Home /News /uttar-pradesh /

बेटे को मृत मान चुके थे बूढ़े मां-बाप, पाकिस्तान जेल से छूटकर 12 साल बाद घर लौटेगा बेटा

बेटे को मृत मान चुके थे बूढ़े मां-बाप, पाकिस्तान जेल से छूटकर 12 साल बाद घर लौटेगा बेटा

बांदा के रामबहादुर का घर परिवार.

बांदा के रामबहादुर का घर परिवार.

बुंदेलखंड के बांदा का एक शख्स पाकिस्तान की जेल से 12 साल बाद रिहा होकर भारत लौटा है. उसके ज़िंदा होने की खबर से परिवार उसकी घर वापसी के लिए बेकरार तो है, लेकिन मजबूर भी बहुत है. पढ़िए पूरी रिपोर्ट.

बांदा. तस्वीर में जो टूटा फूटा, कच्चा और जर्जर हालत में मकान आप देख रहे हैं, वो रामबहादुर का है. तस्वीर में दिख रहे बूढ़े मां बाप रामबहादुर के हैं. इनका बेटा 12 साल के बाद इनके पास वापस आने वाला है. नरैनी तहसील के अतर्रा थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पचोखर के रहने वाले गिल्ला का बड़ा बेटा रामबहादुर 12 साल पहले साइकिल लेकर काम की तलाश में गांव से निकला था और उसके बाद से उसका कोई पता नहीं चला था. मां बाप ने उसकी हर तरह से तलाश की लेकिन उसका सुराग कहीं न मिलने पर हताश हो गए. 30 साल के जवान बेटे की गुमशुदगी ने मां-बाप को बुरी तरह तोड़ दिया था, लेकिन अब उनके चेहरे पर एक राहत लौटी है.

कुछ ही दिन पहले जब पुलिस और प्रशासन के लोग रामबहादुर के घर पहुंचे और उनके बेटे के सालों से गायब होने की बात कन्फर्म की तो पहले तो बूढ़े मां बाप माजरा समझ नहीं पाए. जब उन्हें बताया गया कि रामबहादुर 12 सालों से पाकिस्तान की कैद में था और सजा पूरी होने के बाद उससे आजाद कर दिया गया. बीते 14 अगस्त को रामबहादुर को वाघा बॉर्डर के ज़रिये भारत के हवाले किया गया था और अब उसे उसके परिवार को सौंप दिया जाएगा. यह खबर सुनकर बूढ़े दंपति की आंखों में आंसू थे और बस वो हाथ जोड़कर आभार जता रहे थे. फिर वीडियो कॉल पर रामबहादुर की बातचीत भी मां बाप से करवाई गई.

ये भी पढ़ें : Siddharth Shukla News : केशव मौर्य ने दिवंगत एक्टर को कहा ‘प्रयागराज का गौरव’, जानिए क्यों?

uttar pradesh news, up news, pakistan jail, indian prisoner in pakistan, india pakistan border, उत्तर प्रदेश न्यूज़, यूपी न्यूज़, पाकिस्तान जेल, पाकिस्तान में भारतीय कैदी

रामबहादुर से वीडियो कॉल पर बातचीत करते उसके परिजन.

कब घर आएगा रामबहादुर?
फिलवक्त भारतीय सेना की कस्टडी में रामबहादुर से ज़रूरी पूछताछ की जा रही है और उसकी अनिवार्य जांचें भी अस्पताल में चल रही हैं. इधर, बेटे के ज़िंदा होने की खबर पाकर, बेटे को देख, सुनकर परिजन बेसब्री से उसकी घर वापसी का इंतजार कर रहे हैं. लेकिन, गरीबी और मोहताजी ऐसी है कि उनके पास किराया लगाकर बेटे को घर लाने जितना पैसा भी नहीं है इसलिए जब सरकार उनके बेटे को घर तक पहुंचाएंगी, तब तक का इंतज़ार करना होगा.

तब भी खराब थी माली हालत
जब बेटा गायब हो गया था, तब भी आर्थिक स्थिति बेहद खराब होने की वजह से रामबहादुर के माँ बाप भागदौड़ नहीं कर सके थे. आखिरकार बेटे को मृत मान कर दिल पर पत्थर रख लिया था. इतने सालों से बेटे को लेकर हर उम्मीद छोड़ चुके बूढ़े मां बाप की खुशी का तब ठिकाना न रहा जब पुलिस प्रशासन के लोग तफ्तीश करते हुए उनके गांव पहुंचे और उन्हें खुशखबरी दी.

ये भी पढ़ें : लखनऊ में बुखार के मरीज़ अचानक बढ़ने से दहशत, फिरोज़ाबाद में 50 की मौत, 3 डॉक्टर सस्पेंड

अब प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि विदेश मंत्रालय से जानकारी देकर रामबहादुर के निवास की कन्फर्मेशन मांगी गई थी, जिसकी रिपोर्ट मंत्रालय को भेज दी गई है. बांदा के एडीएम संतोष बहादुर सिंह ने यह भी बताया कि रामबहादुर जल्दी अपने परिवार के बीच होगा.

Tags: Banda News, UP news, Uttar pradesh news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर