बरेली: नहीं पहुंची एंबुलेंस, बीच सड़क पर तड़प-तड़प कर मर गई महिला

पवन ने बताया कि 108 एंबुलेंस सेवा की तरफ से बीमार महिला को अस्पताल पहुंचाने के बजाय एंबुलेंस कस्टमर केयर से कहा गया की 108 सेवा पागल मरीजों के लिए नहीं है.

HARISH SHARMA | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 16, 2018, 11:58 AM IST
बरेली: नहीं पहुंची एंबुलेंस, बीच सड़क पर तड़प-तड़प कर मर गई महिला
मृतक महिला
HARISH SHARMA | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 16, 2018, 11:58 AM IST
बरेली में 100 से अधिक हुई बुखार से मौतों के बाद भी स्वास्थ्य महकमा सुधरने का नाम नहीं ले रहा है. ताजा मामला किला थाना क्षेत्र में सामने आया है. जहां एक महिला एंबुलेंस के इंतजार में दो घंटे तक सड़क पर तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया. यूपी की 108 एम्बुलेंस सेवा और एक युवक के बीच की गई बातचीत ऑडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. जिसमें 108 एंबुलेंस सेवा की कस्टमर केयर अधिकारी साफ-साफ बोल रही है की पागलों के लिए एंबुलेंस सेवा नहीं है. मामला सामने आने के बाद सीएमओ ने जांच के आदेश दे दिए है.

दरअसल बरेली शहर के बीचोबीच किला थाना क्षेत्र के सिटी स्टेशन के सामने सड़क किनारे एक लावारिस महिला पड़ी थी जो गंभीर रूप से बीमार लग रही थी. सड़क किनारे महिला को तड़पता देख पवन नाम के एक व्यक्ति ने 108 एंबुलेंस सेवा को कॉल की तो जो जवाब मिला उसे सुन वह दंग रह गया. पवन ने बताया कि 108 एंबुलेंस सेवा की तरफ से बीमार महिला को अस्पताल पहुंचाने के बजाय एंबुलेंस कस्टमर केयर से कहा गया की 108 सेवा पागल मरीजों के लिए नहीं है. जब 108 के कस्टमर केयर अधिकारी को बताया गया कि वह गंभीर रूप से बीमार है तो डेढ़ से 2 घंटे एंबुलेंस बिजी होने की बात कहकर फिर कॉल करने की बात कही.

पवन ने दोबारा 108 एंबुलेंस सेवा के कस्टमर केयर को कॉल किया तो फिर वही जवाब मिला एंबुलेंस बिजी है अभी नहीं आ सकती. बीमार महिला सड़क के किनारे कई घंटों तक पड़ी रही पर कोई एंबुलेंस उसको लेने नहीं आई. आखिरकार महिला मौत से जंग हार गई और सड़क किनारे पड़े-पड़े उसने दम तोड़ दिया. पवन का कहना है कि अगर समय पर 108 एंबुलेंस सेवा मिल जाती तो महिला की सड़क किनारे मौत ना होती.

वहीं इस मामले में सीएमओ विनीत कुमार शुक्ला का कहना है कि मीडिया के माध्यम से हमें इस मामले की जानकारी हुई है. उन्होंने कहा कि ये बहुत ही गंभीर मामला है. उन्होंने बताया कि 108 के साथ उनका ऐसा अनुबंध है कि जहां से भी फोन किया जाये 20 मिनट के अंदर एंबुलेंस वह पहुंच जाये. उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं हुआ ये बहुत ही गंभीर और दुखद है. उन्होंने कहा कि इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गए है. जांच रिपोर्ट आने के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें:

 गोरखपुर में चार पैर वाले नवजात बच्चे का हुआ जन्म, हैरत में पड़े लोग

हिजबुल आतंकी के मददगारों को असम पुलिस ने किया गिरफ्तार

आगरा: जूनियर डाॅक्टरों की गुंडागर्दी, बार में तोड़फोड़ के बाद ठप की इमरजेंसी सेवाएं
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर