सनी देओल की फिल्मों का हीरो रियल नहीं होता, एक मुक्के में 12-15 लोग नहीं उड़ते: इमरान खान

बॉलीवुड अभिनेता व टीवी आर्टिस्ट इमरान खान की news 18 से ख़ास बातचीत हुई
बॉलीवुड अभिनेता व टीवी आर्टिस्ट इमरान खान की news 18 से ख़ास बातचीत हुई

इमरान खान कहते हैं कि उनकी फिल्म 'मैं भी' के पात्र आम हिन्दुस्तानी सरीखे हैं. इमरान ने उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए एक एक्टिंग ट्रेनिंग सेंटर खोलने का भी एलान किया जो एक्टिंग के साथ बॉलीवुड में किस्मत आजमाने जाने के लिए वहां की समस्याओं से भी रूबरू कराएगा...

  • Share this:
बाराबंकी. बॉलीवुड अभिनेता व टीवी आर्टिस्ट इमरान खान की होम प्रोडक्शन फ़िल्म "मैं भी" को सेंसरबोर्ड द्वारा U/A सर्टिफिकेट मिला है पहले इस फिल्म को सेंसर बोर्ड द्वारा 'A' सर्टिफिकेट दिया जा रहा था लेकिन इमरान खान की आपत्ति के बाद सेंसर बोर्ड ने पुनर्विचार करते हुए इसे U/A सर्टिफिकेट दे दिया है. इस दौरान उन्होंने सनी देओल की फिल्मों को लेकर कहा कि उनकी फिल्मों का हीरो आम हिंदुस्तानी नहीं होता.

"मैं भी"
अभिनेता इमरान खान एक निजी कार्यक्रम में यहां आए थे इस दौरान News 18 संवाददाता से अपनी फिल्म को लेकर ख़ास बातचीत में काफी उत्साहित नजर आए. इमरान बताते हैं कि उनकी होम प्रोडक्शन फ़िल्म "मैं भी" को सेंसरबोर्ड ने U/A सर्टिफिकेट दे दिया है अब इसे 12 साल से ऊपर के किशोर भी देख सकेंगे. वो बताते हैं कि पहले इस फ़िल्म को 'A'सर्टिफिकेट मिल रहा था मगर जब मैंने सेंसर बोर्ड के सामने अपनी फिल्म का मकसद रखा तो बोर्ड उनसे सहमत होकर U/A सर्टिफिकेट देने पर राजी हो गया.

सनी देओल के साथ 'बिग ब्रदर' करने के बारे में बताते हुए इमरान खान ने कहा कि वह फिल्म सनी देओल की थी उनकी फिल्मों में हीरो एक मुक्का मारता है तो 12-15 लोग उड़ जाते हैं वह ऐसी फिल्म में विश्वास नहीं करते. उनका हीरो आम हिन्दुस्तानी जैसा होना चाहिए जो एक या दो लोगों से तो लड़ सकता मगर जब ज्यादा लोग आ जाएं तो वह मुकाबला नहीं कर पाता है.
उनकी फिल्म 'मैं भी' के पात्र भी आम हिन्दुस्तानी सरीखे हैं. यहां पर इमरान खान ने उत्तर प्रदेश के युवाओं के लिए एक एक्टिंग ट्रेनिंग सेंटर खोलने का भी एलान किया जो एक्टिंग के साथ बॉलीवुड में हाथ आजमाने के लिए वहां की समस्याओं से भी रूबरू कराएगा कि अगर वह मायानगरी जाएं तो किन तैयारियों के साथ जाएं. इमरान खान बताते हैं कि उनकी होम प्रोडक्शन फिल्म कम्प्लीट हो चुकी है. इसकी कहानी उन चार नौजवानों पर आधारित है जिनके साथ टीन एज में कुछ गलत हो जाता है जिसके चलते बाद में उन्हें किस तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. वो कहते हैं कि उनकी यह फिल्म एक संदेशपरक फिल्म है.



ये भी पढ़ें-  Ayodhya Case: बच्चों ने दिया अमन का पैगाम बोले- 'एक-दूसरे से करते हैं प्यार हम'


नोटबंदी ने बेईमानों की कमर तोड़ दी, ऐतिहासिक था पीएम मोदी का फैसला: डिप्टी सीएम केशव मौर्य
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज