Banda news

बांदा

अपना जिला चुनें

Banda News: डॉन मुख्तार अंसारी की अचानक तबीयत बिगड़ी, गंभीर हालत में मेडिकल कॉलेज में कराया गया भर्ती

Banda News: डॉन मुख्तार अंसारी की बिगड़ी तबीयत (File photo)

Banda News: डॉन मुख्तार अंसारी की बिगड़ी तबीयत (File photo)

Mukhtar Ansari News: बांदा जेल अधीक्षक प्रभा कांत पांडेय का कहना है कि फिलहाल मीटिंग चल रही है. इसलिए इस बारे में कुछ स्पष्ट नहीं बताया जा सकता है.

SHARE THIS:

बांदा. पूर्वांचल के माफिया डॉन मऊ से बीएसपी के विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) की बांदा जेल (Banda Jail) में मंगलवार को अचानक तबीयत बिगड़ गई. सूचना मिलने पर जेल प्रशासन ने जेल और जिला अस्पताल के डॉक्टरों की सलह पर मुख्तार अंसारी को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया है. जहां कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मुख्तार का इलाज किया जा रहा है. बताया जा रहा है कि उसकी हालत गंभीर है. इससे पहले बांदा जेल में बंद बहुबली विधायक मुख्तार अंसारी कोरोना पॉजिटिव हो गए थे. मुख्तार के एंटीजन कोविड टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी.

इस बीच मंगलवार को अचानक मुख्तार की तबीयत बिगड़ने से जेल प्रशासन के हाथ-पांव फूलने लगे. मुख्तार की सेहत और इलाज को लेकर अफसर मीटिंग कर रहे हैं. हालांकि, जेल प्रशासन ने इस बारे में अभी कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया है. बांदा जेल अधीक्षक प्रभा कांत पांडेय का कहना है कि फिलहाल मीटिंग चल रही है. इसलिए इस बारे में कुछ स्पष्ट नहीं बताया जा सकता है.

यह भी पढ़ें- Aligarh News: परपोते ने भारत सरकार से की मांग, बोले- राजा महेंद्र प्रताप सिंह को मिले भारत रत्न

बाराबंकी में वर्चुअल पेशी के दौरान मुख्तार अंसारी ने आरोप लगाते हुए कहा कि उसकी हत्या के लिए पांच करोड़ की सुपारी दी गई है. मुख्तार के मुताबिक उसे सूचना मिली है कि किसी को मेरी हत्या करने के लिए कहा गया है. साथ ही यह भी कहा गया है कि जो मेरी हत्या कर देगा, उसके घर पांच करोड़ रुपये पहुंच जाएगा. इसके अलावा उसके सारे मुकदमे भी खत्म कर दिए जाएंगे. कोर्ट में वर्चुअल सुनवाई के संबंध में मुख्तार के वकील रणधीर सिंह सुमन ने ये जानकारी दी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Banda News: 4 दिन से लापता व्यक्ति का कटा मिला सिर, धड़ की तलाश में जुटी पुलिस  

बांदा: चार दिन से लापता छोटेलाल यादव का कटा हुआ मिला सिर

Banda Crime News: 38 वर्षीय छोटे लाल यादव चार दिन पहले घर से रहस्यमय ढंग से गायब हो गए. जिसके बाद परिजनों ने पूरे घटनाक्रम की सूचना पुलिस को देते हुए लिखित में तहरीर दी. तहरीर मिलने के बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.जिसके बाद शनिवार को गांव के बाहर क्योटरा का पुरवा में एक एक सिर मिलने के बाद इलाके में सनसनी फैल गई.

SHARE THIS:

बांदा. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बांदा (Banda) जनपद हत्या (Murder) की एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है, जहां 4 दिन पहले घर से लापता व्यक्ति का कटा हुआ सिर गांव से कुछ दूरी पर ही मिला, जबकि धड़ को हत्यारे अपने साथ ले गए. कपड़ों की पहचान के आधार पर परिजनों ने शव की शिनाख्त की और पुलिस को पूरे घटनाक्रम की सूचना दी. मौके पर पहुंची पुलिस ने सिर को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया है.

मामला नरैनी कोतवाली क्षेत्र के गुड़ा कला गांव की है, जहां के रहने वाले 38 वर्षीय छोटे लाल यादव चार दिन पहले घर से रहस्यमय ढंग से गायब हो गए. जिसके बाद परिजनों ने पूरे घटनाक्रम की सूचना पुलिस को देते हुए लिखित में तहरीर दी. तहरीर मिलने के बाद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की.जिसके बाद शनिवार को गांव के बाहर क्योटरा का पुरवा में एक एक सिर मिलने के बाद इलाके में सनसनी फैल गई. घटना की जानकारी के बाद परिवार जन सहित तमाम ग्रामीण घटना स्थल पहुचे और मृतक की पहचान करते हुए बताया कि ये वही व्यक्ति है जो कि चार दिन पहले अपने घर से लापता हुआ था. आशंका जताई जा रही है कि अपहरण करने के बाद दोस्तों ने ही हत्या करके शव को फेंक दिया और धड़ को कहीं और फेंक दिया।. सूचना के बाद मौके पहुंची पुलिस ने सिर को डीएनए जांच के लिए भेज दिया और पूरे मामले की तफ्तीश में जुट गई है.

मामले की जानकारी देते हुए महेंद्र प्रताप, अपर पुलिस अधीक्षक बांदा, ने बताया कि शनिवार दोपहर क्योटरा पुरवा गांव के पास एक व्यक्ति का सिर मिला. उसका धड़ कहीं गायब है. स्थानीय लोगों की सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने आस पास छानबीन की, लेकिन अब तक धड़ का कहीं कोई अता पता नहीं चल पाया. घटनास्थल में एक परिवार पहुंचा था जो गुढ़ा कला का रहने वाला है और उस परिवार का दावा है कि चार दिन पहले घर से लापता हुए 38 वर्षीय छोटेलाल का ही ये सिर है. सिर को कब्जे में लेकर जांच पड़ताल की जा रही है और इस सिर का डीएनए कराया जाएगा। उसी आधार पर यह स्पष्ट हो पाएगा कि यह किसकी बॉडी है और यह कौन है. फिलहाल पुलिस पूरे मामले पर जांच पड़ताल कर रही हैं.

UP Politics: जानिए कब से है माफिया मुख्तार अंसारी और BSP का रिश्ता, ऐसे बहनजी के आर्शीवाद से शुरू हुआ था सफर

UP Politics: जानिए कब से है माफिया मुख्तार अंसारी और BSP का रिश्ता (File photo)

Mukhtar Ansari News: साल 2017 में मुख्तार ने अपनी पार्टी का बीएसपी (BSP) में विलय कर दिया और पांचवीं बार विधायक का चुनाव लड़ा. हाथी का साथ मिलने से वह लगातार पांचवीं बार और जेल में रहते हुए तीसरा चुनाव जीतने में कामयाब रहा.

SHARE THIS:

लखनऊ. आगामी यूपी विधानसभा चुनाव (UP Assembly Election 2022) में मायावती ने जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Don Mukhtar Ansari) का टिकट काट दिया है. वैसे यह कोई पहली बार नहीं होगा, जब माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को बीएसपी (BSP) से बाहर का रास्ता दिखाया है. मुख्तार ने अपने सियासी करियर की शुरुआत बीएसपी से ही की थी. 1996 में वह हाथी की सवारी कर वह पहली बार विधानसभा पहुंचा था. हालांकि कुछ दिनों बाद ही मायावती ने उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया था. 2002 और 2007 का चुनाव वह निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीता.

2009 के लोकसभा चुनाव से पहले उसने दोबारा हाथी की सवारी की. उस चुनाव में बीएसपी ने उसने वाराणसी सीट से बीजेपी नेता डॉ मुरली मनोहर जोशी के खिलाफ उम्मीदवार बनाया था. लोकसभा के इस चुनाव में मुख्तार को हार का सामना करना पड़ा और थोड़े दिन बाद ही उसे फिर से बाहर कर दिया गया. साल 2012 में अंसारी ब्रदर्स ने अपनी अलग पार्टी कौमी एकता दल बनाई. मुख्तार अंसारी 2012 में अपनी घर की पार्टी से चुनाव लड़कर लगातार चौथी बार विधायक बना. साल 2017 में मुख्तार ने अपनी पार्टी का बीएसपी में विलय कर दिया और पांचवीं बार विधायक का चुनाव लड़ा. हाथी का साथ मिलने से वह लगातार पांचवीं बार और जेल में रहते हुए तीसरा चुनाव जीतने में कामयाब रहा.

यह भी पढ़ें- UP Poll-Tricks: मुख्तार कबूल करेंगे AIMIM की पेशकश? देखें, लाभ-नुकसान का गणित

दरअसल मुख्तार का टिकट काटने और उससे दूरी बनाए जाने के बीएसपी सुप्रीमों मायावती के फैसले के पीछे उसका लम्बा-चौड़ा क्रिमिनल रिकॉर्ड और 2022 के यूपी विधानसभा चुनाव से पहले उसके जेल से बाहर आने के सभी रास्ते बंद होना तो है ही, साथ ही पार्टी को यह भी लगता है कि पिछले तकरीबन सोलह सालों से लगातार जेल में रहने की वजह से मऊ सीट पर मुख्तार का दबदबा अब पहले जैसा रहा भी नहीं. मुख्तार अंसारी पिछ्ला तीन चुनाव सिर्फ 8 हजार या इससे भी कम वोटों से ही जीतने में कामयाब रहा है. योगी सरकार ने माफियाओं-बाहुबलियों और दूसरे अपराधियों के खिलाफ जिस तरह का अभियान चलाया है और इन ऑपरेशनों के चलते सूबे में संगठित अपराधों पर जैसा अंकुश लगा है, उसी के नतीजे के तौर पर ही मायावती अब मुख्तार से तौबा कर लिया है.

UP Election 2022: बसपा सुप्रीमो मायावती ने माफिया मुख्तार अंसारी को पार्टी से किया बेदखल

UP News: बसपा सुप्रीमो मायावती ने माफिया मुख्तार अंसारी को पार्टी से किया बेदखल (File photo)

UP BSP News: मायावती कहती हैं कि बीएसपी का संकल्प ’कानून द्वारा कानून का राज’ के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है ताकि प्रदेश व देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे कि सरकार हो तो बहनजी की.

SHARE THIS:

लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Chief Mayawati) ने यूपी विधानसभा चुनाव से पहले अंसारी बंधुओं पर बड़ा फैसला लिया हैं. बसपा सुप्रीमो ने बांदा जेल में बंद बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) को पार्टी से हटाते हुए उनकी जगह आजमगढ़ मण्डल की मऊ विधानसभा सीट से यूपी के बीएसपी स्टेट अध्यक्ष श्री भीम राजभर के नाम को फाइनल किया गया है. शुक्रवार को मायावती ने ट्वीट कर कहा, बीएसपी का अगामी यूपी विधानसभा आमचुनाव में प्रयास होगा कि किसी भी बाहुबली व माफिया आदि को पार्टी से चुनाव न लड़ाया जाए. इसके मद्देनजर ही आजमगढ़ मण्डल की मऊ विधानसभा सीट से अब मुख्तार अंसारी का नहीं बल्कि यूपी के बीएसपी स्टेट अध्यक्ष श्री भीम राजभर के नाम को फाइनल किया गया है.

उन्होंने आगे कहा, जनता की कसौटी व उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने के प्रयासों के तहत ही लिए गए. इस निर्णय के फलस्वरूप पार्टी प्रभारियों से अपील है कि वे पार्टी उम्मीदवारों का चयन करते समय इस बात का खास ध्यान रखें ताकि सरकार बनने पर ऐसे तत्वों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने में कोई भी दिक्कत न हो.

मायावती कहती हैं कि बीएसपी का संकल्प ’कानून द्वारा कानून का राज’ के साथ ही यूपी की तस्वीर को भी अब बदल देने का है ताकि प्रदेश व देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे कि सरकार हो तो बहनजी की. ’सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय’ जैसी तथा बीएसपी जो कहती है वह करके भी दिखाती है यही पार्टी की सही पहचान भी है.

सपा का दामन थाम सकता है मुख्तार अंसारी का परिवार
खबरों की माने तो चुनावों से पहले मुख्तार अंसारी और उनका परिवार भी समाजवादी पार्टी का दामन थाम सकता है. इसके साथ ही साथ मुख्तार अंसारी के तीसरे भाई अफजाल अंसारी समाजवादी पार्टी के टिकट पर ही इस बार का चुनाव लड़ सकते हैं. हालांकि अफजाल अंसारी अभी बहुजन समाज पार्टी के टिकट पर पूर्वांचल की गाज़ीपुर सीट से सांसद है. वैसे यह कोई पहली बार नहीं होगा, जब मुख्तार अंसारी को बीएसपी से बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा. मुख्तार ने अपने सियासी करियर की शुरुआत बीएसपी से ही की थी. 1996 में वह हाथी की सवारी कर वह पहली बार विधानसभा पहुंचा था. हालांकि कुछ दिनों बाद ही मायावती ने उसे बाहर का रास्ता दिखा दिया था.

बेटे को मृत मान चुके थे बूढ़े मां-बाप, पाकिस्तान जेल से छूटकर 12 साल बाद घर लौटेगा बेटा

बांदा के रामबहादुर का घर परिवार.

बुंदेलखंड के बांदा का एक शख्स पाकिस्तान की जेल से 12 साल बाद रिहा होकर भारत लौटा है. उसके ज़िंदा होने की खबर से परिवार उसकी घर वापसी के लिए बेकरार तो है, लेकिन मजबूर भी बहुत है. पढ़िए पूरी रिपोर्ट.

SHARE THIS:

बांदा. तस्वीर में जो टूटा फूटा, कच्चा और जर्जर हालत में मकान आप देख रहे हैं, वो रामबहादुर का है. तस्वीर में दिख रहे बूढ़े मां बाप रामबहादुर के हैं. इनका बेटा 12 साल के बाद इनके पास वापस आने वाला है. नरैनी तहसील के अतर्रा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पचोखर के रहने वाले गिल्ला का बड़ा बेटा रामबहादुर 12 साल पहले साइकिल लेकर काम की तलाश में गांव से निकला था और उसके बाद से उसका कोई पता नहीं चला था. मां बाप ने उसकी हर तरह से तलाश की लेकिन उसका सुराग कहीं न मिलने पर हताश हो गए. 30 साल के जवान बेटे की गुमशुदगी ने मां-बाप को बुरी तरह तोड़ दिया था, लेकिन अब उनके चेहरे पर एक राहत लौटी है.

कुछ ही दिन पहले जब पुलिस और प्रशासन के लोग रामबहादुर के घर पहुंचे और उनके बेटे के सालों से गायब होने की बात कन्फर्म की तो पहले तो बूढ़े मां बाप माजरा समझ नहीं पाए. जब उन्हें बताया गया कि रामबहादुर 12 सालों से पाकिस्तान की कैद में था और सजा पूरी होने के बाद उससे आजाद कर दिया गया. बीते 14 अगस्त को रामबहादुर को वाघा बॉर्डर के ज़रिये भारत के हवाले किया गया था और अब उसे उसके परिवार को सौंप दिया जाएगा. यह खबर सुनकर बूढ़े दंपति की आंखों में आंसू थे और बस वो हाथ जोड़कर आभार जता रहे थे. फिर वीडियो कॉल पर रामबहादुर की बातचीत भी मां बाप से करवाई गई.

ये भी पढ़ें : Siddharth Shukla News : केशव मौर्य ने दिवंगत एक्टर को कहा ‘प्रयागराज का गौरव’, जानिए क्यों?

uttar pradesh news, up news, pakistan jail, indian prisoner in pakistan, india pakistan border, उत्तर प्रदेश न्यूज़, यूपी न्यूज़, पाकिस्तान जेल, पाकिस्तान में भारतीय कैदी

रामबहादुर से वीडियो कॉल पर बातचीत करते उसके परिजन.

कब घर आएगा रामबहादुर?
फिलवक्त भारतीय सेना की कस्टडी में रामबहादुर से ज़रूरी पूछताछ की जा रही है और उसकी अनिवार्य जांचें भी अस्पताल में चल रही हैं. इधर, बेटे के ज़िंदा होने की खबर पाकर, बेटे को देख, सुनकर परिजन बेसब्री से उसकी घर वापसी का इंतजार कर रहे हैं. लेकिन, गरीबी और मोहताजी ऐसी है कि उनके पास किराया लगाकर बेटे को घर लाने जितना पैसा भी नहीं है इसलिए जब सरकार उनके बेटे को घर तक पहुंचाएंगी, तब तक का इंतज़ार करना होगा.

तब भी खराब थी माली हालत
जब बेटा गायब हो गया था, तब भी आर्थिक स्थिति बेहद खराब होने की वजह से रामबहादुर के माँ बाप भागदौड़ नहीं कर सके थे. आखिरकार बेटे को मृत मान कर दिल पर पत्थर रख लिया था. इतने सालों से बेटे को लेकर हर उम्मीद छोड़ चुके बूढ़े मां बाप की खुशी का तब ठिकाना न रहा जब पुलिस प्रशासन के लोग तफ्तीश करते हुए उनके गांव पहुंचे और उन्हें खुशखबरी दी.

ये भी पढ़ें : लखनऊ में बुखार के मरीज़ अचानक बढ़ने से दहशत, फिरोज़ाबाद में 50 की मौत, 3 डॉक्टर सस्पेंड

अब प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि विदेश मंत्रालय से जानकारी देकर रामबहादुर के निवास की कन्फर्मेशन मांगी गई थी, जिसकी रिपोर्ट मंत्रालय को भेज दी गई है. बांदा के एडीएम संतोष बहादुर सिंह ने यह भी बताया कि रामबहादुर जल्दी अपने परिवार के बीच होगा.

मुख्तार अंसारी ने बताया अपनी जान को खतरा, पत्नी ने कोर्ट में अर्जी देकर मांगी सुरक्षा

UP: बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी ने अपनी जान को खतरा बताया है. इस पर उनकी पत्नी ने कोर्ट में अर्जी देकर सुरक्षा मांगी है.

Mukhtar Ansari News: पूर्वांचल के माफिया डाॅन मुख्तार अंसारी ने अपनी जान को खतरा बताया है. उनकी पत्नी अफशां अंशारी और बेटे उमर अंसारी ने स्पेशल कोर्ट MP-MLA में अर्जी देकर सुरक्षा की गुजार लगाई है.

SHARE THIS:

प्रयागराज. पूर्वांचल के माफिया डाॅन मुख्तार अंसारी (Mafia Dan Mukhtar Ansari) से जुड़ी बड़ी खबर आ रही है. बांदा सेंट्रल जेल (Banda Central Jail) में बंद मुख्तार अंसारी की जान को खतरा (Mukhtar Ansari’s life in danger) बताकर उसकी पत्नी और बेटे ने स्पेशल कोर्ट में अर्जी दी है. पत्नी अफशां अंशारी व बेटे उमर अंसारी ने स्पेशल कोर्ट MP-MLA में अर्जी देकर सुरक्षा मांगी है. इसमें कहा गया है कि मुख्तार अंसारी को जेल के अंदर जान का खतरा है.

बेटे उमर अंसारी ने जेल प्रशासन पर मुख्तार अंसारी का मानसिक उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि बैरक के अंदर बाहर व बाथरूम तक CCTV कैमरा लगाया गया है, जिससे मुख्तार अंसारी को परेशानी हो रही है. बता दें कि पंजाब के रोपड़ जिले से बांदा के सेंट्रल जेल में मुख्तार अंसारी को शिफ्ट किया गया है.

मेडिकल टीम पर हेल्थ चेकअप नहीं करने का आरोप

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर गठित मेडिकल टीम द्वारा कोई भी स्वास्थ्य जांच नहीं किए जाने का आरोप लगाया गया है. मुख्तार की पत्नी ने अर्जी में सीसीटीवी फुटेज गेट बुक का रिकॉर्ड मांगने की मांग की. MP-MLA स्पेशल जज आलोक कुमार श्रीवास्तव ने अर्जी पर सुनवाई करते हुए जेल अधीक्षक को पत्र भेजकर मुख्तार अंसारी की जान को खतरा न हो, ऐसी सुरक्षा देने के आदेश दिये हैं.

बाहुबली मुख्तार अंसारी की जज से गुहार, बोला- जेल से निकला तो हो जाएगी हत्या, कोर्ट में न बुलाएं

UP: बाहुबली मुख्तार अंसारी की जज से गुहार (File photo)

Banda Jail: एमपी-एमएलए कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई बाहुबली मुख्तार अंसारी के मामले की सुनवाई. अंसारी ने लगाया आरोप- सरकार उसकी हत्या कराना चाहती है. मामले की अगली सुनवाई 9 सितंबर को होगी.

SHARE THIS:

बांदा. उत्तर प्रदेश की बांदा जेल (Banda Jail) में बंद माफिया मुख्तार अंसारी (Mafia Mukhtar Ansari) की फर्जी एंबुलेंस मामले में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बाराबंकी की विशेष सत्र न्यायाधीश MP-MLA कोर्ट में पेशी हुई. सुनवाई के दौरान जज ने मुख्तार अंसारी से सवाल किया कि क्यों न आपको अब कोर्ट में तलब कर लिया जाए. इस पर मुख्तार अंसारी बेहद घबरा गया. उसने जज से ऐसा न करने की गुहार लगाई. मुख्तार ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार उसे मरवाना चाहती है. ऐसे में अगर वह जेल से बाहर निकला, तो उसकी हत्या करवा दी जाएगी. कोर्ट ने मामले की सुनवाई के लिए 9 सितंबर की तारीख दी है.

इससे पहले भी मुख्तार अंसारी ने बांदा जेल में अपनी हत्या की साजिश की बात कही थी. इस दौरान मुख्तार अंसारी ने कहा कि बांदा जेल में उसे जान का खतरा है. जेल के सीसीटीवी कैमरों को मोड़कर लोग आते-जाते हैं, ज‍िससे मेरी हत्या की साजिश प्रतीत होती है. मुख्तार अंसारी के अधिवक्ता ने बांदा जेल में उसकी सुरक्षा को खतरा बताते हुए किसी दूसरी जेल में रखे जाने के संबंध में प्रार्थना पत्र भी दिया था.

अमिताभ ठाकुर 9 सितंबर तक भेजे गए जेल, रेप पीड़िता के आरोप पर हुई है गिरफ्तारी

मामले की जानकारी देते हुए डिप्टी जेलर प्रमोद कुमार तिवारी ने बताया मुख्तार अंसारी की बैरिक के आस पास जो भी सुरक्षाकर्मी रहते उनके शरीर मे 5 बाड़ीवाल कैमरे लगे रहते है और जेल परिसर मे 49 सीसीटीवी कैमरे लगे हैं. जो पूरे जेल की निगरानी करते है. सुरक्षा के लिहाज से बांदा जेल 24 घंटे सुरक्षाकर्मी तैनात रहते है.

मुख्तार अंसारी के खिलाफ कार्रवाई (मई 2021 तक)
माफिया मुख्‍तार अंसारी गैंग के 244 सदस्यों पर आजमगढ़, मऊ, वाराणसी में की गई कार्रवाई में 1 अरब 94 करोड़ 82 लाख 67 हजार 859 रुपये की संपत्ति ध्वस्त/जब्त की गई. मुख्तार गैंग के 158 अपराधी हुए गिरफ्तार, तो 122 असलहों के लाइसेंस निरस्त होने के साथ 110 अपराधियों के खिलाफ गैंगस्टर लगा है. 30 के खिलाफ गुंडा एक्ट और 6 पर NSA की कार्रवाई की गई है.

बांदा: 15 अगस्त पर राष्ट्रगान के अपमान का वीडियो वायरल, महिला समाजसेवी ने उठाई आवाज तो...

राष्टगान के अपमान को लेकर महिला समाजसेवी विरोध दर्ज कराते हुए धरने पर बैठ गई तो पुलिस द्वारा उसे गिरफ्तार कर लिया गया

Uttar Pradesh News: 15 अगस्त को राष्ट्रगान के अपमान का विरोध करने पर महिला समाजसेवी शालिनी पटेल पर कार्रवाई करते हुए जेल में बंद कर दिया गया है. तीन दिन बाद अब उनकी रिहाई को लेकर समाजसेवी और पत्रकार अनशन पर बैठ गए हैं. उन्होंने राष्ट्रगान का अपमान करने वाले दोषियों पर कार्रवाई करने और शालिनी पटेल की अविलंब रिहाई की मांग की है

SHARE THIS:

बांदा. उत्तर प्रदेश के बांदा (Banda) में समाजसेवी पत्रकार महिला को राष्ट्रगान के हुए अपमान मामले में विरोध करना भारी पड़ गया. महिला इस पर ज्ञापन (Memorandum) देने के लिए तीन दिन पहले कलेक्ट्रेट पहुंची थी. वहां उसकी कुछ कहासुनी हो गई थी जिसके बाद महिला अशोक लाट अनशन स्थल पहुंच कर विरोध-प्रदर्शन करने लगी. इसकी सूचना मिलने पर वहां पहुंचे पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों ने महिला को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. यह महिला पिछले तीन दिन से बांदा जेल (Banda Jail) में बंद है. महिला के साथ हुए अन्याय को देखते हुए कुछ समाजसेवी और पत्रकार एकजुट होकर शहर के अशोक लाट चौराहे में अनशन पर बैठ गए हैं. इनकी मांग है कि जब तक शालिनी पटेल को रिहा नहीं किया जाता और राष्ट्रगान (National Anthem) का अपमान करने वाले अधिकारी और नेताओं पर कार्रवाई नहीं होती तब तक उनका अनशन जारी रहेगी.

दरअसल यह पूरा मामला 15 अगस्त का है. बांदा के सरदार वल्लभ भाई पटेल ऑक्सीजन पार्क में गगनचुंबी ध्वज लगाया गया था. राष्ट्रीय ध्वज फहराते समय राष्ट्रगान बज रहा था. इस दौरान तमाम जनपद और मंडल के जिम्मेदार अधिकारियों के साथ कुछ नेता भी कार्यक्रम में मौजूद थे. राष्ट्रगान बजने के दौरान उसका सम्मान करने के बजाए अधिकारी और नेता यहां-वहां घूमते-फिरते नजर आए. इसका वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद बांदा सदर विधानसभा से विधायक प्रकाश द्विवेदी के कार्यालय से इस मामले में कोतवाली में मुकदमा दर्ज करवाया गया है कि वीडियो को एडिट कर के इसको सोशल मीडिया में वायरल किया गया है.

कोतवाली पुलिस पूरे मामले की तफ्तीश कर रही है. इस पूरे मामले को लेकर समाजसेवी पत्रकार शालिनी पटेल जिलाधिकारी कार्यालय (डीएम ऑफिस) पहुंची और ज्ञापन देने लगी. मगर इसको लेकर वहां नोक-झोंक हुई, उसके बाद शालिनी पटेल विरोध स्वरूप अशोक लाट चौराहे पर बने अनशन स्थल में आकर बैठ गईं. वो देश के राष्ट्रपति को ज्ञापन देना चाह रही थी. इसके बाद वहां पहुंचे शहर कोतवाल ने शालिनी को गिरफ्तार कर लिया और धारा 151, 107/16 में सिटी मजिस्ट्रेट के यहां समाजसेवी महिला को पेश किया. वहां पर जमानतदार मौजूद थे लेकिन पुलिस प्रशासन ने षड्यंत्र रचते हुए सिटी मजिस्ट्रेट को मना कर दिया कि किसी भी हाल में शालिनी पटेल की जमानत न हो पाए.

तीन दिन से बांदा जेल में बंद है महिला

इसके बाद सिटी मजिस्ट्रेट ने महिला समाजसेवी को जेल भेज दिया. वो बीते तीन दिन से बांदा जेल में बंद हैं. अब उनकी रिहाई को लेकर समाजसेवी और पत्रकार अनशन पर बैठ गए हैं. उन्होंने राष्ट्रगान का अपमान करने वाले दोषियों पर कार्रवाई करने और शालिनी पटेल की अविलंब रिहाई की मांग की है. उन्होंने कहा कि यदि ऐसा नहीं हुआ तो वो अनिश्चितकालीन समय तक धरने पर बैठे रहेंगे.

वहीं, सीओ सिटी राकेश सिंह ने बताया कि एक महिला कोरोना प्रोटोकॉल का उलंघन करते हुए सार्वजनिक स्थल पर धरना-प्रदर्शन कर रही थी. उन्हें समझाया गया लेकिन महिला नहीं मानी. जिसके बाद महिला को धारा 151 107/16 के तहत गिरफ्तार कर के न्यायालय के समक्ष पेश किया गया था. महिला फिलहाल जेल में बंद हैं.

बांदा में नाबालिग लड़की के साथ गैंगरेप, 3 गिरफ्तार, 2 आरोपियों की तलाश

उत्तर प्रदेश के बांदा में सामूहिक दुष्कर्म की घटना सामने आई है. (सांकेतिक चित्र)

Banda News: बांदा एसपी अभिनंदन ने बताया कि 14 अगस्त को एक लड़की के साथ दुष्कर्म की वारदात हुई थी. लड़की को मेडिकल परीक्षण के लिए भेज दिया गया है और 3 आरोपियों की गिरफ्तारी भी कर ली गई है. 2 अन्य की तलाश की जा रही है.

SHARE THIS:

बांदा. उत्तर प्रदेश के बांदा (Banda) में एक नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म (Rape) की वारदात को अंजाम दिया गया है. परिजनों ने तीन लोगों के खिलाफ तिंदवारी थाने में दिनांक 14 अगस्त को शिकायत की लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया था. पुलिस मामले में हीला-हवाले करती रही, जिसके बाद पीड़ित लड़की के परिजनों ने उच्च अधिकारियों से मामले की गुहार लगाई. उसके बाद 19 अगस्त की रात को मामला दर्ज कर लिया. कुछ ही देर बाद 3 युवकों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है और न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

पूरा मामला तिंदवारी थाना क्षेत्र के एक गांव से सामने आया है. यहां एक लड़की से तिंदवारी थाना क्षेत्र के बेदा गांव के रहने वाले 5 लड़कों ने दुष्कर्म किया. तहरीर के अनुसार लड़की अपने घर से जंगल की तरफ शौच करने के लिए गई थी. वहीं घात लगाए बैठे हैवानों ने दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया. घटना के बाद पीड़ित लड़की ने आपबीती परिजनों को बताई. बेसुध हालत में घर पहुंची लड़की को देख परिजनों के होश उड़ गए.

इसके बाद परिजन लड़की को लेकर के 14 अगस्त को तिंदवारी थाने पहुंचे लेकिन पुलिस ने मामले में लापरवाही करते हुए कोई भी कार्यवाही नहीं की. जिसके बाद पीड़ित परिवार ने उच्च अधिकारियों से पूरे मामले की शिकायत की. मामला बढ़ता देख बांदा एसपी अभिनंदन सिंह ने दिनांक 19 अगस्त को दुष्कर्म का मामला दर्ज कराते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए टीम लगाई और 3 नाबालिग आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद उनको न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

बांदा एसपी अभिनंदन ने बताया कि दिनांक 14 अगस्त को एक लड़की के साथ दुष्कर्म की वारदात हुई थी. परिजन थाने पहुंचे थे और सूचना देकर चले गए थे. 19 अगस्त को उन्होंने लिखित तहरीर दी, जिसके बाद मामला दर्ज कर लिया गया है. लड़की को मेडिकल परीक्षण के लिए भेज दिया गया है और 3 आरोपियों की गिरफ्तारी भी कर ली गई है. लड़कों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया है और पूरे मामले की तफ्तीश की जा रही है. मामले में 2 अन्य की तलाश की जा रही है.

बांदा: एक ही चारपाई पर सो रहे दो सगे भाइयों की सांप के काटने से मौत

अब परिजनों को दैवीय आपदा राहत कोष से आर्थिक मदद दी जाएगी. (सांकेतिक फोटो)

प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) अरविंद सिंह गौर (Arvind Singh Gaur) ने सोमवार को बताया कि अतर्रा थाना क्षेत्र के तेरा गांव में रविवार की रात एक ही चारपाई पर सो रहे कुलदीप (नौ) और उसके भाई दिलीप (छह) को सांप ने काट लिया.

SHARE THIS:

बांदा. उत्तर प्रदेश के बांदा जिले (Banda District) के अतर्रा क्षेत्र में जहरीले सांप (Snake) के काटने से एक ही चारपाई पर सो रहे दो सगे भाइयों की मौत हो गयी. प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) अरविंद सिंह गौर (Arvind Singh Gaur) ने सोमवार को बताया कि अतर्रा थाना क्षेत्र के तेरा गांव में रविवार की रात एक ही चारपाई पर सो रहे कुलदीप (नौ) और उसके भाई दिलीप (छह) को सांप ने काट लिया. दोनों भाइयों को निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया.

उन्होंने बताया कि दोनों बच्चों के शवों का पोस्टमॉर्टम करवाया गया है और घटना की सूचना राजस्व अधिकारियों को दे दी गयी है. अतर्रा के उपजिलाधिकारी सौरभ शुक्ला ने कहा, ’पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में दोनों बच्चों की सांप के काटने से मौत की पुष्टि हुई है. अब परिजनों को दैवीय आपदा राहत कोष से आर्थिक मदद दी जाएगी.

4 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी
बता दें कि पिछले महीने योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश में सांप काटने से होने वाली मौतों को राज्य आपदा घोषित किया था. यानी अब सांप के काटने से अगर किसी की मृत्यु होती है तो वह सरकारी मुआवजे का हकदार होगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर शासन ने राज्य के सभी जिलाधिकारियों को निर्देश जारी किए थे, जिसके मुताबिक अब सर्पदंश के मृतक के परिवार को सरकार की ओर से 4 लाख रुपए की आर्थिक मदद दी जाएगी.

सुनिश्चित करना जिलाधिकारी का काम होगा
पिछले महीने ही इस आदेश के मुताबिक, सर्पदंश के मृतक के आश्रितों को आर्थिक सहायता के लिए विभागों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगें. घटना के 7 दिनों के भीतर उन्हें तय सरकारी मुआवजे की राशि दे दी जाएगी. यह सुनिश्चित करना जिलाधिकारी का काम होगा. बता दें कि राज्य में अब तक सर्पदंश से होने वाली मौतों में किसी प्रकार का सरकारी मुआवजा देने का प्रावधान नहीं था. बरसात के दिनों में तराई समेत गोरखपुर, देवरिया और आप-पास के जिलों में सर्पदंश से मौत के कई मामले सामने आते हैं.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज