लाइव टीवी

UP: रेप पीड़िता LLB छात्रा ने किया सुसाइड, मां ने कहा-सुलह के दबाव से तंग आकर बेटी ने दे दी जान

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 8, 2020, 3:10 PM IST

छात्रा की मां ने आरोप लगाया है कि पहले तो दबंग आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई और बाद में बेटी पर सुलह का दबाव बनाया गया. जिसके बाद उसने अपनी जान दे दी.

  • Share this:
बाराबंकी. दुष्कर्म (Rape) पीड़ित एलएलबी की छात्रा ने मंगलवार को आत्महत्या (Suicide) कर ली. उसका शव कमरे में फंदे से लटकता मिला. अब छात्रा की मां ने आरोप लगाया है कि पहले तो दबंग आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं हुई और बाद में बेटी पर सुलह का दबाव बनाया गया. जिसके बाद उसने अपनी जान दे दी. इस संबंध में मृतका की मां ने पुलिस को तहरीर भी दी है और दुष्कर्म आरोपियों पर प्रताड़ना का अरोप लगाया है.

आरोपी पर चल रहे हैं पहले से कई मामले
मृतका की मां ने आरोप लगाया कि आरोपी लेखपाल दबंग हैं और उस पर पहले भी कई मामले दर्ज हैं. पुलिस में पहुंच के चलते पहले उनका केस नहीं दर्ज हुआ, बाद में कोर्ट के आर्डर पर मुकदमा दर्ज किया गया, लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं हुई. हालांकि इस मामले पर बाराबंकी पुलिस का कहना है कि पहले मृतका की मां पर जालसाजी का मुकदमा दर्ज किया गया था. इसकी पेशबंदी में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया गया है. लेकिन अभी तक ऐसे कोई सबूत नहीं मिले हैं.

फांसी लगाकर किया था सुसाइड

जानकारी के अनुसार युवती बाराबंकी के एक लॉ कॉलेज से एलएलबी की पढ़ाई कर रही थी. साथ ही एक वकील के यहां प्रैक्टिस भी करती थी. वह अपनी मौसी के यहां पिछले आठ महीने से रह रही थी. मंगलवार सुबह छात्रा का कमरा नहीं खुला तो परिजनों ने कमरे में झांक कर देखा तो उसका शव डुपट्टे से लटका हुआ था.

मां ने लगाया ये आरोप
मृतका की मां का आरोप है कि कॉलेज से लौटने के दौरान शिवपल्टन और लेखपाल शिवकुमार ने उसकी बेटी का रेप किया था. आरोपी लेखपाल दबंग हैं और उस पर पहले भी कई मामले दर्ज हैं. पुलिस में पहुंच के चलते पहले उनका केस नहीं दर्ज हुआ, बाद में कोर्ट के आर्डर पर मुकदमा दर्ज किया गया, लेकिन कोई गिरफ्तारी नहीं हुई. बाद में आरोपी लगातार सुलह का दबाव बनाने लगे. इससे बेटी हमेशा परेशान रहती थी.उल्टा युवती पर ही लगाया जालसाजी का आरोप
वहीं पीड़िता के वकील हरीश कुमार मिश्रा ने बताया कि दो सितंबर को छात्रा टिकैतनगर जाने के लिए घर से निकली. बस का इंतजार कर रही थी इसी दौरान दोनों आरोपी गाड़ी से आए और उसे लिफ्ट देने के बहाने बैठा लिया. रास्ते में उसके साथ रेप किया. पुलिस में शिकायत की, बाद में कोर्ट में भी केस किया. लेकिन आरोपियों ने उल्टा युवती पर ही जालसाजी का आरोप लगाकर शिकायत दर्ज करा दी और सुलह का दबाव बनाने लगे.

एसपी ने दुष्कर्म की बात से किया इनकार
उधर बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर ने बताया कि मृतका के पिता ने पोस्टमार्टम से पहले एक लिखित तहरीर दी थी. उनकी बेटी ने फांसी लगाकर आत्महत्या की है और उन्हें किसी पर शक नहीं है. लेकिन उसके बाद फिर मृतका की मां ने तहरीर दी कि दुष्कर्म के आरोपी उनकी लड़की को परेशान कर रहे थे. जिसके चलते उसने फांसी लगा ली. एसपी ने बताया कि पुलिस जांच में सामने आया है कि दो लोगों ने मृतका और उसकी मां पर एक गाड़ी के फाइनेंस को लेकर जालसाजी का मुकदमा दर्ज कराया था. इसकी पेशबंदी में मृतका की मां ने उन्हीं लोगों पर दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया है. हालांकि अभी तक की जांच में ऐसा कोई सबूत नहीं मिला है. आगे जांच चल रही है. जो भी तथ्य सामने आएंगे, कार्रवाई की जाएगी.

नहीं मिला कोई सुसाइड नोट
एसपी ने बताया कि मौका ए वारदात से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. पीड़ित लड़की के परिवार में और आरोपी लेखपाल के बीच पैसों को लेकर पुराना विवाद है. दोनों ने साझेदारी में गाड़ी खरीदी थी. इसी को लेकर आगे चल कर विवाद हुआ था. इस विवाद के बाद लेखपाल ने लड़की और उसकी मां के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया. इसकी जांच चल रही है. घटना के कुछ दिनों बाद लड़की की तरफ से लेखपाल और उसके मुंशी के खिलाफ भी रेप का मामला दर्ज कराया गया. जांच में विवेचक ने ये मामला सही नहीं पाया. उसने फाइनल रिपोर्ट लगा दी पर उच्चाधिकारियों ने इसके दुबारा विवेचना के आदेश दिए. जांच चल रही है. इसी बीच ये घटना हुई है.

ये भी पढ़ें: वीर सावरकर की विचारधारा पर चला होता देश तो आ गया होता रामराज: वसीम रिजवी

CAA हिंसा: यूपी सरकार की कार्रवाई में दखल देने से हाईकोर्ट का इनकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बाराबंकी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 8, 2020, 1:54 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर