VHP का आरोप- अखिलेश यादव ने बंगले की दीवारों में छिपा रखा था कालाधन

वीएचपी ने अखिलेश यादव के बंगले में तोड़फोड़ की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है.

आईएएनएस
Updated: June 15, 2018, 8:00 PM IST
VHP का आरोप- अखिलेश यादव ने बंगले की दीवारों में छिपा रखा था कालाधन
प्रभाकर सिंह चंदेल (आईएएनएस फोटो)
आईएएनएस
Updated: June 15, 2018, 8:00 PM IST
उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सरकारी बंगले में अपने पैसे से जो नल की टोटी और टाइल्स लगवाए थे, उसे उखड़वा दिया तो घमासान मच गया. इस घमासान में अब विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) भी कूद पड़ी है. वीएचपी का अनुमान है कि दीवारों के पीछे अवैध तरीके से कमाया गया धन छिपाया गया था.

शुक्रवार को बांदा पहुंचे कानपुर प्रांत के गोरक्षा प्रमुख प्रभाकर सिंह चंदेल ने कहा, "अखिलेश यादव के जिस सरकारी बंगले की दीवारें और सीलिंग तोड़ी गई हैं, दरअसल उसके पीछे अवैध तरीके से कमाया गया धन छिपाया गया था."

राज्य सरकार के आदेश पर राज्य संपति विभाग हालांकि उस बंगले की जांच शुरू कर दी है, मगर आरोप-प्रत्यारोप का दौर अभी खत्म नहीं हुआ है. बीजेपी नेताओं के अलावा विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) भी इस विवाद में कूद पड़ी है.

चंदेल ने कहा, "पिछली सरकार ने उत्तर प्रदेश में जो लूट-खसोट मचाई थी, उससे जमा अवैध धन बंगले की इन्हीं दीवारों के पीछे छिपाया गया था. दीवारों में रुपयों के बंडल, सोने की सिल्लियां और भारी मात्रा में हीरे-जवाहरात छिपाए गए थे. इतना ही नहीं, नलों की गायब टोटियां भी सोने की थीं, जिन्हें बाद में ले जाया गया है."

चंदेल ने बंगले में तोड़फोड़ की जांच सीबीआई से कराने की मांग करते हुए कहा, "दीवारें तोड़कर धन कहां ले जाया गया, इसकी जांच होनी चाहिए. इसके पहले भी आयकर विभाग ऐसी ही जगहों से अवैध संपत्ति बरामद कर चुका है."

गुरुवार को भी चंदेल सोशल मीडिया में अधिकृत पोस्ट डालकर पूर्व मुख्यमंत्री पर यही आरोप लगा चुके हैं.

ये भी पढ़ें: 
Loading...

राज्य संपत्ति अधिकारी ने शुरू की अखिलेश के बंगले में हुई तोड़फोड़ की जांच
सीएम योगी के कहने पर हुई अखिलेश के बंगले में तोड़फोड़- सपा MLC

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांदा से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 15, 2018, 7:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...