• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • Road accidents की वजह से उत्‍तर प्रदेश को सालाना करीब 20000 करोड़ का होता है नुकसान

Road accidents की वजह से उत्‍तर प्रदेश को सालाना करीब 20000 करोड़ का होता है नुकसान

सड़क हादसों की वजह से उत्‍तर प्रदेश में होती है सबसे अधिक मौतें

सड़क हादसों की वजह से उत्‍तर प्रदेश में होती है सबसे अधिक मौतें

UP Road accident: सड़क हादसों की वजह से देश में सबसे अधिक जानें उत्‍तर प्रदेश में जाती हैं. इस वजह से प्रदेश को सालाना करीब 20000 करोड़ का नुकसान होता है. मंगलवार रात लखनऊ-अयोध्‍या हाईवे पर एक बड़ा सड़क हादसा हुआ है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. देशभर में होने वाले सड़क हादसों (Road Accident) में सबसे अधिक मौत (death) उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में होती हैं. इन हादसों, उसमें मारे गए और घायल लोगों की वजह से प्रदेश को सालाना करीब 20000 करोड़ का आर्थिक नुकसान (economic loss) उठाना पड़ता है. हालांकि सड़क हादसों की संख्‍या के मामले में प्रदेश देश में तीसरे स्‍थान पर है, इसके बावजूद मौतें सबसे अधिक प्रदेश में होती हैं. ताजे मामले में मंगलवार रात उत्‍तर प्रदेश के एनएच 27 लखनऊ-अयोध्‍या हाईवे पर हुए सड़क हादसे में 18 लोगों की मौत हो गई और करीब 25 लोग घायल हो गए.

सड़क परिवहन मंत्रालय (Ministry of Road Transport) की रिपोर्ट के अनुसार उत्‍तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में पिछले कुछ वर्षों में हुए सड़क हादसों की वजह से होने वाली मौत का आंकड़ा औसतन करीब 19 हजार के आसापास रहा है. करीब 20 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश का यह आंकड़ा देश में सबसे अधिक है. सड़क हादसों की वजह से कुल होने वाली मौतों में उत्‍तर प्रदेश में 14 फीसदी मौतें होती हैं. मौतों के मामले में दूसरा नंबर महाराष्‍ट्र और तीसरा नंबर मध्‍य प्रदेश का है. हालांकि पहले और दूसरे नंबर में अंतर थोड़ा नहीं काफी बड़ा है. करीब दोगुना है.
वहीं, सड़क हादसों की वजह से गंभीर रूप से घायल होने वालों की संख्‍या के मामले में उत्‍तर प्रदेश का तीसरा नंबर है. पहला नंबर केरल है. अगर सड़क हादसों की बात की जाए तो इसमें भी उत्‍तर प्रदेश का नंबर तीसरा है. देश में होने वाले कुल होने वाले सड़क हादसों में 9.5 फीसदी उत्‍तर प्रदेश में होते हैं. पहला नंबर तमिलनाडु का है.

सड़क हादसों का खामियाजा पीडि़त परिवार के साथ-साथ संबंधित राज्‍य को भी उठाना पड़ता है. मौत होने पर सामाजिक और आर्थिक नुकसान होता है. एक मौत के पीछे, सभी तरह के हादसों के अनुपात की कीमत की 2014 के कॉस्ट के मुताबिक करीब 1.1करोड़ है, उसी हिसाब से उत्तर प्रदेश में हुए हादसों की सालाना समाजिक और आर्थिक कीमत 20,000 करोड़ के करीब है.

इस संबंध में रोड सेफ्टी एक्‍सपर्ट नवदीप असीजा बताते हैं कि सड़क हादसे की मौत की ईकाई में सभी गंभीर और मामूली चोटिल लोगों और गाड़ी को हुए नुकसान की कीमत शामिल है. देश में सबसे अधिक मौत उत्‍तर प्रदेश में होने का कारण वो बताते हैं कि प्रदेश की आबादी और वाहनों की संख्‍या को देखते हुए सुरक्षित इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर का अभाव है.

सड़क हादसों से होने वाली मौतें

प्रदेश मौतें

उत्‍तर प्रदेश 19731

महाराष्‍ट्र 11787

मध्‍य प्रदेश 10182

उत्‍तर प्रदेश में पूर्व के वर्षों में सड़क हादसों से हुईं मौतें

2918 में 19364

2017 में 17706

2016 में 16164

देश में सड़क हादसों में टॉप थ्री राज्‍य

प्रदेश सड़क हादसे

तमिलनाडु 57228

मध्‍य प्रदेश 50669

उत्‍तर प्रदेश 42572

हादसों में गंभीर रूप से घायल होने वालों का आंकड़ा

प्रदेश संख्‍या

केरल 29569

कर्नाटक 17487

उत्‍तर प्रदेश 13651

आंकड़ें सड़क परिवहन मंत्रालय की रिपोर्ट के अनुसार.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज