होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /

चोरी के चौंकाने वाले मामले का खुलासा: कई परीक्षार्थी बने निशाना, अकाउंट से उड़ाए लाखों, जानें मामला

चोरी के चौंकाने वाले मामले का खुलासा: कई परीक्षार्थी बने निशाना, अकाउंट से उड़ाए लाखों, जानें मामला

बाराबंकी पुलिस ने परीक्षार्थियों से चोरी करने वाली गैंग का खुलासा किया.

बाराबंकी पुलिस ने परीक्षार्थियों से चोरी करने वाली गैंग का खुलासा किया.

UP News: बाराबंकी पुलिस ने ऐसे शातिर चोरों की काली करतूत का खुलासा किया जो एग्जाम सेंटरों पर परीक्षा देने पहुंचते थे. चोर पहले योजना बनाकर स्कूलों, कालेजों में परीक्षा देने आए परीक्षार्थियों की रेकी करते थे. एग्जाम शुरू होने पर परीक्षार्थियों की स्कूटी की डिग्गी से रखा पर्स, मोबाइल, एटीएम कार्ड समेत दूसरे सामान की चुराकर मोबाइल में लगे सिम कार्डों के सहारे एटीएम कार्ड से संबंधित बैंक खाते से पैसे निकाल लेते थे.

अधिक पढ़ें ...

बाराबंकी. बाराबंकी पुलिस ने ऐसे शातिर चोरों की काली करतूत का पर्दाफाश किया है, जो एग्जाम सेंटरों पर परीक्षा देने आये परीक्षार्थियों को अपना निशाना बनाते थे. यह शातिर चोर पहले योजना बनाकर स्कूलों, कालेजों में परीक्षा देने आए परीक्षार्थियों की रेकी करते थे. इसके बाद फिर एग्जाम शुरू होने पर परीक्षार्थियों की स्कूटी की डिग्गी से रखा पर्स, मोबाइल, एटीएम कार्ड समेत दूसरे सामान की चोरी कर लेते थे. उसके बाद मोबाइल में लगे सिम कार्डों के सहारे एटीएम कार्ड से संबंधित बैंक खाते से पैसे निकाल लेते थे.

दरअसल, लखनऊ के विशाल श्रीवास्तव नाम के छात्र ने बाराबंकी की सतरिख पुलिस को सूचना दी थी कि 15 दिसंबर 2021 को वह प्रतियोगी परीक्षा देने IFACT एकडेमी अयोध्या रोड आया था. जब वह परीक्षा देकर बाहर आया तो उसकी स्कूटी से मोबाइल, पर्स और नकद रुपये गायब थे. इसके अलावा उसके दो बैंक खातों से कुल 94 हजार रुपये भी निकाले जा चुके थे. छात्र की इस शिकायत पर सतरिख पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी. अब सतरिख पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली और उसने एक अभियुक्त को गिरफ्तार किया है. एक अभियुक्त अभी भी फरार है और पुलिस उसकी तलाश कर रही है.

मैनुअल इंटेलीजेन्स व डिजिटल डेटा की मदद से हुआ गिरफ्तार
स्वॉट और सर्विलांस टीम ने एक अभियुक्त को किया गिरफ्तार सतरिख थाने की पुलिस, स्वॉट और सर्विलांस टीम ने मैनुअल इंटेलीजेन्स व डिजिटल डेटा की मदद से धर्मेंद्र प्रताप नाम के अभियुक्त को गिरफ्तार किया है. अभियुक्त धर्मेंद्र प्रताप जनपद गाजियाबाद का निवासी है. पुलिस ने अभियुक्त के कब्जे से सात चोरी के मोबाइल, 3 आधार कार्ड, 3 ड्राइविंग लाइसेंस, 5 मोबाइल सिम, 1 पेन कार्ड, 1 एटीएम कार्ड, 1 मेट्रो कार्ड, घटना में इस्तेमाल 1 लैपटॉप और एक चार पहिया वाहन बरामद किया है. वहीं अभियुक्त का एक साथी प्रिन्स कुमार अभी भी फरार है और उसकी गिरफ्तारी के लिये पुलिस जगह-जगह दबिश दे रही है.

एटीएम चुराकर निकालते थे पैसा
बाराबंकी के अपर पुलिस अधीक्षक पूर्णेंदु सिंह के मुताबिक पूछताछ में अभियुक्त धर्मेंद्र प्रताप ने बताया कि वह लोग योजना बनाकर स्कूलों, कालेजों में परीक्षा देने आए परीक्षार्थियों को निशाना बनाते थे. फिर जो परीक्षार्थी स्कूटी से एग्जाम देने आते थे, उनकी डिग्गी से पर्श, मोबाइल, एटीएम कार्ड समेत दूसरा सामान चोरी कर लेते हैं. इसके बाद मोबाइल में लगे सिमकार्डों के सहारे सम्बन्धित बैंक खाते के एटीएम कार्ड का पिन बदलकर खाते से पैसों को निकाल लेते थे.

फर्जी दस्तावेजों के आधार पर किया ये खेल
चोरों ने बताया कि उन लोगों ने कई फर्जी दस्तावेजों के आधार पर मोबाइल सिम खरीदे थे. उसी के माध्यम से आधार कार्ड और डीएल बनवा रखा था. जिसका इस्तेमाल वह लोग अलग-अलग शहरों में घटना को अंजाम देने और रुकने के लिए प्रयोग करते थे.

Tags: Barabanki News, Cyber Crime, UP news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर