Home /News /uttar-pradesh /

अफसरों की शिकायत करने वाले यज्ञ प्रताप बरेली सैन्य अस्पताल में भर्ती, पत्नी भी हुई बीमार

अफसरों की शिकायत करने वाले यज्ञ प्रताप बरेली सैन्य अस्पताल में भर्ती, पत्नी भी हुई बीमार

जवानों से कथित तौर पर घटिया काम कराए जाने से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया पर डालने वाले लांस नायक यज्ञ प्रताप को भोजन छोड़ने और 'आक्रामक व्यवहार' के बाद बरेली सैन्य अस्पताल भेजा गया है.

जवानों से कथित तौर पर घटिया काम कराए जाने से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया पर डालने वाले लांस नायक यज्ञ प्रताप को भोजन छोड़ने और 'आक्रामक व्यवहार' के बाद बरेली सैन्य अस्पताल भेजा गया है.

जवानों से कथित तौर पर घटिया काम कराए जाने से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया पर डालने वाले लांस नायक यज्ञ प्रताप को भोजन छोड़ने और 'आक्रामक व्यवहार' के बाद बरेली सैन्य अस्पताल भेजा गया है.

    कुछ जवानों से कथित तौर पर घटिया काम कराए जाने से संबंधित वीडियो सोशल मीडिया पर डालने वाले लांस नायक यज्ञ प्रताप को भोजन छोड़ने और 'आक्रामक व्यवहार' के बाद बरेली सैन्य अस्पताल भेजा गया है.

    सेना ने कहा है कि प्रताप ने मोबाइल से अपनी पत्नी से भी बात की और वह मोबाइल का इस्तेमाल करने के लिए स्वतंत्र है. उन्होंने कहा कि राजपूत रेजिमेंटल सेंटर ने उनकी पत्नी से संपर्क कर उन्हें बरेली सैन्य अस्पताल पहुंचने को कहा ताकि वह अपने पति की देखभाल सुनिश्चित कर सकें. यज्ञ प्रताप पिछले साल 21 दिसंबर से राजपूत रेजिमेंटल सेंटर में तैनात है.

    सैन्य अधिकारियों ने प्रताप की पत्नी के रहने और पति के साथ संवाद के लिए इंतजाम किया है. सेना ने बयान में कहा, ''वह 14 जनवरी से भोजन से दूर था और आक्रामक व्यवहार प्रदर्शित कर रहा था. उसे सभी मानकों की निगरानी के लिए 16 जनवरी को बरेली सैन्य अस्पताल भेजा गया क्योंकि संबंधित चिकित्सा सुविधा फतेहगढ़ में नहीं थी.''

    उधर, यज्ञ प्रताप की पत्नी ऋचा की हालत भी सोमवार को बिगड़ गई. ऋचा को रीवा अस्पताल में भर्ती कराया है. दो दिन पहले उसने आरोप लगाया था कि जवान के शिकायत का वीडियो वायरल करने के बाद से उनके पति का मोबाइल छीनकर उसे प्रताड़ित किया जा रहा है. इसके विरोध में वह दो दिन से रीवा में ही अनशन पर है.

    सेना ने सोमवार को कहा कि लांस नायक का व्यवहार बेहद आक्रामक है. वह अफसरों की भी नहीं सुन रहा है. इस कारण उसे सेना के बरेली अस्पताल में लाने का फैसला किया गया है, क्योंकि उसकी तैनाती की जगह फतेहगढ़ में पर्याप्त चिकित्सा सुविधाएं नहीं हैं.

    यज्ञ प्रताप को लेकर सेना ने रक्षा मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपी है, जिसमें इस मामले का जिक्र करते हुए उसके आक्रामक व्यवहार की जानकारी दी गई है. वहीं, सोशल मीडिया में अपनी बात कहने पर जवान के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई संभव है.

    गौरतलब है कि कुछ दिन पहले यज्ञ प्रताप की पत्नी ने आरोप लगते हुए कहा था कि अफसर सैनिकों से नौकरों की तरह काम कराते हैं. उन्हें बंगले पर कपड़े, जूते, बर्तन और टॉयलेट तक साफ करना पड़ता है.

    ऋचा सिंह ने बताया कि जब उसके पति यज्ञ प्रताप सिंह देहरादून में पदस्थ थे तब वह उनके साथ थी. उस दौरान उनके पति के साथ ही अन्य सैनिकों को ऐसे कार्य करने पड़े थे.
    लांस नायक की पत्नी का आरोप है कि सैनिकों को अफसरों की बीबी-बच्चों को शॉपिंग कराना, बच्चों को स्कूल छोड़ना, खाना बनाना और कुत्तों को नहलाने जैसे काम करने के लिए मजबूर किया जाता है.

    सैनिक और परिजन इस बात से आहत है कि वह सेना में मातृभूमि की सेवा के लिए जाते है, लेकिन उनसे घरेलू कार्य करने को मजबूर कर मनोबल तोड़ा जा रहा है.

    Tags: Uttar pradesh news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर