लाइव टीवी

बरेली: छुट्टी नहीं मिली तो दारोगाओं ने लिया रिटायरमेंट, बोले- पत्नी से बढ़कर कुछ नहीं
Bareilly News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: January 28, 2020, 3:05 PM IST
बरेली: छुट्टी नहीं मिली तो दारोगाओं ने लिया रिटायरमेंट, बोले- पत्नी से बढ़कर कुछ नहीं
छुट्टी नहीं मिली तो दारोगाओं ने लिया रिटायरमेंट

मामले में बरेली रेंज के डीआईजी राजेश पाण्डेय ने बताया कि दोनों दरोगाओं को समझाने का प्रयास किया गया. उन्हें 15 दिन का समय दिया गया था. दोनों दरोगा अपनी पत्नियों के साथ आये थे. नहीं माने इस वजह से उन्हें समय पूर्व रिटायरमेंट दे दिया गया.

  • Share this:
बरेली. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बरेली (Bareilly) जिले में अनोखा मामला सामने आया है. यहां दो दारोगाओं ने अजीबोगरीब दलील देकर अपनी इच्छा से रिटायरमेंट मांगी है. दारोगाओं का कहना है कि उनके बच्चे बाहर नौकरी कर रहे हैं, ऐसे में पत्नी पूरे दिन घर में अकेली रहती है. उनका ख्याल रखने के लिए भी कोई नहीं है. ड्यूटी में अवकाश (छुट्टी) मिलता नहीं है. इसलिए हमें रिटायरमेंट दे दीजिये. डीआईजी (DIG) ने गुहार लगाने वाले दोनों दारोगाओं को समझाने-बुझाने का प्रयास किया लेकिन जब दोनों नहीं मानें तो उनको रिटायरमेंट दे दिया.

दारोगाओं ने बताई ये वजह

दरअसल बरेली जोन के दो अलग-अलग जिलों में तैनात दारोगाओं ने डीआईजी राजेश पांडेय से मिलकर रिटायरमेंट की अर्जी दी. अमरोहा में डिडौली थाने के सलामतपुर गांव के रहने वाले एसआई जयपाल सिंह नौ दिसंबर, 1980 को बतौर सिपाही भर्ती हुये थे. उनके घर में पत्नी और तीन बेटे हैं. बड़ा बेटा और बहू डॉक्टर है. अन्य बच्चे भी अच्छे पदों पर नौकरी कर रहे हैं. ऐसे में घर में पत्नी की देखरेख करने वाला कोई नहीं है. जयपाल सिंह का कहना है कि पुलिस की सेवा में छुट्टी मिल नहीं पाती है. छह-छह महीने वो घर का मुंह नहीं देख पाते हैं. इस कारण वो स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (रिटायरमेंट) ले रहे हैं.

वहीं शाहजहांपुर में गढ़िया रंगीन के दूसरे दारोगा नरेश भटनागर के मुताबिक उनकी पत्नी पुष्पा प्राइमरी स्कूल में टीचर हैं. उनकी एक बेटी गाजियाबाद में इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ा रही है. बेटा एमटेक कर रहा है. नरेश ने बताया कि उनकी पत्नी एक महीने तक बीमार रहीं. वो अस्पताल में पड़ी रही. पत्नी के बीमार होने पर मेडिकल लीव भी नहीं मिल सकती है. इसलिए नौकरी छोड़ने के अलावा कोई अन्य विकल्प नहीं है.

दरोगाओं को मिला रिटायरमेंट

मामले में बरेली रेंज के डीआईजी राजेश पांडेय ने कहा कि दोनों दारोगाओं को समझाने का प्रयास किया गया. उन्हें इस पर पुनर्विचार के लिए 15 दिन का समय दिया गया था. दोनों दरोगा अपनी पत्नियों के साथ आये थे. जब वो नहीं माने तो दोनों को समय पूर्व रिटायरमेंट दे दिया गया.

(इनपुट- हरीश शर्मा)ये भी पढ़ें-

अयोध्या: बॉयफ्रेंड संग पकड़ी गई नवविवाहिता, ग्रामीणों ने पकड़ कर दोनों की काटी नाक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बरेली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 28, 2020, 2:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर