होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /यमुना दर्दनाक हादसा: बांदा में 1 और महिला का शव बरामद, 2 की तलाश जारी

यमुना दर्दनाक हादसा: बांदा में 1 और महिला का शव बरामद, 2 की तलाश जारी

सोमवार को एक महिला का शव और बरामद किया गया है.

सोमवार को एक महिला का शव और बरामद किया गया है.

Banda Yamuna Accident: पूरा मामला बांदा जनपद के मरका थाना क्षेत्र के मरका घाट के सामने हुआ था. 11 अगस्त के बाद लगातार त ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

बांदा में मरका घाट के सामने 11 अगस्त को हुआ था हादसा.
28 लोग डूबे थे, 13 तैरकर बाहर आए, 2 अब भी लापता.

बांदा. उत्तर प्रदेश के बांदा में यमुना नदी में 11 अगस्त को दर्दनाक नाव हादसा हो गया था. इस हादसे में 28 लोग डूब गए थे, जिसमें से 13 लोगों ने तैरकर अपनी जान बचा ली थी. बचे हुए लोगों की लगातार तलाश की जा रही थी. इस कड़ी में सोमवार को एक महिला का शव और बरामद किया गया है. इससे पहले 13 लोगों के शव बरामद कर लिए गए थे. अब दो लोगों के लिए तलाश जारी है.

जिस समय यह हादसा हुआ नाव में 28 लोग सवार थे. ये सभी रक्षाबंधन के त्योहार के लिए जा रहे थे. इनमें से 13 लोग अच्छे तैराक थे, जिसका उन्हें फायदा हुआ. सभी 13 लोगों ने जैसे-तैसे अपनी जान बचा ली. वहीं, अन्य लोगों को तैरना नहीं आता था, इस कारण वे नदी के बहाव में बह गए. दरअसल, यह दर्दनाक हादसा नाव की पतवार फट जाने के कारण हुआ था.

दो और लोगों की तलाश जारी
अब तक एनडीआरएफ एसडीआरएफ ने 13 लोगों के शव बरामद कर लिए हैं. अभी दो लोग और लापता हैं, जिनकी तलाश की जा रही है. आपको बता दें पूरा मामला बांदा जनपद के मरका थाना क्षेत्र के मरका घाट के सामने हुआ था. 11 अगस्त के बाद लगातार तीन दिन से नदी में शवों के मिलने का सिलसिला जारी है. सोमवार को एक महिला का शव बरामद किया गया है.

मृतक महिला असोथर थाना जिला फतेहपुर के लक्ष्मणपुर की रहने वाली थी. महिला की शादी बांदा जनपद के बबेरू कोतवाली क्षेत्र के निभौर गांव में हुई थी. महिला पति के साथ राखी मनाने के लिए मायके जा रही थी. महिला के पति का शव दो दिन पहले बरामद हुआ था. दोनों के दो बच्चे हैं. बेटा जहां 15 वर्ष का है, वहीं बेटी 16 साल की है. दोनों के सिर से मां बाप का साया उठ गया है.

नाव में सवारी अधिक होने से हुआ हादसा
बताया जा रहा है कि नाव मे सवारी अधिक होने के कारण नाव की पतवार फट गई, जिससे 28 लोग नदी मे डूबने लगे. 13 लोगों ने डूब रही नाव से तैर कर अपनी जान बचा ली थी और 15 लोग नदी मे डूब गए थे. इस हादसे में नाव चालक भी बड़ी लापरवाही रही. मानक से ज्यादा लोगों को बैठाकर नाव में ले जाना सभी की जान के लिए आफत बन गया.

घाट के पास है पुलिस थाना
बांदा जनपद और पूरे उत्तर प्रदेश में इस घटना को लेकर के तमाम लोगों में शोक की लहर है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और देश के प्रधानमंत्री भी घटना से दुखी हैं. मरका घाट के चंद कदम की दूरी पर मरका थाना है. ऐसे में पुलिस विभाग की लापरवाही भी इस हादसे में सामने आ रही है. मृतकों के परिजनों को 4 4 लाख रुपए की राशि दी जा रही है.

Tags: Banda News, River Yamuna

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें