Assembly Banner 2021

Farmers Protest: किसान महापंचायत में बौखलाए नरेश टिकैत, राजनाथ सिंह को कहा 'पिंजरे का तोता'

यूपी किसान पंचायत में नरेश टिकैत ने दिया बड़ा बयान.

यूपी किसान पंचायत में नरेश टिकैत ने दिया बड़ा बयान.

Barabanki News: किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait) ने कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) को बात करने की आजादी दे, तो हमारी गारंटी है कि फैसला हो जाएगा.

  • Share this:
बाराबंकी. पंजाब (Punjab) और हरियाणा (Haryana) से शुरू हुए किसानों के आंदोलन (Farmer Protest) को अब तीन महीने बीत चुके हैं. दिल्ली (Delhi) की सीमाओं पर बैठे किसान सरकार से कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं. पश्चिमी यूपी तक फैले आंदोलन की आंच अब अवध और पूर्वांचल में भी पहुंच रही है. भारतीय किसान यूनियन  बुधवार को  यूपी के बाराबंकी में भी किसान महापंचायत कर रही है. इस महापंचायत में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत (Naresh Tikait) भी शामिल हुए हैं. महापंचायत में तमाम मुद्दों को लेकर नरेश टिकेत ने सरकार और भाजपा (BJP) पर निशाना भी साधा है. इसके अलावा केंद्र सरकार में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) को लेकर नरेश टिकैत ने कहा कि सरकार ने उन्हें पिंजरे का तोता बना दिया है. अगर सरकार राजनाथ सिंह को बात करने की आजादी दे, तो हमारी गारंटी है कि फैसला हो जाएगा. लेकिन यह सरकार जिद्दी है, सरकार को किसानों की बात सुननी चाहिए और अपना रवैया बदलना चाहिए.

बाराबंकी के हैदरगढ़ रोड स्थित हरख चौराहे पर बुधवार को किसान महापंचायत कर रहे हैं. किसान महापंचायत में बीकेयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत भी शामिल हुए. बाराबंकी में तीनों कृषि सुधार कानून की वापसी और न्यूनतम समर्थन मूल्य का कानून बनाया जाना किसानों की महापंचायत का मुख्य मुद्दा है. महापंचायत में शिरकत करने पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के बारे में बात करतेे हुए कहा कि सरकार ने उन्हें पिंजरे का तोता बना दिया है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार राजनाथ सिंह को किसानों से बात करने की आजादी दे तो उनकी गारंटी है कि सारी समस्या का हल निकल आएगा. पूरे सम्मान से फैसला हो जाएगा और भाजपा की भी साख बची रह जाएगी. किसान राजनाथ सिंह का सम्मान करते हैं, लेकिन राजनाथ सिंह को मौका केंद्र सरकार की तरफ से नहीं दिया जा रहा है.

 नरेश टिकैत ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना



नरेश टिकैत ने कहा कि पूर्वांचल का रास्ता बाराबंकी से खुलता है. ये पूर्वांचल की सफलता का द्वार है, इसलिए इसे खोलना बहुत जरूरी है. जब यहां का किसान अपने अधिकारों के प्रति जागरुक होगा तभी वह पूर्वांचल के किसानों को तीनों काले कानूनों के खिलाफ जागरुक करने में सफल होगा. उन्होंने कहा कि हम इस तरह की पंचायतें पूरे पूर्वांचल में करने जा रहे हैं. हर जिले में हमारी महापंचायत होगी. इसमें किसानों को जागरुक कर यह बताने का कार्य करेंगे कि ये तीनों कानून किस तरह से आने वाले दिनों में हमें अपना गुलाम बना लेंगे.
मुस्लिमों के मुद्दे पर नरेस टिकैत ने कहा कि पहले हिंदू और मुस्लिम एक साथ प्रेम से रहते थे. कोई किसी का विरोध नहीं करता था. लेकिन साल 2013 से भाजपा वालों ने मुसलमानों को लेकर काफी भ्रांतियां फैला दीं. मुसलमानों को लेकर सभी के मन में फूट डलवा दिया, लेकिन अब लोगों को इनकी चाल समझ में आ रही है. इसीलिए अब इनकी दाल नहीं गलने वाली. ये सरकार किसानों को भी आतंकवादी, खालिस्तानी बताकर बदनाम कर रही है. किसानों को बदनाम करने की कोशिश की जाएगी, तो हम चुप नहीं बैठेंगे.

बीजेपी पर बोला हमला

संजीव बालियान के मुद्दे पर नरेश टिकैत ने कहा कि वो सरकार में हैं इस कारण विरोध नहीं कर सकते हैं. वो न मेरा विरोध कर रहे हैं न मैं उनका विरोध कर रहा हूं. वो भी तो परेशान हैं. उन्हें भी तो विरोध झेलना पड़ रहा है. साथ ही उन्होंने कहा कि हम लोगों ने बीजेपी को वोट दिया था. कई बीजेपी के लोग हमारे साथ हैं, लेकिन मंत्रिमंडल में बैठे लोग हमारे साथ नहीं हैं. नरेश टिकैत ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री कानून वापस लेने के लिए तैयार नहीं है तो किसान भी वापस हटने के लिए तैयार नहीं है.

ये भी पढ़ें: Rajasthan Budget 2021: बजट में महिलाओं पर खास फोकस, ये खास App लांच करने की तैयारी में गहलोत सरकार

नरेश टिकैत ने आगे कहा कि किसान भुखमरी की कगार पर पहुंच चुका है. किसान पूरी तरह बर्बाद हो चुका है, उसे अपनी फसल का उचित मूल्य नहीं मिल रहा है. बिजली की कीमतें बढ़ रही हैं. हर दिन पेट्रोल-डीजल के दाम भी बढ़ रहे है. सरकार को अपना रवैया बदलना चाहिए. अगर थोड़े बहुत दिन और अगर यह सरकार रहेगी तो किसानों को अपनी खेती से हाथ धोना पड़ेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज