अपना शहर चुनें

States

बरेली पहुंची साध्वी प्राची, कहा- कृषि बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन करने वाले लोग जिहादी

कृषि बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन करने वाले लोग है जेहादी
कृषि बिल को लेकर विरोध प्रदर्शन करने वाले लोग है जेहादी

साध्वी प्राची ने पश्चिम बंगाल में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) पर हुए हमले पर बोलते हुए ममता बनर्जी को घेरने की कोशिश की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 21, 2020, 4:11 PM IST
  • Share this:
बरेली. विवादित बयानों को लेकर सुर्ख़ियों में रहने वाली हिंदूवादी नेता साध्वी प्राची (Sadhvi Prachi) ने इस बार कृषि बिल को लेकर किसानों के विरोध प्रदर्शन को लेकर विवादित टिप्पणी की है. सोमवार को बरेली (Bareilly) में मीडिया से बातचीत करते हुए साध्वी प्राची ने कहा कि किसानों की आड़ में जो लोग कृषि बिल को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं वह लोग जिहादी हैं. खालिस्तान की बात कर रहे हैं. साध्वी प्राची ने प्रधानमंत्री मोदी से निवेदन किया है कि वह कृषि कानून को वापस ना लें. यह कानून 70 साल की व्यवस्थाओं के बाद किसानों के लिए आया है अगर कानून वापस लिया गया तो साध्वी प्राची दिल्ली में अनशन करेंगी.

इसके बाद साध्वी प्राची ने पश्चिम बंगाल में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा पर हुए हमले पर बोलते हुए ममता बनर्जी को घेरने की कोशिश की. उनका कहना है कि पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के कार्यकाल में हजारों बीजेपी नेताओं की हत्या हुई. बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर हमला हुआ. भाजपा की सरकार पश्चिम बंगाल में बनने के बाद ममता बनर्जी का मुंह काला हो जाएगा.

अखिलेश यादव बोले- आजम खान पर लगाए गए झूठे मुकदमे में हारेगी यूपी सरकार



ममता के बाद कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए साध्वी प्राची ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष के लिए सोनिया गांधी, राहुल गांधी और फिर मैसेज वाड्रा है. उसके अलावा कोई नहीं... बीजेपी सिद्धांतवादी पार्टी है. बीजेपी में अमित शाह जी के बाद जेपी नड्डा राष्ट्रीय अध्यक्ष बने और अगला अध्यक्ष कौन होगा इसकी भी जानकारी किसी को नहीं है. राहुल गांधी कांग्रेस को बर्बाद करके अच्छा काम कर रहे हैं.
बता दें कि पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के हजारों किसान, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 26 नवंबर से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. किसान नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा पारित तीन कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं. इनका डर है कि नए कानूनों से उनकी आजीविका प्रभावित होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज