Lockdown: यूपी के बांदा में टूटा सोशल डिस्टेंसिंग, जन-धन खाते का पैसा निकालने बैंकों में उमड़ी भीड़

बांदा जनपद में बैंकों के बाहर लगी भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं हो रहा अनुपालन
बांदा जनपद में बैंकों के बाहर लगी भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं हो रहा अनुपालन

जैसे-जैसे लोगों के खातों में सरकार द्वारा भेजी जा रही सहयोग राशि क्रेडिट हो रही है लोगों की भीड़ बैंकों के बाहर जुटनी शुरू हो गई है. ऐसे में न तो सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जा रहा और न लॉकडाउन (Lockdown) का.

  • Share this:
बांदा. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से बचाव के चलते देशव्यापी लॉकडाउन (Lockdown) किया गया है. वैश्विक महामारी (COVID-19) की चपेट में इस वक्त पूरा देश आ चुका है. ऐसे में सरकार व पूरी प्रशासनिक मशीनरी शिद्दत से इस आपदा से निपटने में जुटी है. सरकार द्वारा आम लोगों को इस संकट में असुविधा न हो इसका पूरा ध्यान रखने का प्रयास किया जा रहा है. लेकिन यूपी के बांदा में डीबीटी (DBT) के जरिये ट्रांसफर की जाने वाली सरकारी सहायता की राशि निकालने में सोशल डिस्टेंसिंग (Social distancing) और लॉकडाउन का पालन नहीं हो रहा है.

जन-धन खातों से पैसे निकालने के लिए जुट रही भीड़

दरअसल लॉकडाउन के चलते सबसे बड़ा संकट दिहाड़ी मजदूरों व रोज कमाने-खाने वालों के सामने खड़ा हुआ है. ऐसे में सरकार उनके भोजन, राशन के साथ ही साथ डीबीटी के जरिये जन-धन खातों में मदद राशि भी भेज रही है. लेकिन जैसे-जैसे लोगों के खातों में ये सहयोग राशि क्रेडिट हो रही है, लोग अपने पैसे निकालने के लिए बैंक पहुंच रहे हैं. इससे बैंकों के बाहर भीड़ जुटनी शुरू हो गई है. ऐसे में न तो सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जा रहा है और न ही लॉकडाउन का.



अन्य जनपदों की तरह बांदा जनपद में भी दिहाड़ी मजदूरों व जरूरतमंदों के खातों में डीबीटी की रकम ट्रांसफर होने के बाद बैंकों के बाहर जुटी इनकी भीड़ को नियंत्रित करना पुलिस व प्रशासन के लिए खासी चुनौती बन गया है. कई जिलों में तो पुलिस को इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई भी करनी पड़ी यहां तक कि बैंक के बाहर भीड़ लगाने वाली महिलाओं को जेल भी भेजना पड़ा. लेकिन बांदा पुलिस फिलहाल बैंकों के बाहर जुटी भीड़ को लेकर लापरवाह बनी हुई है. हालांकि आर्यावर्त बैंक के मैनेजर विजय सिंह का कहना है कि बैंक में आने वाले हर ग्राहक का हाथ सेनेटाइज कराया जा रहा रहा है, लेकिन बैंकों के बाहर लगी लाइन कुछ और ही कहानी बयां कर रही है.
ये भी पढ़ें- Corona warriors: जब छोटी बच्ची ने कहा - हम यहां अपना पैसा मोदी जी को देने आए हैं...


COVID-19: UP में लॉकडाउन तोड़ने पर 11550 FIR दर्ज, बतौर जुर्माना वसूले 5.31 करोड़ रुपये

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज