बांदा की महिला पुलिस बनी देश के लिए मिसाल, यूं ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम की संभालती हैं कमान

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 10, 2019, 2:38 PM IST
बांदा की महिला पुलिस बनी देश के लिए मिसाल, यूं ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम की संभालती हैं कमान
बांदा की महिला पुलिस संभालेगी ये बड़ी जिम्‍मेदारी. (फाइल फोटो)

महिला पुलिस कर्मियों में फिलहाल 3 महिला इंस्पेक्टर और 50 से अधिक महिला सिपाहियों को ड्यूटी दी गयी है.

  • Share this:
उत्तर प्रदेश का बांदा शहर संभवत: देश का ऐसा पहला शहर बन गया हैं जहां के पूरे ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम की कमान महिलाओं के हाथों में सौंप दी गयी है. कई दिनों के परीक्षण के बाद इसे रविवार से एसपी गणेश साहा के निर्देश पर पूरी तरह से लागू कर दिया गया है. शहर के चौराहों में ट्रैफिक व्यवस्था सुचारू बनाना हो या यातायात सुरक्षा नियमों के प्रति लोगों को जागरूक करना, चालान काटना या हेलमेट और सीट बेल्ट लगवाना. यह पूरा काम अब महिला पुलिस के कंधों पर ही आ गया है.

पुलिस महकमे का भी मानना है कि महिला पुलिस को यह जिम्मेदारी मिलने पर ट्रैफिक व्यवस्था में सुधार होगा और लोग ट्रैफिक नियम तोड़ने में शर्म महसूस करेंगे.

महिलाएं पढ़ा रही हैं ये पाठ
फिलहाल यातायात व्यवस्था के साथ महिला पुलिस कर्मी लोगों को हेलमेट और सीट बेल्ट पहनने का पाठ भी पढ़ा रही हैं और न मानने वालों पर जुर्माना किया जा रहा है. महिला पुलिस कर्मियों में फिलहाल 3 महिला इंस्पेक्टर और 50 से अधिक महिला सिपाहियों को ड्यूटी दी गयी है. सभी महिला पुलिसकर्मियों को नए टॉर्च, मास्क, ग्लव्स, आईकार्ड और वाहन चालान रजिस्टर दिए गए हैं.

शहर के 7 ट्रैफिक प्‍वाइंट्स से होगी व्‍यवस्‍था
शहर के 7 ट्रैफिक प्‍वाइंट्स से कमान संभालते ही महिला पुलिस कर्मियों ने ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले वाहन चालकों के खूब चालान काटे, चेकिंग से भागने वालों को फटकार लगाई, परिवार के साथ जा रहे लोगों को भी आगे से हेलमेट और सीट बेल्ट लगाकर सड़क पर निकलने की साफ-साफ हिदायत दी. इस दौरान महिलाओं, पुलिसकर्मियों और अक्सर बच जाने वाले वाहन चालकों को भी नहीं बख्शा गया. हाथ जोड़कर पहली बार चेकिंग में फंसने वालों ने महिला पुलिस से रहमदिली की उम्मीद जताई तो चेतावनी देकर उन्हें छोड़ दिया गया, कुछ ऐसे भी थे जो दोबारा फिर उसी गलती में पुलिस के हत्थे चढ़ गए.

बहरहाल, नई व्यवस्था से पब्लिक और पुलिस दोनों में जोश है. इतनी बड़ी संख्या में महिला पुलिस को चौराहों में देख तमाशबीनों का भी जमावड़ा लगा रहा. शहर सात ट्रैफिक प्‍वाइंट्स महाराणा प्रताप चौराहा, कालू कुआं चौराहा, जिला अस्पताल, खूंटी चौराहा, बलखंडी नाका, डिग्री कॉलेज रोड और पुलिस लाइन रोड शामिल हैं. जरूरत के हिसाब से चेकिंग प्‍वाइंट्स को घटाया और बढ़ाया जा सकेगा.
Loading...

महिलाओं को ये है उम्‍मीद
महिला इंस्पेक्टर ने कहा,'उन्हें उम्मीद है कि अब शहर की व्यवस्था में सुधार आएगा. शायद ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को एक महिला कर्मी के बार बार टोकने का फर्क पड़े और वह सुधर जाएं.'
जबकि एक अन्य महिला पुलिस दरोगा ने कहा,'हमारे अधिकारियों ने जो हम सभी महिला पुलिसकर्मियों पर भरोसा जताया है. हम उस पर खरा उतरेंगे और यह हमारे लिए गर्व की बात है कि अब महिलाएं पूरे शहर की ट्रैफिक व्यवस्था का संचालन करेंगी.

ये भी पढ़ें:

अलीगढ़ मामले पर बोले DGP- किसी भी दशा में बच्चियों के खिलाफ अपराध पर पाएंगे काबू

कुशीनगर: नाबालिग को किडनैप कर आधा दर्जन लोगों ने किया गैंगरेप

अगर BJP धारा 370 खत्म करेगी तो हम NDA में रहते हुए इसका विरोध करेंगे: जेडीयू

ठेले पर भुट्टा देख अचानक रुके अखिलेश यादव, बोले- बहुत महंगा दे रहे हो, कहां से लाए हो

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 10, 2019, 2:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...