कोटेदारों ने यूपी में 3550 क्विंटल राशन डकारा, 12 कोटेदारों पर केस दर्ज

शासन स्तर से सख्ती होने के बाद जिला पूर्ति अधिकारी की तरफ से प्रेमनगर थाने और बारादरी थाने में पुलिस को दी गई तहरीर के आधार पर 12 कोटेदारों पर केस दर्ज किया गया है. इस मामले में एसपी सिटी अभिनंदन सिंह का कहना है कि एफआईआर दर्ज करके जांच शुरू कर दी गई है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 5:39 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 5:39 PM IST
उत्तर प्रदेश में राशन प्रणाली को पारदर्शी बनाने के लिए सरकारी राशन की दुकानों पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीओएस मशीनें लगवाई थीं लेकिन भ्रष्टाचारियों ने इसमें भी खेल कर डाला और गरीबों का राशन हजम कर लिया. कोटेदारों ने पूरे यूपी में 3550 कुंतल राशन हजम कर लिया. मामला पकड़ में आने के बाद 12 कोटेदारों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है. जिला पूर्ति अधिकारी की तरफ से दी गई तहरीर के बाद पुलिस ने 12 कोटेदारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है.

जिस पीओएस मशीन को इसलिए लगाया गया था कि गरीबों के राशन को कोई भी हजम न कर सके, भ्रष्टाचारियों ने उसमे में भी सेंधमारी कर डाली. बरेली जिले में जांच के दौरान एक दर्जन ऐसे कोटेदारों के नाम सामने आए हैं जिन्होंने गरीबों का राशन हजम कर लिया है. दरअसल कोटेदारों ने ऑपरेटर की मिलीभगत से 141 राशन कार्डों का 3550 क्विंटल राशन डकार लिया.

शासन स्तर से सख्ती होने के बाद जिला पूर्ति अधिकारी की तरफ से प्रेमनगर थाने और बारादरी थाने में पुलिस को दी गई तहरीर के आधार पर 12 कोटेदारों पर केस दर्ज किया गया है. इस मामले में एसपी सिटी अभिनंदन सिंह का कहना है कि एफआईआर दर्ज करके जांच शुरू कर दी गई है. वही इस मामले में जिला पूर्ति विभाग के अफसर कैमरे पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं.

पीओएस मशीन में अंगूठा लगाने के बाद ही लोगों को राशन मिल पाता है लेकिन योगीराज में भी भ्रष्टाचारियों ने पीओएस मशीन में खेल कर डाला और हजारों कुंतल राशन डकार लिया. अब देखना यह है कि भ्रष्ट कोटेदारों और ऑपरेटरों को कब तक गिरफ्तार किया जाता है?

ये भी पढ़ें -

करोड़ों खर्च कर ऑफिस बनाने वाली BJP क्यों नहीं बनवा रही राम मंदिरः तोगड़िया


हमीरपुर: BJP नेता के घर पुलिस ने मारा छापा, कारबाइन बरामद


एक्शन में योगी सरकार, 102 राशन डीलरों के खिलाफ केस दर्ज


योग से जुड़े ये 5 बिजनेस बदल देंगे आपकी किस्मत, होगी करोड़ों की कमाई
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर