बरेली: थाने में पुलिस से गुंडई करने वाला सपा नेता गिरफ्तार, गैंगस्टर के तहत कार्रवाई

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में वैभव गंगवार थाने के अंदर पुलिस हिरासत में जमकर गालियां दे रहे हैं. वह अपने आप को अखिलेश की पार्टी का कार्यकर्ता बताकर पुलिस वालों को धमकी रहे हैं. वहीं सपा नेता की गालियां सुन रहे पुलिसकर्मी मूकदर्शक बने हुए हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: September 4, 2018, 3:47 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: September 4, 2018, 3:47 PM IST
बरेली में सपा नेता की थाने के अंदर गुंडई मामले में प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने सख्त कदम उठाया है. मामले में आरोपी वैभव गंगवार को गिरफ्तार कर लिया गया है. डीजीपी ओपी सिंह के अनुसार आरोपी पर गैंगस्टर, 7 सीएलए की कार्रवाई होगी. दरअसल बरेली में समाजवादी युवजन सभा के जिलाध्यक्ष वैभव गंगवार का एक वीडियो वायरल हुआ है, जिसमें वे बरेली जिले के किला थाने के अंदर गालियां दे रहे हैं.

वीडियो में वैभव गंगवार चीख-चीख कर कह रहे हैं कि थाने में गिन ले कितने पुलिस वाले हैं. 50 हजार आदमी थाने में इकट्ठे कर दूंगा, तेरी औकात क्या है? पुलिस ने इस मामले में सपा नेता वैभव समेत 50 लोगों पर रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज किया है.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में वैभव गंगवार थाने के अंदर पुलिस हिरासत में जमकर गालियां दे रहे हैं. वह अपने आप को अखिलेश की पार्टी का कार्यकर्ता बताकर पुलिस वालों को धमकी रहे हैं. वहीं सपा नेता की गालियां सुन रहे पुलिसकर्मी मूकदर्शक बने हुए हैं. किसी को उन्हें गालियां देने से रोकने की हिम्मत नहीं हो रही है. गालियां पुलिस को दी जा रही हैं या विरोधी पार्टी को, यह स्पष्ट नहीं हो पा रहा है. यह वीडियो शुक्रवार की रात किला थाने में बनाया गया है.

सपा नेता वैभव के मुताबिक, उन्होंने साहूकारी में एक दलाल से 25 लाख रुपए में प्‍लॉट खरीदा था. वैभव ने दलाल से जो प्लाट खरीदा था, उसकी रजिस्ट्री पहले से ही किसी और के नाम हो चुकी थी. जानकारी लगने पर जब वैभव ने दलाल से अपने रुपए वापस मांगे तो उसने पुलिस बुला ली. डायल 100 पुलिस ने सपा नेता को पकड़कर शनिवार की रात किला पुलिस के हवाले कर दिया था. वहीं सपा नेता वैभव गंगवार का कहना है कि उसने कोई गाली नहीं दी है. जो वीडियो वायरल हो रहा है, वह पूरा वीडियो नहीं है.

ये भी पढ़ें: 

यूपी में राहुल गांधी जोड़ रहे आंदोलनकारी युवा 'हार्दिक, जिग्नेश और अल्पेश'

शिवपाल सिंह यादव ने अखिलेश और पार्टी के ट्विटर एकाउंट को किया Unfollow
Loading...
नोएडा: छात्राओं से वेश्यावृत्ति कराने वाले गैंग का भंडाफोड़, WhatsApp से होती थी बुकिंग
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर