'विधायक ही नहीं सदियों से इस मंदिर में महिलाओं का प्रवेश है प्रतिबंधित'

मंदिर के पुजारी धरमवीर कहते हैं कि ये मंदिर महाभारत काल में पांडवों के गुरु धूम्र ऋषि का है. यहीं ऋषि के आश्रम में रुककर पांचो पांडवों ने अपनी मां कुंती और अपनी पत्नी द्रोपदी के साथ अज्ञातवास का कुछ समय काटा था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2018, 7:24 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 30, 2018, 7:24 PM IST
यूपी के हमीरपुर जिले में बीजेपी की महिला विधायक मनीषा अनुरागी के एक मंदिर में प्रवेश पर एक बड़ा बखेड़ा खड़ा हो गया है. हमीरपुर स्थित धूम्र ऋषि के मंदिर में विधायक दर्शन करने गईं तो उनके लौटने के बाद मंदिर को गंगाजल से साफ किया गया. गांववालों का साफ कहना है कि सदियों से इस मंदिर में महिलाओं का प्रवेश प्रतिबंधित है.

महिलाएं यहां कभी भी दर्शन के लिए अन्दर नहीं गईं. इसी के चलते ग्रामीणों ने बीजेपी विधायक के जाने के बाद  मन्दिर को गंगाजल से शुद्ध करते हुए धूम ऋषि की प्रतिमा को इलाहाबाद संगम में ले जाकर स्नान करा कर शुद्धिकरण किया. ग्रामीणों की मान्यता है कि अगर धोखे से भी कोई महिला मंदिर के अन्दर पहुंचकर धूम्र ऋषि के दर्शन कर लेगी तो धूम ऋषि रुष्ट हो जायेंगे और क्षेत्र में दैवीय आपदाए आ जाएंगीं.

इस कारण महिलाओं मंदिर में जाना है प्रतिबंधित
मंदिर के पुजारी धरमवीर कहते हैं कि ये मंदिर महाभारत काल में पांडवों के गुरु धूम्र ऋषि का है. यहीं ऋषि के आश्रम में रुककर पांचो पांडवों ने अपनी मां कुंती और अपनी पत्नी द्रोपदी के साथ अज्ञातवास का कुछ समय काटा था. कहा जाता है कि धूम्र ऋषि ने कभी भी कुंती और द्रौपदी को अपनी कुटिया में आने नहीं दिया था.

ऋषि के यहां से जाने के बाद ग्रामीणों ने यहां एक छोटे से मंदिर का निर्माण कर दिया और महिलाओं का प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित कर दिया. मान्यता यह भी है कि इस मंदिर में आए श्रद्धालु की हर मुराद पूरी होती है. इसी के चलते यहां दूर-दूर से श्रद्धालु भी आते हैं लेकिन सिर्फ पुरुष ही मंदिर के अन्दर दर्शन के लिए जाते हैं. महिलाओं को सिर्फ बाहर से दर्शन करने की इजाजत है.

मंदिर का शुद्धिकरण किया तो अच्छी बारिश हो रही: ग्रामीण
उधर महिला विधायक के जाने के बाद ग्रामीणों ने मंदिर को गंगाजल से शुद्ध किया. गांव के ही लाल मोहन कहते हैं कि इस मंदिर में महिलाओं का प्रवेश पूरी तरह प्रतिबंधित है. महिला विधायक के मंदिर में जाने के बाद से गांव का माहौल ख़राब हो गया था. बारिश भी नहीं हो रही थी लेकिन जब से उन्होंने मंदिर का शुद्धिकरण किया है, क्षेत्र में अच्छी बारिश हो रही है.

पता चला कि महिला विधायक द्वारा मंदिर में दर्शन के बाद ग्रामीणों ने गांव में मुनादी करवाते हुए पूरे गांव को इक्कट्ठा किया. इसके बाद मसले पर पंचों की सहमति से धूम ऋषि की मूर्ति को फूलों के आसन में इलाहबाद में संगम स्नान कराकर मंदिर का गंगा जल से शुद्धिकरण किया.

(रिपोर्ट: उमाशंकर मिश्रा)

ये भी पढ़ें: 
बीजेपी की महिला विधायक ने की पूजा तो गंगाजल से धुलवाया पूरा मंदिर

यूपी के कई जिलों में प्राइमरी स्कूलों के 'इस्लामिया' नामकरण से मचा हड़कंप
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर