतदाता के पास है.

अधिक पढ़ें ...

बलिया. सिकंदरपुर विधानसभा सीट पर 2017 के चुनाव में पहली बार भाजपा ने जीत दर्ज की थी. पार्टी प्रत्‍याशी संजय यादव ने निवर्तमान विधायक वह सपा प्रत्‍याशी जियाउद्दीन रिजवी को 23 हजार से अधिक वोटों से हराया था. इससे पहले तक भाजपा इस सीट पर किसी भी चुनाव में दूसरे नंबर तक की पार्टी नहीं बनी थी. अमूमन इस सीट पर सपा और बसपा के बीच ही लड़ाई होती थी.

बलिया जिले की सिकंदरपुर विधानसभा सीट पर पहला चुनाव 1962 में हुआ था. तब कांग्रेस जीती थी. इस सीट पर कुल चार बार कांग्रेस जीती है. मार्कंडेय ने आखिरी बार 1991 में कांग्रेस को जीत दिलाई थी. 1993 में सपा के दीनानाथ चौधरी ने कांग्रेस से यह सीट छीन ली. 1996 में सोशल एक्‍शन पार्टी के राजधारी ने कब्‍जा कर लिया. 2002 और 2012 में सपा के जियाउद्दीन रिजवी ने जीत दर्ज की थी. 2007 में यह सीट बसपा के पास चली गई थी.

2017 का परिणाम
भाजपा उम्‍मीदवार संजय यादव ने 69536 वोट पाकर जीत दर्ज की थी. दूसरे स्‍थान पर रहे सपा के जियाउद्दीन रिजवी को 45988 वोट मिले थे. 34968 वोट लेकर बसपा के राजनारायण तीसरे स्‍थान पर थे. 2.86 लाख वोटरों वाली सिकंदरपुर विधानसभा सीट पर क्षत्रिय वोटर करीब 30 हजार हैं. 25-25 हजार यादव, राजभर और मुस्‍लिम हैं. ब्राह्मण 16 हजार और भूमिहार मतदाताओं की संख्‍या लगभग 15 हजार है.

Tags: UP Election 2022, UP Vidhan sabha chunav

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर