Home /News /uttar-pradesh /

बाराबंकी: बाबुओं ने छीना बच्चों के मुंह का निवाला, MDM के 4.15 करोड़ डकारे

बाराबंकी: बाबुओं ने छीना बच्चों के मुंह का निवाला, MDM के 4.15 करोड़ डकारे

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय बाराबंकी

जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय बाराबंकी

इस घोटाले को मध्याह्न भोजन समन्वयक 2013 से अन्जाम दे रहे थे और इसका पैसा किसी स्कूल या संस्था में नही बल्कि व्यक्तिगत खातों में जा रहा था.

    बाराबंकी के शिक्षा विभाग में बच्चों के मिड डे मील में एक बड़ा घोटाला उजागर हुआ है। यह घोटाला चंद रुपयों का नही बल्कि करोड़ों रुपये की लूट के रूप में सामने आया है. इस बड़े घोटाले को बाराबंकी के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने अपने जनपद के आला अधिकारियों की मदद से उजागर किया और दोषियों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत करवा दिया है. इस घोटाले को मध्याह्न भोजन समन्वयक 2013 से अन्जाम दे रहे थे और इसका पैसा किसी स्कूल या संस्था में नही बल्कि व्यक्तिगत खातों में जा रहा था. जालसाज इतनी चालाकी से काम कर रहे थे कि सामान्य तौर पर इनका पकड़ा जाना कठिन था.

    बाराबंकी के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी वीपीसिंह की नजर एक दिन कार्यालय में मध्याह्न भोजन की इन्ट्री का काम देख रहे कम्प्यूटर ऑपरेट पर पड़ी तो पूछताछ में पता चला कि वह यहां निशुल्क काम करता है. शक होने पर किसी को भनक न लगने पाए इसके लिए उन्होंने गुपचुप जांच शुरू की. जांच के जब नतीजे सामने आए तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं. करोड़ों रुपए का खेल उनकी नाक के नीचे चल रहा था और उनको खबर तक नहीं थी. यह सब देखकर बेसिक शिक्षा अधिकारी ने दोषियों के खिलाफ पुलिस थाने में तहरीर देकर मुकदमा पंजीकृत करवाया.

    बेसिक शिक्षा अधिकारी ने अपनी तहरीर में मध्याह्न भोजन के समन्वयक राजीव शर्मा और उनके सहयोगी रहीमुद्दीन, रोजी, साधना को इस पूरे घोटाले का जिम्मेदार मानते हुए कार्रवाई की मांग की. जिसके बाद राजीव शर्मा और रहीमुद्दीन को गिरफ्तार कर लिया गया है.

    वहीं इस घोटाले पर बाराबंकी के बेसिक शिक्षा अधिकारी वीपी सिंह ने बताया कि साल 2013 से बच्चों के मिड डे मील में लूट का खेल चल रहा था. सभी आरोपी इतने शातिर तरीके से काम कर रहे थे कि सामान्य तौर पर इन्हें पकड़ना तो दूर इन पर कोई शक भी नहीं कर सकता था. अगर उन्होंने गुपचुप तरीके से जांच न कराई होती तो यह पकड़ में आते ही नहीं. बीएसए ने बताया कि जिलाधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी ने इनका घोटाला उजागर करने में भरपूर सहयोग दिया. खाते की जांच में पता चला कि पैसा किसी स्कूल के खाते में या किसी संस्था के खाते में न जाकर बल्कि व्यक्तिगत खातों में जा रहा है. करोड़ो के घोटाले में उन्होंने मध्याह्न भोजन के समन्वयक राजीव शर्मा और उनके सहयोगी रहीमुद्दीन, रोजी और साधना के विरुद्ध नगर कोतवाली तहरीर देकर मुकदमा दर्ज करवाया है.

    (रिपोर्ट: अनिरुद्ध शुक्ला)

    ये भी पढ़ें: 

    मुलायम ने अखिलेश यादव को दी नसीहत- मुकाबला बीजेपी से, और करें तैयारी

    योगी कैबिनेट: UP में गौ कल्याण सेस को मिली मंजूरी, कई विभाग मिलकर कराएंगे 'गौ सेवा'

    माफिया अतीक अहमद पहुंचा बरेली जेल, कहा- अब आराम से करूंगा लोकसभा की तैयारी

    अयोध्या में महंत कृष्णकांतचार्या पर दुष्कर्म का आरोप, गिरफ्तार कर भेजे गए जेल

    Tags: Up news in hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर