होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /Basti News: बस्ती में मौत का पुल, हवा में झूलती है लोगों की जिंदगी, जानें पूरी डिटेल

Basti News: बस्ती में मौत का पुल, हवा में झूलती है लोगों की जिंदगी, जानें पूरी डिटेल

बस्ती में 13 करोड़ खर्च होने के बाद भी जान जोखिम में डालकर लोग पुल पार करते हैं. सदर तहसील के बैजूपुर गांव में बन रहे प ...अधिक पढ़ें

    कृष्ण गोपाल द्विवेदी/बस्ती. गुजरात के मोरबी में हुए हादसे के बाद अब पुलों को लेकर सरकार गंभीर हो गई है. अब लगातार जर्जर हो चुके पुलों की मॉनिटरिंग की जा रही है. वहीं बस्ती जनपद में एक ऐसा पुल है जो पिछले 1 साल से हवा में झूल रहा है. जिले के सदर तहसील के बैजूपुर गांव में 2020-2021 में 13 करोड़ 78 लाख की लागत से एक पुल का निमार्ण शुरू हुआ. लेकिन किन्ही कारण वस पुल का काम रोक दिया गया और लगभग एक साल तक पुल का काम रुका रहा. 80% काम हो जाने के बाद भी पुल का अप्रोच नहीं बनाया गया. जिससे पुल से गुजरने वाले हजारों ग्रामीणों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है. लेकिन भारतीयों के लिए कहते हैं ना कि हर चीज में जुगाड़ लग ही जाता है. उसी जुगाड़ के तहत ग्रामीणों ने काम चलाऊ पुल बना लिया.

    भले ही ग्रामीणों ने देशी जुगाड़ लगाकर पुल से आने जाने का रास्ता बना लिया हो. लेकिन यहां किसी दिन बड़ी दुर्घटना घटित भी हो सकती है. क्योंकि यहां से हजारों की संख्या में लोग डेली आते जाते रहते हैं. बैजूपुर गांव की छात्रा अंशिका यादव ने बताया कि पुल का अप्रोच न बन पाने के कारण हम लोग लगभग एक महीने स्कूल ही नहीं जा पाए. आज भी मेरी छोटी बहन स्कूल नहीं जा पाती है. गांव वालों के प्रयास से सीढ़ी बन जाने से हम लोग तो स्कूल जाने लगे. लेकिन ऊंचाई अधिक होने से आज भी हम लोगों को चढ़ने उतरने में डर लगता है.

    15 मिनट की दूरी हो जाती है कम
    ग्रामीण राम ललित ने बताया कि पुल के माध्यम से शहर आने जाने में हम लोगों का कम से कम 15 मिनट का समय बच जाता है. 4- 5 लोग गिरकर घायल भी हो चुके हैं. लेकिन समय की बचत के कारण फिर भी लोग ऐसे ही आते जाते हैं. वहीं सदर एसडीएम शैलेश दूबे ने बताया कि पुल बन रहा था और अभी तक बनकर तैयार भी हो जाता. लेकिन जहां पर अप्रोच बनना है. वहां की जमीन पर मुआवजे को लेकर किसानों ने विरोध कर दिया था. वो सर्किल रेट से अधिक का मुआवजा चाहते थे. इसलिए पुल का निमार्ण रुक गया था.

    जमीन नहीं मिलने से रुक गया काम
    सेतु निगम के परियोजना प्रबंधक अशोक कुमार सिंह ने बताया कि किसानों के जमीन न देने की वजह से काम बंद करना पड़ा था. हालांकि अप्रोच की जगह पर मिट्टी गिरा दिया गया है. 25 नवंबर को किसानों से मुआवजे को लेकर बात होनी थी. लेकिन किसी कारणवस बात नहीं हो पाई. किसानों से बात बनते ही पुल निर्माण का कार्य पूरा कर लिया जाएगा.

    Tags: Basti news, Uttar pradesh news

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें