लाइव टीवी
Elec-widget

बिजली कटौती से परेशान किसानों ने किया चक्का जाम, बोले-सैकड़ों बीघा जमीन पर नहीं बो पा रहे फसल !

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 29, 2019, 4:05 PM IST
बिजली कटौती से परेशान किसानों ने किया चक्का जाम, बोले-सैकड़ों बीघा जमीन पर नहीं बो पा रहे फसल !
बिजली कटौती से परेशान हजारों किसानों ने बांदा-हमीरपुर रोड पर लगाया जाम, सौंपा ज्ञापन

बिजली विभाग (Electricity Department) के लापरवाह जेई (Junior engineer) के खिलाफ आक्रोशित किसानों (farmers) को समझाने पहुंचे तहसीलदार ने भी जब जेई को वहां बुलाया और मामले की जानकारी लेनी चाही तो वो न तो वहां आए और न ही कोई जानकारी दी. तहसीलदार ने डीएम बांदा (DM Banda) को लिखित शिकायत भेजी है....

  • Share this:
बांदा. यूपी के बांदा जनपद (Banda district) में बिजली कटौती से परेशान किसानों (Farmers) ने बांदा-हमीरपुर रोड (Banda-Hamirpur Road) पर घंटों तक जाम लगाकर कर हंगामा किया. किसानों का कहना है कि बिजली कटौती (Power cut) के चलते वो समय से फसल नहीं बो पा रहे हैं. किसानों के प्रदर्शन के चलते सड़क पर दूर तक वाहनों की लाइन लग गई. किसानों के हंगामे की सूचना पाकर पुलिस और प्रशासन (Police and Administration) के अधिकारी मौके पर पहुंचे और किसानों को समझाने का प्रयास किया.

गौरतलब है कि फसल बुवाई के समय बिजली न मिलने से परेशान किसानों का गुस्सा बिजली विभाग के खिलाफ फूट पड़ा. जिसके बाद पैलानी डेरा में सैकड़ों किसानों ने सड़क जाम करके बिजली विभाग (Electricity Department) के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. किसानों का कहना है कि नाका खेड़ा बिजली सब स्टेशन (Naka Kheda Power Sub Station) से 42 गांव को बिजली मिलती है जिसमें कानाखेड़ा, पिपरोदर, गलौली, नरौली, बड़ा गांव, मरोली कला, शेखूपुर, साबादा, महावरा, चंदवारा, इछावर, तंगा मऊ, गज पुरवा में महीनों से खेतों की सिंचाई और निजी उपयोग के लिए महज 5 से 6 घंटे ही बिजली मिलती है जिसके चलते वो खेत में पानी नहीं लगा पा रहे हैं. किसानों का कहना कि समय से पानी न मिलने के चलते सैकड़ों बीघा जमीन परती पड़ गई है.

farmers protest, banda, power cut
बांदा में आक्रोशित किसानों ने घंटों लगाया जाम


तहसीलदार के बुलाने पर नहीं आए जेई !

आक्रोशित किसानों का कहना है कि समय से बिजली न मिलने और कोई सुनवाई न होने के चलते उन्होंने पैलानी डेरा सड़क मार्ग पर जाम लगाया. किसानों के हंगामे की सूचना मिलने के बाद तहसीलदार और पुलिस टीम वहां पहुंची. किसानों ने ज्ञापन के माध्यम से तहसीलदार पैलानी (Tehsildar pailani) को मामले से अवगत कराया. किसानों का आरोप है कि बिजली विभाग के जेई को उन्होंने कई बार समस्या बताई लेकिन उन्होंने इस पर ध्यान नहीं दिया. जाम खुलवाने पहुंचे तहसीलदार ने बिजली विभाग के जेई को मामले की जानकारी के लिए बुलाया लेकिन जेई वहां नहीं पहंचे.

तहसीलदार राजीव निगम ने इस मसले पर जानकारी देते हुए बताया कि किसान जेई की कार्यप्रणाली से नाराज हैं. उन्होंने भी जब जेई से जानकारी मांगी तो उसने न तो कोई जानकारी दी और ना ही मौके पर पहुंचा. तहसीलदार का कहना है कि वह लगभग दो घंटे किसानों के साथ मौजूद रहे लेकिन लापरवाह जेई ने उन्हें भी कोई सही जवाब नहीं दिया. तहसीलदार ने कहा कि वो लापरवाह जेई की शिकायत लिखित रूप से डीएम बांदा को भेजेंगे.

ये भी पढ़ें-  गोरखपुर में तीन सौ शस्त्र लाइसेंस फर्जी, दो हजार संदेह के घेरे में !
Loading...



सोनभद्र मिड डे मील अनियमितता पर अखिलेश का ट्वीट- दिखावटी सरकार, मिलावटी पोषण-आहार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 3:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...