ट्रक मालिक ने खुद ही रची थी लूट की कहानी, पुलिस ने किया खुलासा

बरेली पुलिस ने तीन दिन में ट्रक लूट कांड का किया खुलासा
बरेली पुलिस ने तीन दिन में ट्रक लूट कांड का किया खुलासा

जांच के दौरान पुलिस टीम (police team) को ट्रक मालिक मुन्ना यादव द्वारा बताई गई कहानी में कुछ झोल नजर आया, जिसके बाद पुलिस ने सर्विलांस (surveillance) के माध्यम से उसकी कॉल डिटेल निकालनी शुरू की फिर खुला मामला....

  • Share this:
बरेली. जनपद बरेली (Bareilly) पुलिस (up police) ने चावल से भरे ट्रक की लूट (Loot) के मामले का खुलासा करते हुए दो लुटेरों को 6 लाख रुपये और लूटे हुए ट्रक समेत गिरफ्तार किया है. दिलचस्प बात यह है कि ट्रक की लूट की कहानी रचने वाला कोई और नहीं बल्कि खुद ट्रक मालिक था, जिसने जल्द अमीर बनने की चाहत में ट्रक में भरे चावलों को बेचकर अपना ट्रक देवरिया (Deoria) जनपद में छिपा दिया और बरेली में चावल से भरे ट्रक लूट की झूठी एफआईआर (FIR) दर्ज करा दी. पुलिस ने पूरी तफ्तीश कर तीन दिन बाद ही लूट का खुलासा कर दिया.

खुल गई पोल
ट्रक लूट का खुलासा करते हुए एसएसपी शैलेश कुमार पांडेय ने बताया कि बीती 20 जनवरी को देवरिया निवासी मुन्ना यादव ने इज्जत नगर थाने में चावलों से भरे ट्रक की लूट की एफआइआर दर्ज कराई थी, जिसके बाद से पुलिस टीम लूट की घटना की जांच में जुटी थी. जांच के दौरान पुलिस टीम को ट्रक मालिक मुन्ना यादव द्वारा बताई गई कहानी में कुछ झोल नजर आया, जिसके बाद पुलिस ने सर्विलांस के माध्यम से उसकी कॉल डिटेल निकालनी शुरू की तो परत दर परत कहानी का खुलासा होने लगा.

ट्रक मालिक ने पड़ोसी संग रची थी कहानी
एसएसपी ने यह भी बताया कि ट्रक मालिक मुन्ना यादव ने अपने एक पड़ोसी प्रेम सिंह के साथ मिलकर चावल से भरे ट्रक को लूटने की योजना बनाई. जिसके बाद मुन्ना और प्रेम ने मिलकर ट्रक को देवरिया में छिपा दिया और कम दामों में चावल बेच दिया, फिर दोनों जालसाज देवरिया से बस में बैठकर रामपुर के मिलक थाना क्षेत्र के हाइवे पर पहुंचे, जहां पर प्रेम ने ट्रक मालिक मुन्ना को बांध दिया और पुलिस को लूट होने की झूठी सूचना दी. एफआईआर दर्ज होने के बाद पुलिस जांच में ट्रक मालिक के बयानों में अंतर मिलने से लूट की झूठी कहानी पकड़ में आ गई. इज्जतनगर पुलिस ने दोनों जालसाजों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने इनके कब्जे से 6 लाख रुपये, गायब हुआ ट्रक, नकली नम्बर प्लेट और दो मोबाइल बरामद किए हैं. फिलहाल पुलिस ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया है.



 

ये भी पढ़ें -केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान को स्टूडेंट्स का जवाब- 'आरक्षण नहीं सुविधाएं मुहैया कराये सरकार'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज