लाइव टीवी

मौलाना तौकीर रजा का CAA पर उग्र बयान, केंद्र पर लगाया माहौल खराब करने का आरोप

HARISH SHARMA | News18 Uttar Pradesh
Updated: February 8, 2020, 9:24 PM IST
मौलाना तौकीर रजा का CAA पर उग्र बयान, केंद्र पर लगाया माहौल खराब करने का आरोप
मौलाना तौकीर ने एक बार फिर दिया सीएए पर बयान

मौलाना तौकीर रजा (Maulana Tauqeer Raza) ने कहा कि फिरकापरस्त ताकत मुल्क को नुकसान पहुंचाने का काम कर रही हैं.

  • Share this:
बरेली. आईएमसी प्रमुख मौलाना तौकीर रजा ने एक बार फिर से सीएए (CAA), एनसीआर (NRC) और एनपीआर (NPR) को लेकर उग्र बयान दिया हैं. मीडिया से उन्होंने कहा कि अंग्रेजी हुकूमत में भी इंकलाब के लिए हिंदुस्तानियों ने अपना खून बहाया था. इसलिए इस काले कानून के विरोध में भी ऐसा ही इंकलाब सड़कों पर दिखाई दे. उन्होंने कहा कि केंद्र की सरकार मुल्क का माहौल खराब करने में लगी है.

BJP की राह पर चल रहीं हैं सपा और बसपा
साथ ही मौलाना ने सपा, बसपा को भी आर एसएस की राह पर चलने का आरोप लगाया है. उनका कहना है कि अगर ये लोग भी बाज नहीं आए तो आगामी चुनाव में इनको जवाब दिया जाएगा. मौलाना ने यह भी कहा कि जैसे ममता बनर्जी केंद्र सरकार का विरोध कर रही है वैसे ही अन्य दलों को भी इनका विरोध करना चाहिए इनसे लड़ना चाहिए. मौलाना ने अखिलेश यादव को ट्विटर नेता भी बताया.

सीएए के विरोध में इंकलाब लाने की जरूरत

मौलाना तौकीर ने कहा कि पिछले दिनों मुरादाबाद गया था. वहां नए कानून को लेकर लोग धरने पर बैठे हैं. धरने पर बैठने वालों के साथ जिला प्रशासन और पुलिस जुल्म कर रही है. इसलिए इंकलाब लाने का वक्त है. अंग्रेजी हुकूमत में भी पुलिस ने इसी तरह से बर्बरता की थी. हिंदुस्तानियों ने पुलिस की लाठी डंडे तक खाए, तब जाकर मुल्क को आजादी मिली. इसी तरह आज इस नए कानून के विरोध में हमें इंकलाब लाने की जरूरत है.

'हमें खून बहा कर अपनी आवाज उठानी है'
मौलाना ने कहा कि फिरकापरस्त ताकत मुल्क को नुकसान पहुंचाने का काम कर रही हैं. पुलिस इन के इशारे पर अमन शांति कायम रखने की जगह अमन ओ अमान का नुकसान पहुंचाने का काम कर रही हैं. उन्होंने कहा कि इंकलाब हमेशा खून बहा कर लाया गया है. हमें किसी पर हमलावर नहीं होना है, सिर्फ अपना खून बहा कर अपनी आवाज उठानी है. किसी के साथ झगड़ा नहीं करना है. पुलिस लाठी चार्ज करें तो उन लाठियों को भी सहन करना है 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बरेली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 8, 2020, 9:24 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर