होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Uttar Pradesh Elections Dariyabad: दरियाबाद सीट का क्या है चुनावी गणित? कौन मारेगा बाज़ी?

Uttar Pradesh Elections Dariyabad: दरियाबाद सीट का क्या है चुनावी गणित? कौन मारेगा बाज़ी?

दरियाबाद विधानसभा में जातीय आंकड़ों की बात करें तो इस सीट पर मुस्लिम एक लाख, 70 हजार रावत, 50 हजार यादव और 30 हजार के करीब ब्राहमण वोटर है. (फोटो- AP)

दरियाबाद विधानसभा में जातीय आंकड़ों की बात करें तो इस सीट पर मुस्लिम एक लाख, 70 हजार रावत, 50 हजार यादव और 30 हजार के करीब ब्राहमण वोटर है. (फोटो- AP)

Uttar Pradesh Elections Dariyabad: भाजपा ने यहां से मौजूदा विधायक सतीश चन्द्र शर्मा को ही प्रत्याशी बनाया है, कांग्रेस ...अधिक पढ़ें

    (ममता त्रिपाठी)
    दरियाबाद.  उत्तर प्रदेश के चुनावों (Uttar Pradesh Elections) में जातीय समीकरणों को साधते हुए ही राजनीतिक दल टिकटों का बंटवारा करते हैं. इस बार भी कुछ हद तक ऐसा ही प्रयास किया गया है. आया राम गया राम ने कई सीटों का गणित बिगाड़ दिया है. यहीं नहीं कई सीटों पर जिनको टिकट की आस थी और उन्हें टिकट नहीं मिल पाया वो बागी हो गए हैं. ऐसी ही एक सीट है बाराबंकी की दरियाबाद विधानसभा क्षेत्र. जहां से हड़हा स्टेट के राजा राजीव सिंह 26 साल तक लगातार विधायक रहे. सपा सरकार में वो मंत्री भी रहे लेकिन 2017 की मोदी लहर में वो हार गए और भाजपा से युवा नेता सतीश चंद्र शर्मा विधायक बने थे.

    आपको बता दें कि सपा नेता अरविंद सिंह गोप अखिलेश के करीबी लोगों में शुमार किए जाते हैं, गोप 2012 में बाराबंकी की रामनगर सीट से विधायक बने थे. हालांकि 2017 में वो चुनाव हार गए थे मगर पूरे पांच साल वो रामनगर सीट से ही तैयारी कर रहे थे और टिकट भी यहीं से चाह रहे थे. मगर सपा हाईकमान ने गोप को दरियाबाद से टिकट दे दिया जिससे वो भी बहुत खुश नहीं थे.

    टिकट को लेकर खींचतान
    राजीव सिंह दरियाबाद सीट से अपने बेटे रितेश सिंह के लिए टिकट चाह रहे थे मगर उनको टिकट नहीं मिला. उनके समर्थक कहते हैं कि दशकों जिस पार्टी के लिए राजा साहब ने अपना जीवन दिया उसकी उपेक्षा वो बर्दाश्त नहीं कर पाए. हार्ट अटैक की वजह से जनवरी 2022 में उनका निधन हो गया. रितेश सिंह ने पिता के मरने के बाद दरियाबाद सीट से ही निर्दलीय पर्चा दाखिल कर दिया है. अरविंद सिंह गोप के लिए इस सीट से चुनाव लड़ना बहुत बड़ी चुनौती बन गया है. दरअसल इलाके में चर्चा है कि राजीव सिंह के समर्थक गोप का सपोर्ट नहीं करेंगे. हालांकि मृदुभाषी गोप इलाके में खासे लोकप्रिय हैं लेकिन विपक्ष के साथ साथ भीतरघात से भी लड़ना पड़ रहा है.

    मैदान में कौन-कौन?
    भाजपा ने यहां से मौजूदा विधायक सतीश चन्द्र शर्मा को ही प्रत्याशी बनाया है, कांग्रेस ने चित्रा वर्मा को टिकट दिया है. रामनगर सीट पर टकराहट को रोकने के लिए सपा के रणनीतिकारों ने ये फैसला लिया क्योंकि कद्दावर समाजवादी नेता बेनी प्रसाद वर्मा के बेटे राकेश वर्मा भी रामनगर से ही टिकट मांग रहे थे जिसके चलते बाराबंकी की हॉट सीट बन गई थी रामनगर. गुटबाजी को रोकने के लिहाज से राकेश वर्मा को कुर्सी विधानसभा सीट से सपा ने प्रत्याशी बनाया है.

    दरियाबाद विधानसभा में जातीय आंकड़ों की बात करें तो इस सीट पर मुस्लिम एक लाख, 70 हजार रावत, 50 हजार यादव और 30 हजार के करीब ब्राहमण वोटर है. 27 फरवरी को पांचवें चरण में यहां मतदान होना है.

    Tags: Assembly Elections 2022, Uttar Pradesh Assembly Elections 2022

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें