बलिया : गंगा कटान से खतरे में दर्जन भर गांवों का अस्तित्व, PM मोदी को लिखा पत्र

गंगा कटान से खतरे में दर्जन भर गांवों का अस्तित्व (file photo)
गंगा कटान से खतरे में दर्जन भर गांवों का अस्तित्व (file photo)

पत्र में कटान प्रभावित हैबतपुर, मुबारकपुर, नसीराबाद, मालदेपुर, खोड़ी-पाकड़, दरामपुर, सरफ़ुद्दीनपुर, रामपुर महावल सहित दर्जन भर गांवों के पीड़ितों पर चर्चा की गई है. इन गांवों को गंगा नदी के कटान से बचाने हेतु युवा चेतना ने बलिया से लेकर दिल्ली तक आंदोलन किया.

  • Share this:
बलिया. उत्तर प्रदेश के बलिया (Ballia) जिले में दर्जन भर गांवों का अस्तित्व गंगा नदी (River Ganga) के कटान से खतरे में है. युवा चेतना की ने कटान पीड़ितों की समस्या को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को पत्र लिखा है. पत्र में कटान प्रभावित हैबतपुर, मुबारकपुर, नसीराबाद, मालदेपुर, खोड़ी-पाकड़, दरामपुर, सरफ़ुद्दीनपुर, रामपुर महावल सहित दर्जन भर गांवों के पीड़ितों पर चर्चा की गई है. इन गांवों को गंगा नदी के कटान से बचाने हेतु युवा चेतना ने बलिया से लेकर दिल्ली तक आंदोलन किया. लॉकडाउन के पूर्व नई दिल्ली में केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र शेखावत से स्वामी अभिषेक ब्रह्मचारी और युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित सिंह ने मिलकर दर्जन भर गांवों को बचाने हेतु बांध निर्माण की मांग की थी.

युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजे गए पत्र में कहा है कि आपने 1 मई 2016 को बलिया जिला के हैबतपुर गांव से ही उज्ज्वला योजना की शुरुआत की थी. आप इस गांव में दो बार आ चुके हैं और आज यह गांव दर्जन भर गांवों के साथ अपने अस्तित्व के संकट से जूझ रहा है. मानसून आने वाला है और अगर बाढ़ आ गई तो फिर इन गांवों का क्या होगा. .

युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित सिंह
युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित सिंह




रोहित सिंह ने कहा की जनप्रतिनिधि कुंभकर्णी नींद में सोए हुए हैं, अगर बांध निर्माण नहीं हुआ तो जन जीवन अस्त-व्यस्त हो जाएगा. उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के खत्म होने के बाद गांव-घर बचाओ यात्रा पर निकलेंगे. सिंह ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अविलंब हस्तक्षेप कर बांध निर्माण हेतु पहल करना चाहिए. बता दें कि युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र ट्वीट करने के बाद समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के नेताओं ने भी ट्विटर पर समर्थन दिया है.
ये भी पढे़ं:

लॉकडाउन में तरबूज की मिठास हुई फीकी, काशी में 75 फीसदी घटा कारोबार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज