अंधविश्वास! गांववालों के सामने जिंदा समाधि लेने जा रहा था बाबा, पुलिस ने बचाई जान

बाबा को समाधि लेते हुए देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोग जमा हुए. थे. बाकायदा कब्र भी खोद दी गई थी. लेकिन पुलिस ने ऐन वक्त पर पूरे आयोजन को रुकवाते हुए बाबा को हिरासत में ले लिया.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2018, 2:06 PM IST
अंधविश्वास! गांववालों के सामने जिंदा समाधि लेने जा रहा था बाबा, पुलिस ने बचाई जान
हमीरपुर में समाधि लेने जा रहे फक्कड़ बाबा को पुलिस ने बचाया
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2018, 2:06 PM IST
यूपी के हमीरपुर जिले में समाधि लेने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. अंधविश्वास और आस्था के बीच जूझ रहे एक वृद्ध बाबा ने परमात्मा से मिलन की चाह में जिंदा ही समाधि लेने की कोशिश की. लेकीन गनीमत रही कि पुलिस को इसकी सूचना मिल गई. मौके पर पहुंची पुलिस ने बाबा को न केवल समाधि लेने से रोका बल्कि वहां चल रही तैयारियों को भी रुकवा दिया. बाबा को समाधि लेते हुए देखने के लिए सैकड़ों की संख्या में लोग जमा हुए. थे. बाकायदा कब्र भी खोद दी गई थी. लेकिन पुलिस ने ऐन वक्त पर पूरे आयोजन को रुकवाते हुए बाबा को हिरासत में ले लिया.

दरअसल, मामला हमीरपुर जिले के जरिया थाना क्षेत्र के गोहांड ब्लाक स्थित कैलाश नगर का है, जहां पर झाड़ी नामक धर्मिक स्थान है. यहीं पर 80 वर्षीय फक्कड़ बाबा उर्फ ठाकुर दास पिछले 35 सालों से घर से अलग रह रहे हैं. फक्कड़ बाबा की पूजा पाठ से कई लोगों के बिगड़े काम बनते गए. जिसके बाद सैकड़ों लोग उनके भक्त बन गए. एक दिन अचानक ही फक्कड़ बाबा को परमात्मा से मिलने की सनक सवार हुई. यह इच्छा उन्होंने अपने भक्तों के सामने रखी. फिर क्या था भक्तों ने बुधवार सुबह से ही बाबा जी के लिए कब्र खोदनी शुरू कर दी. लेकिन इसकी सूचना पुलिस को मिल गई. पुलिस के समय से पहुंचने से बाबा की इच्छा पर पानी फिर गया.

भक्तों ने खोद दी थी कब्र


बाबा के जिंदा समाधि लेने की खबर मिलते ही मौके पर कई थानों की फोर्स पहुंच गई. पुलिस ने बाबा को सम्मान के साथ भक्तों के बीच से निकालकर थाने पहुंचे. जहां उन्हें समझा बुझाकर उनकी समाधि लेने की सनक को शांत करवाया. इसके बाद उनके परिजनों को बुलाकर बाबा को सौंप दिया.

अंधविश्वास और आस्था के इस खेल में पूरा का पूरा गांव तमाशाई बन गया. भक्तों ने खुद बाबा की सनक को पूरा करने के लिये कब्र खोद डाली. लेकीन समय से पहुंची पुलिस ने बाबा को जिंदा समाधि लेने से रोक कर एक आत्महत्या होने से बचा लिया.

(रिपोर्ट : उमाशंकर मिश्रा)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर