लाइव टीवी

बाराबंकी: बैंक की नोटिस से तंग किसान ने लगाई फांसी, डर था- खेत-घर सब बिक जाएगा !

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 25, 2019, 7:36 PM IST
बाराबंकी: बैंक की नोटिस से तंग किसान ने लगाई फांसी, डर था- खेत-घर सब बिक जाएगा !
बाराबंकी में किसान ने कर्ज न चुका पाने के चलते आत्महत्या कर ली (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मृतक किसान के भाई श्याम कुमार ने बताया कि वह बैंक के कर्ज (bank loan) से काफी परेशान रहता था. बीते दिनों उसे बैंक (cooperative bank) का नोटिस ( bank notice) मिला था, जिसके चलते उसने आत्महत्या (suicide) कर ली. मृतक किसान के तीन बच्चे हैं. बड़ी लड़की शादी करने लायक है.

  • Share this:
बाराबंकी. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में कर्ज के बोझ से परेशान एक किसान ने आत्महत्या कर ली है. किसान के पास कर्जे को लेकर आए दिन नोटिस आती थी जिससे वह तंग आ चुका था. मृतक किसान के परिजनों का कहना है कि वह बीते काफी दिनों से परेशान था. उसे लग रहा था कि वह कर्ज वापस नहीं कर पाएगा और उसका खेत घर सब चला जाएगा, इस डर से उसने ये खतरनाक कदम उठा लिया और फांसी लगाकर अपने जीवन का अंत कर लिया. उसके परिवार में तीन बच्चे हैं बड़ी बेटी विवाह योग्य है.

तनाव के चलते उठाया ये कदम
मामला बाराबंकी जिले की फतेहपुर तहसील के एक गांव का है. यहां के गांव पैगुवा के निवासी वीरेंद्र कुमार ने कर्ज से परेशान होकर फांसी लगा ली. मृतक किसान पर बैंक का करीब सात-आठ लाख रुपये का कर्ज था और वह बैंक की नोटिसों से परेशान था. इस लोन को जमा करने के लिए बीते दिनों उसे फिर से नोटिस दिया गया था, जिसके चलते वह काफी तनाव में था और इसी तनाव के बीच उसने यह कदम उठाया है. किसान के आत्महत्या किए जाने की जानकारी मिलते ही स्थानीय पुलिस मौके पर पहुंची और पंचनामा की कार्यवाही कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा.

वहीं मृतक किसान के भाई श्याम कुमार ने बताया कि वह बैंक के कर्ज से काफी परेशान रहता था. बीते दिनों उसे बैंक का नोटिस मिला था, जिसके चलते उसने आत्म हत्या कर ली. मृतक किसान के तीन बच्चे हैं. बड़ी लड़की शादी करने लायक है. उसे लग रहा था कि कर्ज के चक्कर में उसका घर और जमीन सब चला जाएगा फिर उसके परिवार का क्या होगा? यही चिंता उसे खाए जा रही थी और उसने ऐसा कदम उठा लिया. गांव के ही एक अन्य व्यक्ति रामहेतु ने news 18 से बातचीत में बताया कि मृतक के पास लगभग तीन लाख से ऊपर का कर्ज था जो उसके पिता जी ने लिया था. अब बैंक की तरफ से उसे परेशान किया जा रहा था. बैंक के अलावा समूह का भी कर्ज उसके सिर पर था. न चुका पाने की दशा में आज उसने जान दे दी.

बैंक ने आरोप से किया इंकार
वहीं सहकारिता बैंक के मैनेजर मनोज कुमार निगम ने बताया कि मृतक के ऊपर चार लाख से ऊपर का कर्ज था जो उसके पिता द्वारा लिया गया था. बैंक की तरफ से उसे किसी तरह से परेशान नही किया जा रहा था. कुछ महीने पहले एक नोटिस उसके परिवार के नाम जरूर दी गई थी मगर बैंक का कोई भी कर्मचारी या अधिकारी उसके घर नही गया था. बैंक की ओर से उसे किसी भी तरह कोई परेशान नही किया जा रहा था.

ये भी पढ़ें- सीएम योगी का बड़ा एलान -अब आंगनबाड़ी केंद्र बनेंगे प्री प्राइमरी स्कूल...
Loading...



Diwali 2019: बाराबंकी के कुम्हारों की गुहार, सरकार से है मदद की दरकार

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बाराबंकी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 7:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...