लाइव टीवी

बांदा: बेटों से नाराज बुजुर्ग ने ट्रेन के आगे कूद कर जान देने का किया प्रयास, राहगीरों ने बचाया

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 29, 2019, 7:02 PM IST
बांदा: बेटों से नाराज बुजुर्ग ने ट्रेन के आगे कूद कर जान देने का किया प्रयास, राहगीरों ने बचाया
बांदा में बुजुर्ग ने ट्रेन के आगे कूद कर जान देने का प्रयास किया (सांकेतिक तस्वीर)

बुजुर्ग बुद्धराज शहर के क्यूटरा रेलवे क्रॉसिंग (Cutera Railway Crossing) के पास जाकर पटरी के बीचो-बीच लेट गए. वहां से गुजर रहे राहगीरों ने उन्हें वहां से हटाया लेकिन तब तक सामने रेलवे ट्रैक (railway track) से आ रही मालगाड़ी (goods train) की चपेट में आने से बुजुर्ग के हाथ की अंगुलियां कट गई. उन्हें जिला अस्पताल (District Hospital) में भर्ती कराया गया

  • Share this:
बांदा. उत्तर प्रदेश के बांदा जनपद में मानवता को शर्मसार करने वाला वाकया सामने आया है. यहां कलयुगी बेटों से परेशान एक बुजुर्ग ने ट्रेन से कट कर जान देने का प्रयास किया हालांकि वहां मौजूद राहगीरों ने उसे बचा लिया लेकिन ट्रेन की चपेट में आने से बुजुर्ग के हाथ की अंगुलियां कट गईं. बुजुर्ग को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

बुढ़ापे में कोई मेरी सेवा नहीं करता!
रिपोर्ट के मुताबिक 3 जवान बेटों से परेशान बुजुर्ग ने आत्महत्या कर अपने जीवन लीला समाप्त करने की ठान ली. बुजुर्ग का कहना है कि उसके बेटे उसका ध्यान नहीं रखते, बीमार होने पर इलाज भी नहीं करवाते और उसके साथ बदसलूकी करते हैं इसलिए वो जीना नहीं चाहता. बेटों से नाराज बुजुर्ग बुद्धराज आत्महत्या करने के लिए अपने गांव अछरौड से 20 किलोमीटर चलकर बांदा मुख्यालय पहुंचे और ट्रेन की पटरी पर लेट कर मरने की ठान ली.

train, suicide
बेटों से नाराज बजुर्ग बुद्धराज


बुजुर्ग बुद्धराज शहर के क्यूटरा रेलवे क्रॉसिंग के पास जाकर पटरी के बीचो-बीच लेट गए. वहां से गुजर रहे राहगीरों ने जब बुजुर्ग को पटरी पर लेटे देखा तो दौड़ कर उन्हें वहां से हटाया लेकिन तब तक सामने रेलवे ट्रैक से आ रही मालगाड़ी की चपेट में आने से बुजुर्ग के हाथ की अंगुलियां कट गई. राहगीरों ने आनन-फानन में बुजुर्ग को अस्पताल में भर्ती कराया लेकिन घायल बुजुर्ग सबसे यही कहता रहा 'मुझे छोड़ दो, मैं अब नही जीना चाहता, तीन बेटों को पाल-पोस के बड़ा कर दिया लेकिन अब बुढ़ापे में कोई मेरी सेवा नहीं करता और न इलाज कराता है तो मैं जी कर क्या करूंगा.

हालांकि ग्रामीणों से सूचना मिलने के बाद अस्पताल पहुंचे तीनों बेटों ने बुजुर्ग के आरोपों से इंकार करते हुए उलटा यह कहा कि उनके पिता इस उम्र में भी घुड़सवारी करने से बाज नहीं आते कुछ दिन पहले ही घोड़े से गिरने पर इनको कमर में चोट लग गई जिसके बाद से उन्हें लगातार शारीरिक रूप से परेशानी है. वो घर से बांदा के मंदिर जाने की बात कहकर निकले थे. जिला अस्पताल के डॉ. विनीत सचान के मुताबिक राहगीरों ने लगभग 60 वर्ष से वृद्ध को घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती कराया था और बता रहे थे कि वह ट्रेन के सामने कूदकर आत्महत्या करने गया था. घायल को अस्पताल में भर्ती कर लिया गया फिलहाल वह खतरे से बाहर है.

ये भी पढ़ें - गोरखपुर में तीन सौ शस्त्र लाइसेंस फर्जी, दो हजार संदेह के घेरे में !

योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को बहुत सुधारा है: अमित शाह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 7:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर