Home /News /uttar-pradesh /

Covid मरीजों का इलाज करने वाले संविदा स्वास्थ्यकर्मियों के छिने आवास, पुलिस के बल पर खदेड़ा

Covid मरीजों का इलाज करने वाले संविदा स्वास्थ्यकर्मियों के छिने आवास, पुलिस के बल पर खदेड़ा

पुलिस फोर्स के साथ स्वास्थ्य विभाग ने संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों को आवासों से बाहर कर दिया.

पुलिस फोर्स के साथ स्वास्थ्य विभाग ने संविदा स्वास्थ्य कर्मचारियों को आवासों से बाहर कर दिया.

Bareilly news: कोरोना संक्रमण के दौरान जिन स्वास्थ्य कर्मचारियों पर फूल बरसाए गए थे, उन कर्मचारियों को सरकारी आवास से बेदखल कर दिया गया. पुलिस फोर्स के साथ स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें आवासों से बाहर कर दिया. संक्रमण के समय अफसरों ने इन संविदाकर्मियों को कोविड हॉस्पिटल में ही रहने की अनुमति दी थी. अब तीसरी लहर की आशंका से पहले दोबारा विकसित करने की जगह इन संविदा कर्मचारियों को पहले नौकरी से निकाला गया और अब पुलिस की लाठी के बल पर सरकारी आवासों से भी बेदखल कर दिया गया है.

अधिक पढ़ें ...

बरेली. कोरोना संक्रमण के दौरान जिन स्वास्थ्य कर्मचारियों (Health workers) पर फूल बरसाए गए थे, उन कर्मचारियों को सरकारी आवास से बेदखल कर दिया गया. बरेली (Bareilly) के कोविड हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमण के दौरान दर्जनों लोगों को स्वास्थ्य विभाग ने संविदा के पर रखा था. कोरोना संक्रमण के दौरान इन्हीं कर्मचारियों ने बढ़ चढ़कर मरीजों को बेहतर इलाज दिया. उस समय इन कर्मचारियों को रहने के लिए स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने कोविड हॉस्पिटल में ही रहने के बंदोबस्त किए थे. अब तीसरी लहर की आशंका से पहले दोबारा विकसित करने की जगह इन संविदा कर्मचारियों को पहले नौकरी से निकाला गया और अब पुलिस की लाठी के बल पर इन्हें सरकारी आवासों से भी बेदखल कर दिया गया है.

कुछ महिला कर्मचारियों ने प्रभारी सीएमएस पर शाम के समय अस्पताल प्रांगण में बदसलूकी के आरोप लगाए हैं. संविदा कर्मचारियों का यह भी कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान हम लोगों ने अपनी जान पर खेलकर मरीजों का इलाज किया था. जब कोई सरकारी कर्मचारी काम नहीं कर रहा था तब हम लोगों ने एक दिन में कई कोविड शवों को सील किया. अब जब तीसरी लहर की आशंका है तब अधिकारियों ने हमें इन आवासों से भगा दिया है. नौकरी के दौरान जब हमने काम किया था उस दौरान जो पीएफ काटा गया था उसका भी आज तक भुगतान नहीं किया गया है.

वहीं, दूसरी तरफ डॉक्टर सतीश चन्द्रा ने मीडिया को बताया कि पिछले कुछ दिनों से कुछ संविदा कर्मचारी यहां रह रहे थे. उनको यहां से हटाया गया है. वह लोग बिजली का बिल तक जमा नहीं कर रहे थे. लाखों रुपये बिजली का बिल पेंडिंग पड़ा हुआ था. मकान खाली करने के लिए पहले उन्हें नोटिस दिया गया. फोन पर सूचना दी गई, लेकिन कोई असर नहीं हुआ तो पुलिस और मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में सरकारी आवास खाली कराए गए हैं.

एक तरफ सरकार तीसरी लहर से निपटने के दावे कर रही है. कोविड अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की व्यवस्था की जा है, लेकिन बरेली के कोविड अस्पताल में तैनात कर्मचारियों को निकालकर ताला डाल दिया गया है. इससे आप अंदाजा लगा लीजिए कि बरेली का स्वास्थ्य विभाग कोरोना को लेकर कितना गंभीर है.

Tags: Bareilly covid hospital, Bareilly news, Contract health workers action, Corona Virus, UP news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर