बरेली: CAA और NRC को लेकर तीन तलाक पीड़ित महिलाओं ने शुरु किया अभियान
Bareilly News in Hindi

बरेली: CAA और NRC को लेकर तीन तलाक पीड़ित महिलाओं ने शुरु किया अभियान
CAA और NRC को लेकर तीन तलाक पीड़ित महिलाओं ने शुरु किया अभियान

पीड़ित महिला आयशा का मानना है कि सही मायने में मुस्लिम पक्ष के लोगों को इस नए कानून के बारे में कोई जानकारी ही नहीं है और राजनीति के लिए चंद लोगों ने मुस्लिम लोगों को भड़का कर हिंसक प्रदर्शन में फंसा कर उन्हें कमजोर कर रहे है.

  • Share this:
बरेली. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजनशिप (NRC) के विरोध में उत्तर प्रदेश में भड़की हिंसा को लेकर देशभर में विभिन्न भ्रांति फैली हुई है. नए एक्ट के बारे में सही जानकारी न होने पर कुछ लोग हिंसक प्रदर्शन कर रहे है. बढ़ते हिंसक प्रदर्शन के बाद बरेली (Bareilly) की तीन तलाक (Triple Talaq) पीड़ित महिलाएं बेहद चिंतित हैं. तीन तलाक पीड़ित महिलाओं ने बताया कि वह मुस्लिम बहुल इलाकों में कैंप लगाकर मुस्लिम महिलाओं को CAA और NRC के बारे में जानकारी देंगी.

पीड़ित महिला आयशा का मानना है कि सही मायने में मुस्लिम पक्ष के लोगों को इस नए कानून के बारे में कोई जानकारी ही नहीं है और राजनीति के लिए चंद लोगों ने मुस्लिम लोगों को भड़का कर हिंसक प्रदर्शन में फंसा कर उन्हें कमजोर कर रहे है. तीन तलाक पीड़ित महिलाओं की आवाज उठाने वाली महिला फरहत नकवी ने कहा है कि मोदी सरकार द्वारा लाए गए इस कानून के बारे में अभी तक लोगों को जानकारी नहीं है जिस कारण समाज मे कई तरह की भ्रांतियां फैली हुई है.

लोगों को जागरूक करने के लिए हम तीन तलाक पीड़ित महिलाएं कैंप लगा रही हैं जो गांव गांव , शहर-शहर जाकर मुस्लिम महिलाओं को इस नए कानून के बारे में जानकारी देंगे. इससे पहले बरेली के एसएसपी ने अनोखी पहल शुरु की है. जहां मुसलमानों में फैली भय की स्थिति को दूर करने के लिए बरेली के एसएसपी शैलेश कुमार पांडे ने मुस्लिम बहुल इलाकों में चौपाल लगाना शुरू कर दिया है. जहां पर एसएसपी मुसलमानों को CAA और NRC की जानकारी देकर जागरूक कर रहे है.



ये भी पढ़ें:
वाराणसी: CAA के खिलाफ बवाल करने वाले उपद्रवियों के पोस्टर जारी, नाम-पता बताने वाले को मिलेगा इनाम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज