बाढ़ प्रभावित इलाकों के दौर पर सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा- पानी और बढ़ेगा

मंत्री धर्मपाल सिंह का उक्त बयान तब दिया है जब बाढ़ प्रभावितों को तत्काल राहत की जरूरत है, लेकिन वो बाढ़ पर चुटकी लेने से भी बाज नहीं आए, जहां हालात ऐसे हैं कि नदी के बढ़ते जलस्तर से तराई क्षेत्र के वाशिंदों का सबकुछ तबाह हो गया है और उन्हें वहां से पलायन होना पड़ रहा है

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 9, 2018, 9:57 AM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 9, 2018, 9:57 AM IST
बाराबंकी जिले में बुधवार को बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करने पहुंचे सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह ने अजीब बयान दिया है. दरअसल, घाघरा नदी के जलस्तर में हो रही वृद्धि से आसपास के घरों में पानी घुस गया है, जिससे स्थानीय लोग परेशान है, लेकिन लोगों का ढांढस बंधाने के बजाय मंत्री ने यह कहकर उनके जख्मों पर नमक रगड़ दिया कि बाढ़ का पानी एक खास स्थान को छूकर ही वापस लौटेगा. इससे पहले मंत्री ने बाढ़ से प्रभावित इलाकों का दौरा करने के बाद हेतमापुर राहत शिविर का भी जायजा लिया.

यह भी पढ़ें-अखिलेश यादव यूपी के फ्यूज बल्ब हैं, ये रोशनी नहीं दे सकते: धर्मपाल सिंह

रिपोर्ट के मुताबिक मंत्री धर्मपाल सिंह ने बाढ़ को लेकर आयोजित बैठक में अधिकारियों से हंसते हुए कहा कि घाघरा का पानी अभी और बढ़ेगा और एक खास जगह को छूने के बाद ही नदी का जलस्तर घटेगा. बकौल मंत्री, अभी नदी ने उस जगह को छुआ नहीं है इसलिए संभावना है कि पानी अभी और बढ़ेगा.

मंत्री धर्मपाल सिंह का उक्त बयान तब दिया है जब बाढ़ प्रभावितों को तत्काल राहत की जरूरत है, लेकिन वो बाढ़ पर चुटकी लेने से भी बाज नहीं आए, जहां हालात ऐसे हैं कि नदी के बढ़ते जलस्तर से तराई क्षेत्र के वाशिंदों का सबकुछ तबाह हो गया है और उन्हें वहां से पलायन होना पड़ रहा है.

यह भी पढ़ें-यूपी में बाढ़ के संकट के बीच घोटाले को लेकर योगी के मंत्री और अफसर आमने-सामने

बताया जा रहा है कि घाघरा नदी के जलस्तर खतरे के निशान से करीब आधा मीटर ऊपर बह रहा है, जिससे नदी के किनारे बसे कचनापुर, हेतमापुर, सरसंडा, जमका, खुज्जी, करौनी, तेलवारी, सनावा और गेदरपुर गांवों में पानी भर गया है और हजारों लोग सुरक्षित ठिकानों पर पलायन करने को मजबूर हैं.

ऐसे में सिंचाई मंत्री धर्मपाल सिंह के बाढ़ पर फूहड़ बयान से लोगों निराशा ही हाथ लगी है, जिसका रामनगर से बीजेपी विधायक शरद अवस्थी ने हंसते हुए समर्थन किया. इससे पहले योगी सरकार की कैबिनेट मंत्री स्वाति सिंह भी बाढ़ को लेकर एक अजीबोगरीब बयान दे चुकी है. स्वाति सिंह ने बाढ़ को एक दैवीय आपदा बताते हुए कहा था कि इसका स्थाई समाधान नहीं किया जा सकता.

यह भी पढ़ें-बरेली: कैबिनेट मंत्री धर्मपाल सिंह के बेटे को जान से मारने की धमकी देने वाला गिरफ्तार

गौरतलब है नेपाल द्वारा लगातार बारिश का पानी छोड़ने से घाघरा नदी के तराई क्षेत्रों में बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. बाढ़ का पानी आबादी क्षेत्र में घुसने से कई गांव बाढ़ की जद में आ गए हैं, जिससे खेत, खलिहान, सड़क सभी पानी में डूब चुके हैं.

(रिपोर्ट-अनिरूद्ध, बाराबंकी)
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर