पत्नी के 6 टुकड़े कर नेपाल भागने की फिराक में था पति, बिजली बिल ने खोल दी पोल

पत्नी की हत्या के बाद आरोपी पति समीर खान नेपाल भागने की फिराक में था

पत्नी की हत्या के बाद आरोपी पति समीर खान नेपाल भागने की फिराक में था

लखनऊ (Lucknow) के इंदिरा नगर में एक शख्स ने अपनी पत्नी की हत्या (Murder) कर शव के 6 टुकड़े कर डाला. फिर शव को एक ब्रीफकेस में भरकर लखनऊ-अयोध्या हाईवे (Lucknow-Ayodhya Highway) पर फेंक दिया.

  • Share this:
बाराबंकी. उत्तर प्रदेश के बाराबांकी (Barabanki) में ट्रॉली बैग में एक महिला का शव (Dead body) मिलने से सनसनी फैल गई. हालांकि पुलिस (Police) जांच के दौरान तार जोड़ेते-जोड़ते आरोपी पति (Accused Husband) तक पहुंच गई. जबकि आरोपी पुलिस से बचने के लिए नेपाल (Nepal) भागने की तैयारी में थे. लेकिन पुलिस की तेजी ने उसकी इस मंशा पर पानी फेर दिया. एसपी ने राजफाश करने वाली टीम को 25 हजार रुपये का पुरस्कार दिया.

हाईवे पर ब्रीफकेस में टुकड़ों में मिली थी लाश 

दरअसल बीते दिनों लखनऊ-अयोध्या हाईवे पर कोतवाली नगर क्षेत्र में सफेदाबाद स्थित केवाड़ी मोड़ के पास ब्रीफकेस और बैग में छह टुकड़ों में एक महिला का शव मिला था. जिसकी शिनाख्त मुंबई के अंबेडकरनगर-टाटा-वसहत मार्ग भारतनगर निवासी बादशाह शेख की पुत्री मालन बादशाह शेख उर्फ आयशा के रूप में हुई. आयशा की लखनऊ के इंदिरानगर में पति ने हत्याकर शव को छह टुकड़ों में काट दिया था. आरोपी को सर्विलांस के जरिये ट्रैस कर लखनऊ के इंदिरानगर थाना क्षेत्र के मुंशी पुलिया से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

5 जुलाई को की थी हत्या 
जानकारी के मुताबिक आयशा की हत्या गत 5 जुलाई को आपसी विवाद के बाद लखनऊ के इंदिरा नगर के सेक्टर-14 में रह रहे पति समीर खान ने लोहे के रॉड से कर दी थी. समीर बलरामपुर के महराजगंज थानाक्षेत्र के गुलरिहा का रहने वाला है. और मुंबई के बांद्रा क्षेत्र में एक चिकन शॉप में काम करता था. लेकिन लॉकडाउन के दौरान मार्च में लखनऊ लौटा आया था. आयशा की हत्या के बाद समीर बाजार से चापड़ और शव को पैक करने के लिए अन्य सामग्री खरीदकर लाया. और उसी रात शव के छह टुकड़े कर ब्रीफकेस और बैग में भरकर कार से ले जाकर हाईवे पर फेंक दिया था.

ऐसे हुआ खुलासा 

बाराबंकी एसपी डॉ. अरविंद चतुर्वेदी ने बताया कि जिस ब्रीफकेस में महिला का शव मिला था. उसमें पुलिस को दो अहम सुराग मिले. पहला सुरागा था बैग में रखा आरोपी का जींस. जिसमें लखनऊ के पार्क के दो टिकट थे. दूसरा अहम सुराग था बैग में रखा बिजली का बिल. यह बिल इतना पुराना था कि उसमें कुछ ही नंबर दिख रहे थे. जिसके बाद पुलिस ने इन्हीं दो सबूतों के आधार पर पड़ताल शुरू की.



बिजली बिल एक महिला के नाम था. पुलिस जब उस महिला तक पहुंची तो उसने बताया कि वह मकान उसने समीर को बेच दिया है. यहीं से पुलिस को समीर का नंबर मिला. जिसके बाद पुलिस ने समीर की मोबाइल डिटेल खंगाली तो उसकी लोकेशन की पुष्टि हुई. हालांकि आरोपी ने उस मोबाइल को बंद कर दिया था. बावजूद इसके पुलिस ने सर्विलांस सेल की मदद आरोपी का नया नंबर हासिल किया. और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया. एसपी ने बताया आरोपी समीर खान नेपाल भागने की जुगत में था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज