बरेली: कोविड मरीज की 3 दिन में मौत, अस्पताल ने बिल बनाया 96 हजार, CMO से शिकायत पर लौटाए 50,000 रुपये

बरेली के प्राइवेट अस्पताल विनायक हॉस्पिटल में मनमानी बिलिंग का मामला सामने आया है.

बरेली के प्राइवेट अस्पताल विनायक हॉस्पिटल में मनमानी बिलिंग का मामला सामने आया है.

Bareilly News: बरेली के सीएमओ डॉ एसके गर्ग का कहना है कि विनायक हॉस्पिटल की शिकायत आई थी, उन्होंने मरीज से ज्यादा रुपये ले लिए थे. मरीज के रुपये वापस करवा दिए गए हैं. एक कमेटी का गठन किया गया है, जिसमें आईएमए के डॉक्टर और जिला अस्पताल के डॉक्टरों का पैनल तैयार किया जा रहा है.

  • Share this:

बरेली. उत्तर प्रदेश में प्राइवेट अस्पतालों (Private Hospital) ने इन दिनों कोविड मरीजों (COVID-19 Patients) से लूट मचा रखी है. कोरोना के इलाज के नाम पर मरीजों से लाखों रुपये वसूले जा रहे हैं. ताजा मामला बरेली (Bareilly) का है. यहां शहर के नामचीन व्यापारी अनुपम कपूर के विनायक हॉस्पिटल (Vinayak Hospital) में कोविड के मरीज से 3 दिन में 96 हजार रुपये वसूल लिए गए और मरीज की मौत भी हो गई. अस्पताल और जिला प्रशासन की फजीहत के बाद सीएमओ की टीम ने अस्पताल पर कार्रवाई की बजाए मरीज के 50 हजार रुपये वापस कराकर मामला रफ-दफा कर जांच बन्द कर दी. अब सीएम जांच टीम बनाकर मामले की विस्तृत जांच की बात कर रहे हैं.

बरेली सिटी रेलवे स्टेशन के सामने विनायक हॉस्पिटल की शुरुआत पिछले साल ही कोरोना काल मे हुई थी. शुरुआत से ही ये अस्पताल मरीजों से बेवजह वसूली के लिए सुर्खियों में है. इस अस्पताल में इन दिनों कोरोना के मरीजों से मनमानी फीस वसूली जा रही है. अगर आपके पैसा नहीं है तो यहां बेड नहीं मिलेगा. अगर पैसा है तो सारे इंतजाम यहां हो जाएंगे. मरीजों से अवैध वसूली की वजह से यहां आए दिन हंगामा भी होता रहता है और पुलिस तक को आना पड़ता है.

Youtube Video

जनरल वार्ड में 3 दिन का बिल 96 हजार रुपये!
सनसिटी कालोनी निवासी मुकेश अग्रवाल की कोरोना की वजह से मौत हो गई. उन्हें विनायक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था/ 3 दिनों में विनायक हॉस्पिटल के जनरल वार्ड में भर्ती रहे और फिर उनकी मौत हो गई. उनसे तीन दिन का बिल 96 हजार रुपये लिया गया. इस मामले की शिकायत उन्होंने सीएमओ से की. पार्षद और शिकायतकर्ता गौरव सक्सेना का कहना है कि जिले में निजी अस्पतालों ने इस आपदा को अवसर बनाने का काम किया है. निजी अस्पताल मरीजों को लूट रहे हैं इसलिए इस मामले की जांच होनी चाहिए. इस अस्पताल के सामने लोग सड़क जाम कर प्रदर्शन कर चुके हैं.

जांच कराकर होगी कार्रवाई: सीएमओ

इस मामले में सीएमओ डॉ एसके गर्ग का कहना है कि विनायक हॉस्पिटल की शिकायत आई थी, जिसमें उन्होंने मरीज से ज्यादा रुपये ले लिए थे. इस मामले में मरीज के रुपये वापस करवा दिए गए हैं. साथ ही एक कमेटी का गठन किया गया है, जिसमें आईएमए के डॉक्टर और जिला अस्पताल के डॉक्टरों का पैनल तैयार किया जा रहा है. ये विनायक हॉस्पिटल जाकर सभी मरीजों के बिल चेक करेंगे और उसके बाद अगर ये पाया जाता है कि अस्पताल में कोविड मरीजों से अधिक रुपये लिए जा रहे हैँ तो कार्रवाई की जाएगी. साथ ही उस हॉस्पिटल में कोविड मरीजों का इलाज बन्द कर दिया जाएगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज