बस्ती में खूनचुसवा गिरोह का भंडाफोड़, नशीला पदार्थ खिलाकर निकालते थे खून

गिरोह का सरगना निम्न गुणवत्ता वाले इस खून की सप्लाई शहर के दो और संतकबीरनगर के एक प्राइवेट अस्पताल को करता था. ये अस्पताल अपने यहां भर्ती मरीजों को यही खून चढ़ा उनसे मोटी रकम वसूलते थे.

HIFZUR RAHMAN | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 28, 2018, 10:44 AM IST
बस्ती में खूनचुसवा गिरोह का भंडाफोड़, नशीला पदार्थ खिलाकर निकालते थे खून
(प्रतीकात्मक तस्वीर)
HIFZUR RAHMAN | News18 Uttar Pradesh
Updated: August 28, 2018, 10:44 AM IST
यूपी के बस्ती जिले में पुलिस ने खूनचुसवा गिरोह का भंडाफोड़ किया है. पुलिस ने गिरोह के सरगना एक डॉक्टर सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. यह गैंग बच्चों को पैसे और टॉफी का लालच देकर महरीखांवा मोहल्ले में नकली डॉक्टर प्रभाकर के घर ले जाते थे, जहां बच्चों को नशीला पदार्थ सुंघा कर बेहोश कर दिया जाता था, इस के बाद बच्चों के जिस्म का खून निकाला जाता था. शुरुआती पूछताछ में पता चला है कि यह गिरोह गरीब युवकों को 500 रुपये का लालच देकर हर माह उनके खून निकाला जाता था. वहीं बच्चों को लाने वालों को भी 500 रुपये कमीशन देते थे.

गिरोह का सरगना निम्न गुणवत्ता वाले इस खून की सप्लाई शहर के दो और संतकबीरनगर के एक प्राइवेट अस्पताल को करता था. ये अस्पताल अपने यहां भर्ती मरीजों को यही खून चढ़ा उनसे मोटी रकम वसूलते थे. इस गैंग में नेपाल का रहने वाला आकाश काक बच्चों को अपने जाल में फंसाता था.

आरोपियों की फोटो


खून का यह काला कारोबार काफी समय से चल रहा था, इस का खुलासा तब हुआ जब एक बच्चे ने पूरी कहानी अपने घर वालों को बताई, जिसके बाद पुलिस सक्रिय तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. मामला सामने आने के बाद पुलिस पर सवाल भी उठने लगे हैं कि आरोपियों को रिमांड पर लेकर विस्तार से पूछताछ और अस्पतालों पर छापेमारी क्यों नहीं की गई. एएसपी पंकज ने कहा कि पुलिस की टीम मामले की जांच कर रही है. टीम गिरोह की जड़ तक जाएगी.

यह भी पढ़ें:

मीडिया पैनल से छुट्टी होते ही पंखुड़ी पाठक ने छोड़ी समाजवादी पार्टी, बोलीं- अब सपा में दम घुटता है

95,444 पदों पर सहायक अध्यापकों की भर्ती की तैयारी में योगी सरकार!

अनुपूरक बजट में किसानों-नौजवानों के लिए कोई प्रावधान नहीं है: अखिलेश यादव
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर