4 बहनों के इकलौते भाई ने कराया लिंग परिवर्तन, पत्नी को बताया था सच
Bareilly News in Hindi

रेलवे कॉलोनी स्थित आवास में ड्रेसिंग टेबल के सामने सजती सवंरती सोनिया उर्फ राजेश ने बताया कि उसके अंदर लड़कियों वाली ही फिलिंग थी. लेकिन बड़े होते ही राजेश की शादी कर दी गई. राजेश ने अपनी पत्नी को बताया कि वो लड़की है, उसके अंदर लड़कों वाली कोई भी फिलिंग नहीं है.

  • Share this:
यूपी के बरेली में रेलवे में काम कर रहे एक युवक ने अपना नाम और लिंग बदलवाने के लिए आवेदन किया है. चार बहनों के बीच इकलौता शादीशुदा भाई लिंग परिवर्तन कराकर लड़की बन गया है. यह बात इस इलाके में चर्चा का मुख्य विषय बना हुआ है. राजेश उर्फ सोनिया ने बताया कि उसका शरीर तो पुरुष जैसा था, लेकिन मन में महिलाओं जैसे ख्याल आते थे.

जब पत्नी को बताया वो लड़की है

रेलवे कॉलोनी स्थित आवास में ड्रेसिंग टेबल के सामने सजती सवंरती सोनिया उर्फ राजेश ने बताया कि वह बचपन से ही लड़की बनना चाहती थी. उसके अंदर लड़कियों वाली ही फिलिंग थी. लेकिन बड़े होते ही राजेश की शादी कर दी गई. राजेश ने अपनी पत्नी को बताया कि वो लड़की है, उसके अंदर लड़कों वाली कोई भी फिलिंग नहीं है. इसके बाद दोनों में तलाक हो गया.



महिलाओं वाले कपड़े पहना अच्छा लग रहा
राजेश उर्फ सोनिया ने बताया कि वह अब सोनिया बनकर काफी खुश है. वह अब महिलाओं वाले कपड़े पहनती हैं, मेकअप करना और महिलाओ की तरह ही बोलना उसे अच्छा लग रहा है. उसके परिवार में 4 बहनें और मां है.

इंटरनेट पर पता चला कि लिंग परिवर्तन

शादीशुदा राजेश से सोनिया बनी रेलवे कर्मी का कहना है कि उसे इंटरनेट पर पता चला कि लिंग परिवर्तन भी हो सकता है. इसके बाद राजेश दिल्ली गया और फिर उसने अपना लिंग सर्जरी करवाई और हार्मोन्स के जरिये वो राजेश से सोनिया बन गई.

समय के साथ मां और बहनें भी मान गईं

राजेश उर्फ सोनिया ने बताया कि लिंग परिवर्तन का विचार जब परिवार के सदस्यों को बताया तो वो नाराज हो गए. उसकी बात सुनकर मां और बहनें रूठ गईं. कोई दूसरा रास्ता नहीं दिखा तो उसने लिंग परिवर्तन करा लिया. धीरे-धीरे सब कुछ ठीक हो गया. समय के साथ मां और बहनें भी मान गईं.

मां ने कहा-अब जो भी है सही है

वहीं सोनिया की मां निर्मला पांडेय का कहना है कि जब तीन बहनों के बाद घर में बेटा हुआ था तो सब लोग बहुत खुश थे. लेकिन अब राजेश भी सोनिया बन गया. अब जो भी है सही है.

इस संबंध में पूर्वोत्तर रेलवे के इज़्ज़तनगर मंडल के पीआरओ राजेंद्र सिंह ने बताया कि ये तकनीकी मामला है. इसके कानूनी पहलुओं को देखा जाएगा और राजेश के आवेदन पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी. उनका कहना है कि रेलवे में इस तरह का ये पहला मामला सामने आया है. फिलहाल इस मामले में जांच की जा रही है.

(हरीश शर्मा की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें -

सोनभद्र नरसंहार का बदला लेने की फिराक में बस्तर के नक्सली, IB अलर्ट पर

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रहस्य से नहीं उठ सका पर्दा और गुमनाम ही रहे गए गुमनामी बाबा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज