10वीं के छात्र ने लिखा- पापा मेरे दसवें में नानी समेत सभी नफरत करने वालों को बुलाना और कह दिया अलविदा
Bareilly News in Hindi

10वीं के छात्र ने लिखा- पापा मेरे दसवें में नानी समेत सभी नफरत करने वालों को बुलाना और कह दिया अलविदा
पुलिस मामले में जांच कर रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

बरेली में 10वीं के छात्र कार्तिक सक्सेना (Karthik Saxena) के सुसाइड नोट (Suicide Note) को पढ़कर न सिर्फ पुलिस (Police) सन्न रह गई बल्कि पिता और करीबी भी दंग रह गए.

  • Share this:
बरेली. उत्‍तर प्रदेश के बरेली में 10वीं के छात्र का सुसाइड करने का मामला सामने आया है. जबकि 16 साल के कार्तिक सक्सेना (Karthik Saxena) के शव के पास से मिले सुसाइड नोट (Suicide Note) को पढ़कर न सिर्फ पुलिस (Police) सन्न रह गई बल्कि पिता और करीबी भी दंग रह गए. यही नहीं, उसने अपने सुसाइड नोट में उससे नफरत करने वालों को भी बुलाने की बात भी लिखी है.

सुसाइड नोट से हुआ ये खुलासा
16 साल के कार्तिक सक्सेना ने सुसाइड नोट में उसने लिखा कि उसकी शक्ल लड़कियों जैसी लगती है और लोग हंसी उड़ाते हैं. अब तो उसे भी लगने लगा है कि वह किन्नर है और अब आत्महत्या ही उसके लिए एक रास्ता बचा है. उसने आगे लिखा है कि मैं एक अच्छा लड़का नहीं हूं और कुछ नहीं कर सकता है. उसके अंदर पिता की तरह कमाने की लगन नहीं हैं. वह एक सिंगर था और बच्चों को आर्ट सिखाना चाहता था, लेकिन किन्नर के लक्षण होने के साथ जीता तो अपने पिता के जीवन में ग्रहण बन जाता, जिसके कारण उसका मरना जरुरी है. अगर परिवार में कोई लड़की जन्म ले तो समझ लेना वह उसका दूसरा जन्म हैं. जबकि कार्तिक ने मौत के लिए किसी को जिम्मेदार नहीं ठहराया.

मुझे नफरत करने वालों को अंतिम संस्कार में बुलाना
कार्तिक ने सुसाइड नोट में उससे नफरत करने वालों को भी बुलाने की बात लिखी है, जो कि हैरान करने वाली है. उसने लिखा,'पापा मेरे दसवें में नानी समेत उन सबको बुलाना, जो इतनी नफरत करते थे. वो देखेंगे की मैं अब जिंदा नहीं हूं. इसके साथ ही उसने अंतिम इच्छा भी जाहिर की कि बेटा समझते हैं तो उसे दफन न करें. उसका श्मशान में अंतिम संस्कार करें और अस्थियों को कछला में बहाया जाए, जहां पर मां की अस्थियां विसर्जित की थीं. उसे भगवान का बुलावा आया और मम्मी के पास जाना है. अलविदा...'



बहरहाल, सुसाइट करने वाले कार्तिक सक्सेना के पिता राजीव सक्सेना उत्तराखंड के टनकपुर के मूल निवासी हैं. उनकी चंपावत में ही मोबाइल रिपेयर की दुकान है. जबकि लॉकडाउन लगने के कारण वह बरेली में ही रह रहे हैं. वह बड़े बेटे और दसवीं का छात्र कार्तिक सक्सेना और छोटा बेटा शुभ किराए के मकान में रहते हैं. वहीं, कार्तिक की मां अनुपमा सक्सेना की पांच साल पहले मौत हो चुकी है.

ये भी पढ़ें

पुलिस को बम से उड़ाने की नक्सली साजिश नाकाम, लैंडमाइन बरामद, सोनभद्र में अलर्ट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज