बरेली के 'नीरव मोदी' को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 300 करोड़ की ठगी का आरोप

पुलिस के मुताबिक, राजेश मौर्य बड़ा ही शातिर था उसने अपनी बातों की जाल में लोगों को ऐसा फंसाया की बरेली के कई नामचीन व्यापारी, सफेदपोश और पुलिस वालों ने करोड़ों रुपए श्री गंगा इंफ्रासिटी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में निवेश कर दिए.

HARISH SHARMA
Updated: July 29, 2018, 3:01 PM IST
बरेली के 'नीरव मोदी' को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 300 करोड़ की ठगी का आरोप
आरोपी राजेश मौर्य की फाइल फोटो
HARISH SHARMA
Updated: July 29, 2018, 3:01 PM IST
बरेली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने श्री गंगा इंफ्रासिटी प्राइवेट लिमिटेड के एमडी राजेश मौर्य को गाजियाबाद से गिरफ्तार किया है. पुलिस को कई दिनों से राजेश मौर्य की तलाश थी. एसएसपी मुनिराज समेत तमाम आला अधिकारी राजेश मौर्य से पूछताछ करने में जुटे हुए हैं. बताया जा रहा है कि राजेश मौर्य की पहचान बरेली के नीरव मोदी के रूप में होती है.

पुलिस के मुताबिक, राजेश मौर्य बड़ा ही शातिर था उसने अपनी बातों की जाल में लोगों को ऐसा फंसाया की बरेली के कई नामचीन व्यापारी, सफेदपोश और पुलिस वालों ने करोड़ों रुपए श्री गंगा इंफ्रासिटी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में निवेश कर दिए. कंपनी का भांडाफोड़ होने पर बारादरी थाने में मुकदमों का अंबार लग गया. हजारों निवेशकों ने थाने पहुंचकर राजेश मौर्य के खिलाफ एफआईआर कराई थी. पुलिस मामले की तफ्तीश में लगी हुई है.

राजेश मौर्य ने जिस प्रॉपर्टी में लोगों का पैसा लगवाया था पुलिस अब उस प्रॉपर्टी को जब्त करेगी. इसके अलावा पुलिस ने राजेश मौर्य के सभी एकाउंट फ्रीज करवा दिए हैं. हालांकि उसके एकाउंट में ज्यादा रुपए नहीं मिले. करीब 6 महीने पहले ही राजेश सारा पैसा बैंकों से निकाल चुका था.

हजारों निवेशकों का 300 करोड़ से अधिक डकारने वाला मास्टर माइंड राजेश मौर्य भले गिरफ्तार हो गया हो लेकिन निवेशक अभी भी परेशान हैं. क्योंकि जो पैसा उन्होंने कंपनी में लगाया था वो अभी तक नहीं मिला है और लोगों को उसकी उम्मीद भी कम नजर आ रही है.

यह भी पढ़ें:

यूपी में जल्द ही बुंंदेलखंड एक्सप्रेसवे की होने जा रही शुरुआत: सीएम योगी

अब भारत के विकास का एक्सप्रेसवे लखनऊ से भी गुजरता है: राजनाथ सिंह

योगी सरकार के गुड गवर्नेंस से UP को मिला इंडस्ट्री को नया माहौल: गौतम अडानी

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर