UP: बच्ची से रेप के मामले में 16 महीने बाद आया फैसला, कोर्ट ने सुनाई 20 साल कैद की सजा

कोर्ट ने 22 वर्षीय युवक भरत आरख को शनिवार को 20 साल कैद की सजा सुनाई (सांकेतिक फोटो)
कोर्ट ने 22 वर्षीय युवक भरत आरख को शनिवार को 20 साल कैद की सजा सुनाई (सांकेतिक फोटो)

"न्यायालय (Court) ने अपने 13 पृष्‍ठ के फैसले में यह भी कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण मुआवजा योजना के तहत शासन से पीड़िता को मुआवजा दिलाकर अदालत को सूचित करें."

  • Share this:



बांदा. उत्तर प्रदेश में बांदा (Banda) की एक अदालत ने शनिवार को 16 माह पुराने में मामले में छह साल की बच्ची से बलात्कार (Rape) के दोषी पाए गए एक युवक को 20 साल कैद की सजा (20 years Imprisonment) सुनाई और उस पर 20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. सहायक लोक अभियोजक (एडीजीसी) रामसुफल सिंह ने बताया, "अभियोजन और बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं की दलीलें सुनने के बाद अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश की अदालत ने बच्ची से बलात्कार करने का दोषी पाए जाने पर 22 वर्षीय युवक भरत आरख को शनिवार को 20 साल कैद की सजा सुनाई और उस पर 20 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है."

सिंह ने बताया, "24 जून 2019 को देहात कोतवाली क्षेत्र के एक गांव की महिला ने पुलिस में प्राथमिकी दर्ज कराई थी कि उसकी बच्ची खेत से बकरी चराकर घर लौट रही थी, तभी रास्ते से पड़ोसी युवक भरत आरख उसे टीवी देखने के बहाने अपने घर ले गया और वहां बच्ची के साथ बलात्कार किया." उन्होंने बताया कि "महिला अपनी बेटी को ढूंढते हुए जब युवक के घर गयी तो उन्हें (मां, बेटी को) जान से मारने की धमकी देकर भाग गया था. इस सिलसिले में पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा-376 (दुष्‍कर्म) और अन्‍य सुसंगत धाराओं समेत पॉक्सो अधिनियम की धारा-5/6 के तहत अभियोग पंजीकृत करने के बाद उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था, तब से अब तक जेल में है."
एडीजीसी ने बताया, "न्यायालय ने अपने 13 पृष्‍ठ के फैसले में यह भी कहा कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण मुआवजा योजना के तहत शासन से पीड़िता को मुआवजा दिलाकर अदालत को सूचित करें."



दोषी को मौत की सजा सुनाई थी
बता दें कि कल खबर सामने आई थी कि बांदा जिले की एक अदालत ने एक दंपत्ति और उनके दो बच्चों की हत्या के दोषी को मौत की सजा सुनाई है. साथ ही उस पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है.  जिले की फौजदारी अदालत के सहायक लोक अभियोजक (एडीजीसी) आशुतोष मिश्रा ने शनिवार को कहा, "अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (एडीजे) की अदालत ने अभियोजन और बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं की दलीलें सुनने के बाद 31 जनवरी, 2018 को तड़के करीब पांच बजे शहर कोतवाली क्षेत्र में कारोबारी महादेव यादव (Mahadev Yadav) (40), उसकी पत्नी चुन्नी (35) और दो बेटों पवन (10) एवं राजकुमार (आठ) की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या करने के मामले में दोषी पाए गए महादेव के रिश्ते के भाई अमित उर्फ गोलू यादव को शुक्रवार को मौत की सजा सुनाई और उस पर 50 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है."


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज