Barabanki : अवध चिल्ड्रंस हॉस्पिटल में ऑक्सीजन क्राइसिस, 10-12 बच्चों की जिंदगी दांव पर

इस अस्पताल में फिलहाल 10-12 बच्चे भर्ती हैं. सबको ऑक्सीजन की जरूरत है.

इस अस्पताल में फिलहाल 10-12 बच्चे भर्ती हैं. सबको ऑक्सीजन की जरूरत है.

अस्पताल प्रशासन को ऑक्सीजन का इंतजाम करने में काफी परेशानी हो रही है. डॉक्टर का कहना है कि भर्ती सभी बच्चों की जान बचाई जा सकती है, लेकिन ऑक्सीजन की कमी के चलते हमलोग लाचार हो चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 24, 2021, 8:39 PM IST
  • Share this:
बाराबंकी. बाराबंकी जिले के दोनों ऑक्सीजन प्लांट लिक्विड ऑक्सीजन न मिलने से बंद हो गए हैं. आलम यह है कि जिन अस्पतालों में इलाज के लिए ऑक्सीजन की सबसे ज्यादा जरूरत है, वहां भी अब ऑक्सीजन नहीं पहुंच पा रही है. ऐसे में अस्पताल प्रशासन हॉस्पिटल बंद करने की बात कर रहा है. ताजा मामला बाराबंकी के अवध चिल्ड्रंस हॉस्पिटल का है, जहां ऑक्सीजन न मिलने के चलते हॉस्पिटल में भर्ती करीब दर्जन भर बच्चों की जिंदगी दांव पर लग गई है.

10-12 बच्चे भर्ती हैं अवध चिल्ड्रंस हॉस्पिटल में

पुलिस लाइन चौराहे पर स्थित अवध चिल्ड्रंस हॉस्पिटल में दस से बारह बच्चे एडमिट हैं और सभी की हालत काफी सीरियस है. सभी बच्चों को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है, लेकिन अस्पताल प्रशासन को ऑक्सीजन का इंतजाम करने में काफी परेशानी हो रही है. अस्पताल के डॉक्टर का कहना है कि इन सभी बच्चों की जान बचाई जा सकती है, लेकिन ऑक्सीजन की कमी के चलते हमलोग लाचार हो चुके हैं.

एक बच्चे को चाहिए 24 घंटे में 4 ऑक्सीजन सिलिंडर
अस्पताल के डॉक्टर सैय्यद मोहम्मद शाकिब का कहना है कि उन्हें अस्पताल के लिए ऑक्सीजन का प्रबंध करने में काफी परेशानी हो रही है. डॉक्टर के मुताबिक वेंटिलेटर पर रखे एक बच्चे को 24 घंटे में कम से कम 4 ऑक्सीजन सिलिंडर की जरूरत होती है, लेकिन हमलोगों को ऑक्सीजन नहीं मिल रही. उन्होंने बताया कि जब वे लोग ऑक्सीजन रिफिल कराने जाते हैं तो उनके साथ वहां बैठे पुलिसकर्मी बुरा बर्ताव करते हैं. डॉक्टर का कहना है कि अगर ऐसे ही चलता रहा तो हमें अपना हॉस्पिटल बंद करना पड़ जाएगा.

तीमारदारों ने भी कही ऑक्सीजन की कमी की बात

हॉस्पिटल में एडमिट बच्चों के परिजनों का कहना है कि उनके बच्चों के इलाज के लिए ऑक्सीजन नहीं मिल रही है. डॉक्टर किसी तरह दवाओं के सहारे इलाज कर रहे हैं. ऑक्सीजन नहीं मिलने से बच्चों के इलाज में काफी दिक्कत हो रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज