Basti news

बस्ती

अपना जिला चुनें

बस्ती में बोले CM योगी- सपा-बसपा, कांग्रेस के दिए जख्मों पर मोदी ने लगाया मरहम

बस्ती में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ

बस्ती में जनसभा को संबोधित करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि 23 मई को जब फिर से एक बार मोदी सरकार आएगी तो हर किसान के खाते में किसान सम्मान निधि का पैसा आएगा.

SHARE THIS:
बस्ती में मंगलवार को चुनाव प्रचार करने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा-बसपा और कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि सपा, बसपा और कांग्रेस के द्वारा जनता को जो घाव दिए गए थे, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन जख्मों पर मरहम लगाने का काम किया है.

मुख्यमंत्री ने कहा, "मोदी जी ने इन 5 वर्षों में पूरी दुनिया के अंदर भारत का सम्मान बढ़ाया है. अब भारत का कोई भी नागरिक दुनिया में कहीं भी जाता है, वहां पर उसे सम्मान मिलता है. आजादी के बाद वैश्विक स्तर पर भारत को पहली बार इतना बड़ा सम्मान मिला है. विश्व योग दिवस के रूप में हो या कुंभ के आयोजन जैसे काम से भारत विश्व में प्रसिद्ध हो गया है."

योगी आदित्यनाथ ने कहा, " कांग्रेस, सपा और बसपा की सरकार में कभी अयोध्या में ब्लास्ट, कभी गोरखपुर में तो कभी वाराणसी में आतंकवादी हमला होता था. पिछले 5 सालों में उत्तर प्रदेश में एक भी ब्लास्ट किसी ने नहीं देखा. यह मोदी जी की सरकार के सुरक्षा के प्रति बनाई गई नीति का परिणाम है.
मोदी जी ने किसी को कोई फायदा जाति देख कर नहीं दिया, गरीबी देख कर दिया है. सपा बसपा की सरकार में बिजली की भी जाति होती थी और जाति देखकर बिजली दी जाती थी. ईद में बिजली मिलती थी लेकिन दीपावली और होली में बिजली नहीं मिलती थी. हमारी सरकार में सबको बिजली मिल रही है. चाहे ईद हो या दीपावली, हमारी सोच है सबका साथ सबका विकास. ट्रिपल तलाक की बात आई तो सपा, बसपा, कांग्रेस उसके विरोध में एक हो गए. हमारा आ​धार न मत है न मजहब है न ज​ति है हमने सबका विकास समान रूप से किया है."

मुख्यमंत्री ने कहा कि 23 मई को जब फिर से एक बार मोदी सरकार आएगी तो हर किसान के खाते में किसान सम्मान निधि का पैसा आएगा. उन्होंने कहा कि बुआ-बबुआ की रिश्तेदारी पर शिवपाल यादव कहते हैं कि जब हमारी कोई बहन ही नहीं तो बुआ कहां से आ गई. यह रिश्तेदारी लूट की रिश्तेदारी है. लेकिन यह रिश्तेदारी सिर्फ 23 मई तक की ही है.

प्रियंका गांधी पर हमला बोलते हुए योगी ने कहा, "जिस उम्र में बच्चों को संस्कार सिखाने चाहिए, कांग्रेस की शहजादी उस उम्र में बच्चों को गाली सिखा रही हैं."

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री बस्ती में बीजेपी प्रत्याशी हरीश द्विवेदी के समर्थन में जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे. बस्ती सीट से गठबंधन की तरफ से बसपा के राम प्रसाद चौधरी मैदान में हैं. कांग्रेस की तरफ से राजकिशोर मैदान में हैं.

ये भी पढ़ें:

छठे चरण के रण में पहुंचा चुनाव, अखिलेश से लेकर मेनका तक की किस्मत दांव पर

अब पूरब की पिच पर सियासी घमासान! मोदी, प्रियंका, अखिलेश और माया का इम्तिहान

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी WhatsApp अपडेट्स

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Kushinagar News: आलू व्यापारी ने रची खुद के अपहरण की साजिश, पुलिस ने भेजा जेल

Kushinagar: पत्र भेजकर परिजनों से मांगी 10 लाख रुपए की फिरौती

Kidnapping case: पुलिस अधिक्षक सचिंद्र पटेल ने बताया की अपहरण की आशंका के कारण स्वाट, सर्विलांस और एसओजी टीम को इसकी जांच के लिए लगाया गया था.

SHARE THIS:

कुशीनगर. यूपी के कुशीनगर (Kushinagar) जिले में रहस्यमय स्थितियों में गायब हुए आलू व्यापारी को पटहेरवा थाने की पुलिस ने बरामद कर लिया है. आलू व्यापारी के गायब होने की जो कहानी सामने आई है वो हैरान करने वाली है. कर्ज से बचने के लिया व्यापारी ने अपने अपहरण की झूठी कहानी रची थी. गायब होने के बाद वह बस्ती जाकर छिपकर रहने लगा था. खुद उसने अपनी बाइक को लावारिश हालत में छोड़कर और एक पत्र भेजकर परिजनों ने 10 लाख रुपए की फिरौती भी मांगा था. अपहरण के घटना की जांच कर रही पटहेरवा थाने की पुलिस ने खुलासा करते हुए खुद के अपहरण की साजिश रचने वाले व्यापारी मोहन कुशवाहा को गिरफ्तार कर लिया है.

पटहेरवा थाने के रकबा राजा निवासी मोहन कुशवाहा के परिजनों ने बीते 3 सितंबर को थाने में तहरीर देकर मोहन के गायब होने की जानकारी दी. परिजनों ने मोहन के अपहरण की आशंका भी जाहिर की थी. इसके पांच दिन बाद मोहन की बाइक लावारिस हालत में मिली जिसपर मोहन का अपहरण करने और 10 लाख रुपए की फिरौती मांगने की बात लिखी गई थी. इसके बाद पटहेरवा थाने की पुलिस ने अपहरण का केस दर्ज करते हुए छानबीन शुरू किया तो कुछ गड़बड़ लगा. सर्विलांस टीम ने गहन छानबीन किया तो मोहन की लोकेशन बस्ती में मिली.

यह भी पढ़ें- UP Assembly Election: मेरठ की क्रांतिकारी धरती से प्रियंका गांधी शुरू करेंगी प्रतिज्ञा यात्रा, 29 सितंबर को होगी जनसभा

इसके बाद पुलिस ने मोहन को बस्ती से एक घर से बरामद किया. पुलिस की पूछताछ में मोहन ने बताया की उसने कई लोगों से कर्ज ले रखा था जिसे देने में वह असमर्थ था इसलिए उसने अपने अपहरण की झूठी कहानी रची थी. पुलिस ने मोहन कुशवाहा को पुलिस को गुमराह करने सहित कई धाराओं में जेल भेज दिया है. पुलिस अधिक्षक सचिंद्र पटेल ने बताया की अपहरण की आशंका के कारण स्वाट, सर्विलांस और एसओजी टीम को इसकी जांच के लिए लगाया गया था. जांच में ये बात सामने आई थी की मोहन का अपहरण नहीं हुआ बल्कि सारी कहानी फर्जी लगी. इसके बाद सक्रिय हुई टीम ने मोहन को बरामद कर लिया. खुद के अपहरण की साजिश रचने वाले मोहन को जेल भेजा जा रहा है.

आशिक मिजाज दरोगा आधी रात को प्रेमिका के घर से निकला तो ग्रामीणों ने पकड़ा, फिर बांध कर पिटाई

बस्ती में यूपी पुलिस के दरोगा अशोक कुमार चतुर्वेदी को ग्रामीणों ने बांधकर जमकर पीटा

Basti News: बस्ती के एसपी आशीष श्रीवस्तव ने बताया कि एसआई पर ग्रामीणों ने फायरिंग और चरित्र पर आरोप लगाया है. दरोगा बिना वर्दी में गांव में गया था. एसआई को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.

SHARE THIS:

बस्ती. उत्तर प्रदेश के बस्ती (Basti) जिले के दुबौलिया थाना के ऊंजी गांव में एक आशिक मिज़ाज दरोगा अशोक कुमार चतुर्वेदी की ग्रामीणों ने उस वक्त पिटाई कर दी, जब वो गांव में अपनी प्रेमिका से रंगरेलिया मना रहा था. भीड़ यहीं नहीं रुकी. दरोगा को खंभे से बांध का जमकर पीटा, इसके बाद सूचना पुलिस को दी गई. पुलिस मौके पर पहुंची और अपने दरोगा की किसी तरह बचा कर थाने ले गई.

दरअसल ग्रामीणों को काफी दिन से इस आशिक मिज़ाज दरोगा की तलाश थी. आरोप है कि गांव में रात में वो अक्सर अपनी प्रेमिका से मिलने जाता था. बीती रात दरोगा अपनी प्रेमिका से मिलने उसके घर गया और अपनी बाइक प्राइमरी स्कूल के पास खड़ी की. इसके बाद वह एक युवती के घर में घुस गया. ग्रामीणों को जब शक हुआ तो उन्होंने दरोगा को रंगे हाथों पकड़ने के लिए घर के बाहर बैठे रहे. जब दरोगा रात को 3 बजे घर से बाहर निकला तो ग्रामीणों ने उसे पकड़ लिया.

ग्रामीणों का आरोप है कि खुद को घिरा देख दरोगा ने सरकारी रिवाल्वर से हवा में फायर कर दिया. फायरिंग की आवाज पर बड़ी संख्या में ग्रामीण पहुंच गए. इस दौरान पहले दरोगा को जम कर पीटा, उसके बार रस्सी से खंभे में बढ़ कर पिटाई की. सूचना पर पहुंची पुलिस ने किसी तरह दरोगा की जान बचाई. ग्रामीणों के चंगुल से छुड़ा कर थाने लाई.

घटना की सूचना के बाद एसपी आशीष श्रीवस्तव थाने पर पहुंचे. उन्होंने कहा कि एसआई पर ग्रामीणों ने फायरिंग और चरित्र पर आरोप लगाया है. दरोगा बिना वर्दी में गांव में गया था. एसआई को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.

Basti News: नेशनल हाइवे पर भीषण सड़क हादसे में 5 की मौत, कन्टेनर में पीछे से घुसी कार

UP: बस्ती में भीषण सड़क दुर्घटना में 5 लोगों की माैत हो गई है.

Basti News: कार लखनऊ से बस्ती आ रही थी. कार में 7 लोग सवार थे, जिनमें से 5 की मौके पर ही मौत हो गई. एक बच्ची सुरक्षित निकाल ली गई है, वहीं 1 की हालत गम्भीर है, जिसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

SHARE THIS:

बस्ती. उत्तर प्रदेश के बस्ती (Basti) में भीषण सड़क हादसे (Massive Road accident) में 5 लोगों की मौत (5 People Died) हो गई है. नगर थाना के नेशनल हाइवे 28 के पुरैना चौराहे पर ये हादसा हुआ. यहां कन्टेनर में पीछे से कार घुस गई. कार लखनऊ से बस्ती आ रही थी. कार में 7 लोग सवार थे, जिनमें से 5 की मौके पर ही मौत हो गई. एक बच्ची सुरक्षित निकाल ली गई है, वहीं 1 की हालत गम्भीर है, जिसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बस्ती में हुई सड़क दुर्घटना में लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है. उन्होंने मृतकों के शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है. ने इस हादसे में घायलों का समुचित उपचार कराने तथा प्रभावित लोगों को हर संभव मदद और राहत प्रदान करने के निर्देश दिए हैं.

हादसे की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस को शवों को बाहर निकालने में खासी मशक्कत करनी पड़ी. कार को गैस कटर से काटा गया, जिसके बाद एक-एक करके शव निकाले गए. पुलिस ने सभी शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है.

कार को गैस कटर से काटकर शव निकाले गए

basti accident, NH 28 accident, UP News,

UP: बस्ती में भीषण सड़क दुर्घटना में 5 लोगों की माैत हो गई है.

वहीं दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल एक शख्स को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. इसके अलावा एक बच्ची को सकुशल बचा लिया गया है.

जानकारी के अनुसार सुबह तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर एनएच-28 पर एक होटल के पास खड़े कंटेनर में पीछे से जा घुसी. टक्कर इतनी भीषण थी कि कार ट्रक में फंस गई, जिसके बाद गैस कटर से काटकर शवों को बाहर निकाला गया. कार में 13 वर्षीय अनम सुरक्षित बच गई है, इनके अलावा अब्दुल अजीज, नरगिस तवस्सुम, एनम, 10 वर्षीय तिउरा, 6 वर्षीय सुबा की मौके पर ही मौत हो गई. पूरा परिवार लखनऊ के शारदानगर में रहता था.

मूलरूप से बिहार राज्य के भागलपुर के रहने वाले थे. मृतक अब्दुल का ससुराल झारखंड में है. सास की मौत की खबर मिली तो परिवार के साथ भोर में ही निकल पड़े. शारदानगर का ही रहने वाला अभिषेक गाड़ी चला रहा था. जिस वक्त हादसा हुआ सब लोग कार में सो रहे थे.

एक्सीडेंट में सुरक्षित बची अनम ने बताया हम सो रहे थे, अचानक तेज आवाज के साथ टक्कर हो गई, हम सब फंस गए थे. चारों तरफ खून ही खून था. कोई बोल नहीं पा रहा था.

एसपी आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि घटना की सूचना के बाद पुलिस और अन्य टीमों की मदद से गाड़ी में फंसे शवों को निकाल गया. एक बच्ची सुरक्षित है. परिजनों को घटना की सूचना दी गई है. परिजन बस्ती पहुंच गए हैं.

UP: बस्ती में पुलिस की बदमाश से मुठभेड़, गोली लगने के बाद सिपाही ने हिस्ट्रीशीटर को दबोचा

Basti News: पुलिस मुठभेड़ में दबोचा गया हिस्ट्रीशीटर

कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक (SHO) शिवाकांत मिश्रा ने बताया कि, पुलिस बड़ेवन चौराहे पर चेकिंग कर रही थी. इस बीच हिस्ट्रीशीटर संतोष सिंह ने पुलिस पर फायरिंग कर दी.

SHARE THIS:

बस्ती. यूपी के बस्ती (Basti) जिले में सोमवार सुबह पुलिस और एंटी नारकोटिक्स टीम की हिस्ट्रीशीटर बदमाश से मुठभेड़ (Encounter) हो गई. बदमाश ने पुलिस पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी. पुलिस ने भी जवाब में गोलियां चलाई. इस बीच बदमाश सहित एक सिपाही नीरज पासवान घायल हो गए. पुलिस ने घायल हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार कर लिया. उसके पास से पुलिस ने 12 बोर का अवैध तमंचा और बाइक बरामद की है. दोनों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है. पुलिस के मुताबिक बदमाश के खिलाफ रंगदारी, हत्या का प्रयास सहित 20 मामले दर्ज हैं. पुलिस कई दिनों से उसकी तलाश कर रही थी.

मामला कोतवाली थाना क्षेत्र के खोराखर गांव का है. जानकारी के अनुसार नगर थाना के पिपरा गौतम निवासी हिस्ट्रीशीट संतोष सिंह चोरी की बाइक लेकर जा रहा था. इस बीच बड़ेवन चौराहे पर पुलिस चेकिंग कर रही थी. संतोष को आता देख पुलिस ने टार्च की रोशनी दिखाकर उसको रोकने का इशारा किया. बाइक रोकने की जगह वो पुलिस को देख भागने का प्रयास करने लगा. पुलिस ने घेराबंदी की तो उसने फायरिंग कर दी. जवाब में पुलिस ने भी गोलियां चलाई. इस बीच एक गोली संतोष के पैर पर लगी. जिससे वो घायल होकर गिर गया. उसके गिरते ही पुलिस ने उसको दबोच लिया. बदमाश की गोली सिपाही नीरज पासवान के बाए हाथ में लगी. जिससे वो घायल हो गए.

संतोष सिंह पर दर्ज हैं 20 मामले
कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक शिवाकांत मिश्रा ने बताया कि, पुलिस बड़ेवन चौराहे पर चेकिंग कर रही थी. इस बीच हिस्ट्रीशीटर संतोष सिंह ने पुलिस पर फायरिंग कर दी. फायरिंग में सिपाही नीरज पासवान घायल हो गए. पुलिस की एक गोली संतोष के पैर में लगी. गोली लगने के बाद पुलिस ने उसको गिरफ्तार कर लिया. आरोपी के खिलाफ कई संगीन धाराओं में 20 मामले दर्ज हैं.

Budh Pradosh Vrat 2021: आज है बुध प्रदोष व्रत, इस शुभ मुहूर्त में पूजा कर शिव जी को करें प्रसन्न, पढ़ें कथा

बुध प्रदोष व्रत में शिव और पार्वती की पूजा की जाती है.

Budh Pradosh Vrat 2021 In July: भगवान शिव (Lord Shiva) और माता पार्वती (Maa Parvati) के आशीर्वाद के लिए प्रदोष व्रत (Pradosh Vrat) करें. इस व्रत से रोगों से मुक्ति मिलती है, जीवन में सुख-समृद्धि प्राप्त होती है...

SHARE THIS:
Budh Pradosh Vrat 2021 In July: आज बुध प्रदोष व्रत है. आज भक्त विधि विधान से प्रदोष काल में भगवान शिव (Lord Shiva) और माता पार्वती (Maa Parvati) विधि विधान की पूजा-अर्चना करेंगे. आज के दिन व्रत रखकर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करने से भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान शिव सबसे आसानी से प्रसन्न हो जाते हैं. उनसे ही जीवन है और उनसे ही मृत्यु है. वही महाकाल भी हैं. त्रयोदशी के दिन जो लोग प्रदोष व्रत रखते हैं उनको रोगों से मुक्ति मिलती है, जीवन में सुख-समृद्धि प्राप्त होती है. दुखों और पाप का नाश होता है. जिन लोगों को कोई संतान नहीं होती है, उन लोगों को इस व्रत को करने से वंश वृद्धि के लिए संतान का आशीष मिलता है.आइए जानते हैं बुध प्रदोष के दिन पूजा का शुभ मुहूर्त और कथा...

बुध प्रदोष व्रत मुहूर्त:
आषाढ़, शुक्ल त्रयोदशी प्रारम्भ - 04:26 पी एम, जुलाई 21.
आषाढ़, शुक्ल त्रयोदशी समाप्त - 01:32 पी एम, जुलाई 22.
प्रदोष काल- 07:18 पी एम से 09:22 पी एम.

यह भी पढ़ें: India Richest Temple: ये हैं भारत के सबसे अमीर मंदिर, करोड़ों की चढ़ती है भेंट

बुध प्रदोष व्रत की पौराणिक कथा:

बुध प्रदोष व्रत की कथा के अनुसार एक पुरुष का नया-नया विवाह हुआ. विवाह के 2 दिनों बाद उसकी पत्‍नी मायके चली गई. कुछ दिनों के बाद वह पुरुष पत्‍नी को लेने उसके यहां गया. बुधवार को जब वह पत्‍नी के साथ लौटने लगा तो ससुराल पक्ष ने उसे रोकने का प्रयत्‍न किया कि विदाई के लिए बुधवार शुभ नहीं होता. लेकिन वह नहीं माना और पत्‍नी के साथ चल पड़ा.

नगर के बाहर पहुंचने पर पत्‍नी को प्यास लगी. पुरुष लोटा लेकर पानी की तलाश में चल पड़ा. पत्‍नी एक पेड़ के नीचे बैठ गई. थोड़ी देर बाद पुरुष पानी लेकर वापस लौटा, तब उसने देखा कि उसकी पत्‍नी किसी के साथ हंस-हंसकर बातें कर रही है और उसके लोटे से पानी पी रही है. उसको क्रोध आ गया.

वह निकट पहुंचा तो उसके आश्‍चर्य का कोई ठिकाना न रहा, क्योंकि उस आदमी की सूरत उसी की भांति थी. पत्‍नी भी सोच में पड़ गई. दोनों पुरुष झगड़ने लगे. भीड़ इकट्ठी हो गई. सिपाही आ गए. हमशक्ल आदमियों को देख वे भी आश्‍चर्य में पड़ गए.

उन्होंने स्त्री से पूछा 'उसका पति कौन है?' वह किंकर्तव्यविमूढ़ हो गई. तब वह पुरुष शंकर भगवान से प्रार्थना करने लगा- 'हे भगवान! हमारी रक्षा करें. मुझसे बड़ी भूल हुई कि मैंने सास-ससुर की बात नहीं मानी और बुधवार को पत्‍नी को विदा करा लिया. मैं भविष्य में ऐसा कदापि नहीं करूंगा.'

जैसे ही उसकी प्रार्थना पूरी हुई, दूसरा पुरुष अंतर्ध्यान हो गया. पति-पत्‍नी सकुशल अपने घर पहुंच गए. उस दिन के बाद से पति-पत्‍नी नियमपूर्वक बुध त्रयोदशी प्रदोष का व्रत रखने लगे. अत: बुध त्रयोदशी व्रत हर मनुष्य को करना चाहिए. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Basti News: अश्लील काण्ड का आरोपी दारोगा दीपक सिंह सेवा से बर्खास्त

बस्ती में अश्लीलता कांड के आरोपी सोनूपार चौकी इंचार्ज दीपक सिंह को बर्खास्त कर दिया गया है.

Basti News: बस्ती में सीओ ने पूरे मामले की जांच कर चार्जशीट न्यायालय में दाखिल कर दी है. चार्जशीट में मुख्य आरोपी दीपक सिंह को दोषी पाया गया. दरोगा दीपक सिंह के दोषी पाए जाने के बाद सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है.

SHARE THIS:
बस्ती. उत्तर प्रदेश के बस्ती (Basti) जिले में सदर कोतवाली का पोखर भिटवा गांव उस वक्त सुर्खियों में आ गया था, जब एक युवती ने सोनूपार चौकी इंचार्ज दीपक सिंह पर 20 मार्च को सनसनीखेज आरोप लगाते हुए अश्लीलता, छेड़खानी और फर्जी मुकदमे में फंसाने का आरोप लगाया. खाकी पर दाग के इस पूरे प्रकरण का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान लिया था. मामले में अब दीपक सिंह को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है.

दरअसल सीएम योगी के मामला संज्ञान लेते ही मामला हाईप्रोफाइल हो गया. इसके बाद जो ताबड़तोड़ कार्रवाई हुई, उस की गूंज पूरे प्रदेश में सुनाई पड़ी. मुख्यमंत्री ने इस कार्रवाई से साफ संदेश दिया कि जो भी इस तरह का काम करेगा, चाहे वो आम हो या खास या फिर दरोगा, बख्शा नहीं जाएगा.

सीएम के निर्देश पर एडीजी निखिल कुमार जांच करने पीड़िता के गांव पहुंचे. इस जांच में बस्ती मण्डल के कमिश्नर, आईजी, डीएम और एसपी संतकबीर नगर को शामिल किया गया. ज्यों-ज्यों जांच चलती गई. लापरवाह अधिकारियों की विकेट गिरती गई. पहले तत्कालीन एसपी हेमराज मीणा को पद से हटा दिया गया, फिर तत्कालीन एएसपी को हटाया गया. तत्कालीन सीओ ग्रीस सिंह को सस्पेंड कर दिया गया. जांच पूरी होने के बाद आरोपी दरोगा दीपक सिंह समेत कोतवाल समेत 11 पुलिसकर्मियों और 2 राजस्व कर्मियों को प्रथम दृष्टया दोषी पाया गया और इनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सस्पेंड कर दिया गया.

बस्ती : लड़की का आरोप - SI करता था अश्लील बातें, नंबर ब्लॉक करने पर दर्ज हुए 8 मुकदमे
 इसके बाद आरोपी दरोगा दीपक सिंह को 21 मार्च को अरेस्ट कर जेल भेज दिया गया. दीपक सिंह के खिलाफ धारा 323, 325, 342, 504, 506, 554 क ख ग, 427, 452 व 67 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था. दीपक सिंह की 18 जून को जमानत पर जेल से रिहा हुआ था, पीड़िता की मांग पर पूरे मामले की निष्पक्ष जांच के लिए संतकबीर नगर के खलीलाबाद सीओ अंशुमान मिश्रा को जांच सौंपी गई थी.

सीओ ने अब पूरे मामले की जांच कर चार्जशीट न्यायालय में प्रेषित कर दी है. इस चार्जशीट में कुल 83 लोगों के बयान लिए गए हैं. चार्जशीट में मुख्य आरोपी दीपक सिंह को दोषी पाया गया. दरोगा दीपक सिंह के दोषी पाए जाने के बाद उस को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है. लेकिन 12 पुलिसकर्मियों और राजस्व कर्मियों को प्राप्त साक्ष्य न मिलने की वजह से दोष मुक्त कर दिया गया है. सीजेएम कोर्ट ने चार्जशीट के आधार पर दरोगा दीपक सिंह को 23 जुलाई को न्यायालय में हाजिर होने के लिए तलब किया है.

UP Block Pramukh Chunav: नामांकन के दौरान कई जिलों में हिंसा, सीतापुर में फायरिंग, देखिए पूरी रिपोर्ट

UP: महाराजगंज में ब्लॉक प्रमुख नामांकन के दौरान एक प्रत्याशी को नामंकन से रोकने की कोशिश हुई, जिस पर हंगामा हो गया.

UP Panchayat Chunav 2021: उत्तर प्रदेश में आज ब्लॉक प्रमुख चुनाव के लिए नामांकन दाखिल करने के दौरान कई जिलों में हिंसा, झड़प, लाठीचार्ज से लेकर प्रत्याशी के अपहरण, पर्चा छीनने की बात सामने आई है.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में ब्लॉक प्रमुख चुनाव (Block Pramukh Election) को लेकर गुरुवार को सभी जिलों में प्रत्याशियों ने नॉमिनेशन (Nomination) दाखिल किए. इस दौरान कई जगह हिंसा (Violence) की घटनाएं, झड़प, लाठीचार्ज, फायरिंग देखने को मिली हैं. कहीं नामांकन से पहले प्रत्याशी के अपहरण को लेकर बवाल मचा, कहीं पर्चा छीनने की बात सामने आई है.  एक दिन पहले ही डीजीपी मुकुल गोयल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान सख़्ती बरतने के निर्देश दिए थे लेकिन जिलों में डीजीपी के निर्देशों का असर नहीं दिखा. डीजीपी ने कहा है कि सभी घटनाओं में सख़्त विधिक कार्यवाही की जाएगी.

घटनाओं की बात करें तो सीतापुर में नामांकन के दौरान बीजेपी कार्यकर्ताओं की गुंडई आई सामने आई. आरोप लगा है कि उन्होंने नामांकन करने पहुंचे निर्दलीय प्रत्याशी के दो प्रस्तावकों का अपहरण कर लिया. यही नहीं विरोध करने पर जमकर हाथगोले दागे और गोलियां चलाईं. इस घटना में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. वहीं आक्रोशित लोगों ने कमलापुर थाना क्षेत्र का हाईवे जाम कर दिया है.



वहीं सीतापुर में नामांकन के दौरान हुई हिंसक घटना मामले में पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लिया है. अन्य लोगों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस दबिश दे रही है. एसपी आरपी सिंह माके पर कैंप कर रहे हैं. एसपी ने साफ किया है कि किसी का अपहरण नहीं हुआ है.

ये हैं प्रदेश की प्रमुख घटनाएं

आजमगढ़ में पवई ब्लॉक के गेट पर नामांकन के दौरान सपा-भाजपा प्रत्याशी भिड़ गए. नामांकन के दौरान भाजपा प्रत्याशी वरुण यादव और सपा प्रत्याशी में जमकर नोकझोंक देखने को मिली. बता दें वरुण यादव सपा नेता बाहुबली रमाकांत यादव के पुत्र हैं. पुलिस ने दोनों पक्षो को समझाकर मामले को शांत कराया.

आजमगढ़ में ही भाजपा के ब्लॉक प्रमुख पर नियमों की धज्जियां उड़ाने का आरोप लगा है. यहां भाजपा प्रत्याशी अनुराग सिंह सोनू ने नामांकन के पहले जुलूस निकाला और नारेबाजी करते हुए सोनू सिंह नामांकन स्थल पहुंचे. इस दौरान कोविड- नियमों को ताख पर रख दिया गया. बता दें अनुराग सिंह सोनू पल्हना ब्लाक से भाजपा प्रत्याशी हैं.

वहीं कानपुर में आरोप लगा है कि नामांकन से पहले सपा के बिल्हौर और शिवराजपुर ब्लॉक से प्रत्याशी लापता हो गए हैं. मामले में सपा कार्यकर्ताओं ने बीजेपी कार्यकर्ताओं पर प्रत्याशियों के अपहरण का आरोप लगाया है.

संभल में सपाइयों को दौड़ाते पुलिसकर्मी

UP News, election violence, Block Pramukh Election in UP,
UP: संभल में पुलिस ने सपाइयों को लाठी लेकर दौड़ाया. सपा विधायक के पुत्र की प्रशासनिक अधिकारियों से गर्मागर्मी के बाद पुलिस कार्रवाई.


वहीं कानपुर देहात में राजपुर ब्लॉक पर सपा और बीजेपी कार्यकर्ता भिड़ गए. इस दौरान बीजेपी कार्यकर्ता ने ब्लाक गेट पर सपा प्रत्याशी का कुर्ता फाड़ दिया. कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने मामला शांत कराया.

वहीं सन्दलपुर ब्लॉक में नामांकन के दौरान विवाद हो गया. इस दौरान पुलिस ने जमकर लाठियां भांजी. माहौल बिगड़ते देख भारी पुलिस बल तैनात किया गया है.

पूर्व मंत्री लालजी वर्मा से पर्चा छीनकर फाड़ने का आरोप

इसी तरह अम्बेडकरनगर में भी टांडा ब्लॉक प्रमुख नामांकन में बवाल देखने को मिला. यहां भाजपा प्रत्याशी तेजस्वी जायसवाल पर बसपा के पूर्व मंत्री लालजी वर्मा के हाथ से नामांकन का पर्चा छीनकर फाड़ने का आरोप लगा है. तनवा बढ़ते देख भारी संख्या में फोर्स तैनात की गई. जिले के डीएम एसपी मौके पर पहुंच गए हैं.

चित्रकूट में नामांकन स्थल को ही भाजपा प्रत्याशी और समर्थिकों द्वारा कैद करने का मामला सामने आया है. यहां नामंकन स्थल के अंदर सीओ को भी भाजपा प्रत्याशी के समर्थकों ने गेट के अंदर घुसने नहीं दिया. इस पर सपा प्रत्याशी ने जमकर हंगामा काटा. पुलिस प्रशासन और अधिकारी मूकदर्शक बने रहे.

जौनपुर में नामांकन से पहले जमकर बवाल

jaunpur crime
जौनपुर में नामांकन से पहले हिंसा का दृश्य


हरदोई में ब्लॉक प्रमुख टिकट वितरण को लेकर भाजपा संगठन में अंतर्द्वंद मचा है. यहां जनसंघ के जमाने के पुराने भाजपा नेता सुरसा पूर्व ब्लाक प्रमुख रामपाल सिंह ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है. उनके पौत्र सुरसा भाजपा मंडल के अध्यक्ष अमित कुमार सिंह ने भी इस्तीफा दे दिया है. सुरसा ब्लाक प्रमुख पद के लिए घोषित भाजपा समर्थित उम्मीदवार के विरोध में नाराजगी जताते उन्होंने इस्तीफा दिया है.

महिला प्रत्याशी के साथ धक्का-मुक्की

महाराजगंज में भाजपा प्रत्याशी ने सदर ब्लाक परिसर में नामांकन दाखिल किया. इस दौरान दूसरे प्रत्याशी को नामांकन से रोकने की कोशिश हुई, जिस पर मारपीट और हंगामा हो गया. यहां एक प्रत्याशी समर्थक द्वारा दूसरी महिला प्रत्याशी के साथ धक्का-मुक्की, छीना-झपटी देखने को मिली. इस दौरान पुलिस तमाशबीन बनी रही.

वहीं बागपत के छपरोली ब्लॉक में आरएलडी प्रत्याशी को नामांकन करने से रोकने पर हंगामा हो गया. आरोप है कि जिला प्रशासन ने आरएलडी प्रतियाशी अंशु हलालपुर को नामांकन करने से रोका गया. आरएलडी कार्येकर्ताओं और पुलिसकर्मियों के बीच जमकर नोकझोंक देखने को मिली. आरएलडी कार्येकर्ताओ का हंगामा चल रहा है.

बस्ती में पुलिस ने किया लाठीचार्ज

इसी तरह बस्ती के गौर ब्लॉक में पुलिस ने जमकर लाठीचार्ज किया. यहां बीजेपी कार्यकर्ता ब्लॉक गेट पर नामांकन के दौरान उपद्रव कर रहे थे. बता दें बीजेपी से जटा शंकर शुक्ला चुनाव के मैदान में हैं, वहीं विपक्ष में महेश सिंह चुनाव लड़ रहे हैं. पर्चा दाखिल करने को लेकर ये बवाल हुआ.

वहीं पीलीभीत के अमरिया ब्लॉक में निर्दलीय प्रत्याशी के नामांकन के दौरान भाजपा के प्रत्याशी की तरफ से गुंडई करने का आरोप लगा है. आरोप है कि भाजपा प्रत्याशी और समर्थकों ने बीच सड़क पर गाड़ी लगाकर नामांकन करने से रोकने का प्रयास हुआ. भाजपा प्रत्याशी के संरक्षण में अज्ञात बदमाशों ने निर्दलीय प्रत्याशी की गाड़ी पर हमला किया, जबकि पुलिस मूक दर्शक बनी रही. हंगामे के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर दबंगों को खदेड़ा.

झांसी में पथराव

झांसी के बड़ागांव ब्लॉक प्रमुख के लिये हो रहे नामांकन में भी जमकर बवाल और पुलिस का लाठीचार्ज देखने को मिला है. यहां सपाइयों ने नामांकन नहीं करने देने का आरोप लगाया है. इसे लेकर जमकर ईंट पत्थर चले. सपा भाजपा के समर्थक आपस में भिड़ गए. जमकर बवाल के बाद पुलिस ने लाठियां भांजी. भारी पुलिस बल मौके पर पहुंच गया है.

वहीं रायबरेली के हरचंदपुर ब्लॉक प्रमुख नामंकन के दौरान जमकर गाली गलौज देखने को मिली. यहां बीजेपी प्रत्याशी पीयूष सिंह और निर्दलीय प्रत्याशी अशोक कुमारी के समर्थक आमने सामने आ गए. पुलिस के सामने हंगामा होता रहा.

अयोध्या में धरने पर बैठे सपाई

अयोध्या के मया ब्लॉक नामांकन स्थल पर सपा भाजपा में मारपीट हो गई, जिसके विरोध में मया बाजार तिराहे पर सपाइयों ने अंबेडकरनगर रोड जाम कर दिया. मौके पर एएसपी पलाश बंसल व एसडीएम सदर ज्योति सिंह पहुंचे और सपाइयों को आश्वासन दिया. उन्होंने आश्वासन दिया है कि सपा समर्थित प्रत्याशी धर्मवीर वर्मा को सुरक्षा दी जाएगी. धर्मवीर देंगे तहरीर तो मुकदमा दर्ज होगा. आश्वासन पर जाम खुल गया. बता दें धर्मवीर वर्मा के प्रस्तावक राजेश कुमार को चोटें आई हैं.

उन्नाव में भाजपाइयों पर निर्दलीय प्रत्याशी का पर्चा छीनने का प्रयास करने का आरोप लगा है. दरअसल नवाबगंज खंड विकास कार्यालय पर ब्लॉक प्रमुख पद का नामांकन कराने दो निर्दलीय प्रत्याशी पहुंचे थे. आरोप है कि खंड विकास कार्यालय गेट पर पहुंचते ही भाजपाइयों ने प्रत्याशियों को घेरा और हाथापाई कर पर्चा छीनने का प्रयास किया. मौके पर पुलिस ने डंडा पटक कर भाजपाइयों को खदेड़ा. फिर पुलिस की मौजूदगी में दोनों निर्दलीय प्रत्याशियों ने पर्चा दाखिल किया.

UP Flood: लगातार बारिश से तराई और पूर्वांचल के 16 जिलों में बाढ़ का खतरा, एडवाइजरी जारी

लगातार बारिश से तराई और पूर्वांचल के 16 जिलों में मंडराया बाढ़ का खतरा (File photo)

UP Flood News: यूपी के गोरखपुर, लखीमपुर खीरी, श्रावस्ती, बहराइज, सीतापुर, मऊ समेत कई जिलों में नदियों का जलस्तर बढ़ा. कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रहीं नदियां. आपदा एवं राहत विभाग ने संबंधित जिलों को किया अलर्ट.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के 16 जिलों में समय बीतने के साथ बाढ़ (Flood) का भी खतरा बढ़ता जा रहा है. इन सभी जिलों से होकर बहने वाली नदियों के जलस्तर में लगातार बढ़ोतरी हो रही है. कुछ नदियां तो अभी से खतरे के निशान के ऊपर बहने लगी हैं. चिंता वाली बात ये है कि हर पल के बीतने के साथ नदियों के जलस्तर में बढ़ोतरी ही हो रही है. वहीं लगातार हो रही बारिश से बाढ़ का खतरा और तेजी से बढ़ता जा रहा है. इसे देखते हुए राहत विभाग ने इन सभी जिलों के अफसरों को एडवाइजरी भेज दी है और तैयारी रखने के निर्देश दिये हैं.

दरअसल, लखीमपुर खीरी, श्रावस्ती, बहराइच, बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, महाराजगंज, कुशीनगर, देवरिया, गोरखपुर, गोण्डा, बस्ती, संतकबीर नगर, बलिया, बाराबंकी, सीतापुर और मऊ में बाढ़ का संकट मंडरा रहा है. महराजगंज और सिद्धार्थनगर में तो जलभराव भी शुरू हो गया है. गोरखपुर में रोहिणी नदी त्रिमोहानीघाट पर खतरे के निशान से लगभग एक मीटर ऊपर बह रही है. गोरखपुर में तैनात गण्डक बाढ़ मण्डल के अधीक्षण अभियंता दिनेश सिंह ने बताया कि नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. दिन-रात निगरानी की जा रही है. हल्की कटान की स्थिति में फटाफट रेत से उसे भर दिया जा रहा है. सभी तटबंध सुरक्षित हैं और आबादी क्षेत्र में पानी नहीं आया है.

पंचायत चुनावों पर अखिलेश यादव बोले- हार से बौखलाई बीजेपी, अब सरकारी तंत्र का कर रही दुरुपयोग

दूसरी तरफ शारदा, घाघरा और राप्ती नदी का जलस्तर भी खतरे के निशान के पास पहुंच गया है. चिंताजनक बात ये है कि इन सभी नदियों का जलस्तर हर सेकेण्ड के साथ बढ़ता जा रहा है. इस बात की आशंका बढ़ गयी है कि अगले कुछ घंटों में इन सभी नदियों का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर जायेगा. ऐसे में लगातार पानी बढ़ने से निचले इलाकों में जलभराव की समस्या खड़ी हो सकती है. इन 16 जिलों की ओर बढ़ते इस खतरे को देखते हुए राहत विभाग ने जिलों को निर्देश दे दिये हैं कि बाढ़ के संकट से निपटने के उपाय किये जाए.

नेपाल और उत्तराखण्ड में हो रही लगातार बारिश
बाढ़ प्रभावित आबादी के लिए राहत शिविर तैयार किये जाएं और उनके खाने-पीने का भी प्रबंध किया जाए. आपको बता दें कि नेपाल और उत्तराखण्ड के साथ तराई और पूर्वी इलाकों में लगातार हो रही बारिश से नदियां उफान मारने लगी हैं. समय से पहले ही इस साल सूबे में बाढ़ के हालात पैदा हो गये हैं. मॉनसून के जल्दी आने की वजह से ये समस्या जल्दी खड़ी हुई है.

Nirjala Ekadashi June 2021: निर्जला एकादशी व्रत कब है? जानें पूजा सामग्री, मुहूर्त और पूजा विधि

निर्जला एकादशी व्रत से ग्रह दोष शांति होती है.

Nirjala Ekadashi June 2021: निर्जला एकादशी के दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा-अर्चना की जाती है. इस व्रत से मनोकामनाएं पूरी होती हैं, यश, वैभव और सुख मिलता है और ग्रह दोष शांत होता है.

SHARE THIS:
Nirjala Ekadashi June 2021: हिंदू धर्म में निर्जला एकादशी का विशेष महत्व है. है. निर्जला एकादशी इस साल 21 जून, सोमवार के दिन पड़ रही है. निर्जला एकादशी के दिन भगवान विष्णु (Lord Vishnu) की पूजा-अर्चना की जाती है. हर साल कई एकादशी तिथियां आती हैं लेकिन ये सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है. निर्जला एकादशी को भीम एकादशी (Bheem Ekadashi) भी कहा जाता है. इस दिन भक्त सूर्योदय से अगले दिन सूर्योदय बिना खाए और बिना जल ग्रहण किए निर्जल रहकर व्रत करते हैं. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, जो जातक यह व्रत करते हैं उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और यश, वैभव और सुख की प्राप्ति होती है और ग्रह दोष भी शांत होता है. इस व्रत के प्रभाव से अनजाने में किए गए पाप कट जाते हैं...

निर्जला एकादशी का शुभ मुहूर्त:
निर्जला एकादशी तिथि- 21 जून 2021
एकादशी तिथि प्रारंभ- 20 जून, रविवार को शाम 4 बजकर 21 मिनट से शुरू
एकादशी तिथि समापन-21 जून, सोमवार को दोपहर 1 बजकर 31 मिनट तक.

यह भी पढ़ें: Ganga Dussehra 2021: राशि के अनुसार गंगा दशहरा के दिन करें ये काम, मिलेगा अद्भुत फल



एकादशी पूजा सामग्री लिस्ट:
श्री विष्णु जी का चित्र अथवा मूर्ति, पुष्प, नारियल, सुपारी, फल, लौंग, धूप, दीप, घी , पंचामृत, अक्षत, तुलसी दल, चंदन और मिष्ठान आदि.

निर्जला एकादशी की पूजा-विधि:
निर्जला एकादशी व्रत से एक रात पहले यानी कि दशमी के दिन से ही व्रत शुरू हो जाता है. इसलिए दशमी को रात में खाना खाने के बाद अच्छे से मुंह साफ कर लेना चाहिए ताकि मुंह जूठा न रहे.

निर्जला एकादशी के दिन सुबह उठकर नित्यकर्म करने के बाद. नए कपड़े पहनकर पूजाघर में जाएं और भगवान के सामने व्रत करने का संकल्प मन ही मन दोहरायें. भगवान विष्णु की आराधना करें और मन ही मन श्री हरि के मंत्र 'ओम नमो भगवते वासुदेवाय' का जाप करते रहें. इस व्रत को करने से जातक के समस्त रोग, दोष और पापों का नाश होगा. इस दिन मन की सात्विकता का ख़ास ख्याल रखें. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Basti Zila Panchayat Chunav: बीजेपी के 34 प्रत्याशियों की करारी हार, महज 9 सीटों पर मिली जीत

सांकेतिक फोटो

UP Gram Panchayat Chunav Results: 43 सीटों के लिए हुए चुनाव में बीजेपी के 34 उम्मीदवारों को मुंह की खानी पड़ी, जबकि महज 9 प्रत्याशी ही जीत दर्ज कर सके. ऐसे में पार्टी का जिलाध्यक्ष बनाने के खवाब पर पानी फिरता नजर आ रहा है.

SHARE THIS:
बस्ती. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के गृह जनपद गोरखपुर (Gorakhpur) जिले से सटे बस्ती (Basti) जनपद में हुए जिला पंचायत सदस्य (Zila Panchayat Chunav Results) चुनाव में बीजेपी (BJP) को अप्रत्याशित हार का सामना करना पड़ा है. 43 सीटों के लिए हुए चुनाव में बीजेपी के 34 उम्मीदवारों को मुंह की खानी पड़ी, जबकि महज 9 प्रत्याशी ही जीत दर्ज कर सके. ऐसे में पार्टी का जिलाध्यक्ष बनाने के खवाब पर पानी फिरता नजर आ रहा है.

बीजेपी प्रत्याशियों के चुनाव परिणाम (09/43)

1 रुधौली प्रथम से मंजू सिंह- हार
2 रुधौली द्वितीय से राजकुमार चौधरी- हार
3 रुधौली तृतीय से दिलीप कुमार गौड- हार
4 रामनगर प्रथम से अन्नू देवी पत्नी मनोज ठाकुर- हार
5 रामनगर द्वितीय से संजय चौधरी- जीत
6 रामनगर तृतीय से विवेकानंद पांडेय- हार
7 सल्टौआ गोपालपुर प्रथम से अखिलेश पटेल- हार
8 द्वितीय से अभिनव उपाध्याय- हार
9 तृतीय से गीता मोदनवाल- हार
10 चतुर्थ से सत्येंद्र शुक्ला- हार
11 गौर प्रथम से आशा त्रिपाठी- हार
12 द्वितीय से अमृता सिंह- जीत
13 तृतीय से अशोक कुमार गुप्ता- हार
14 चतुर्थ से गुडिया पांडेय- हार
15 परशुरामपुर प्रथम से गुडिया पत्नी पवन कुमार पांडेय- जीत
16 द्वितीय से विजय प्रताप सिंह- हार
17 तृतीय से अमित कुमार चतुर्वेदीप- हार
18 चतुर्थ से सीताराम गुप्ता- हार
19 विक्रमजोत प्रथम से विनय कुमार मिश्र- हार
20 द्वितीय से स्वाति सिंह- जीत
21 तृतीय से महेंद्र प्रताप सिंह- हार
22 हर्रैया प्रथम से खुशबू सिंह- हार
23 द्वितीय से पंच कुमारी- हार
24 तृतीय से राजेश पाल चौधरी- हार
25 दुबौलिया प्रथम से विमला देवी- हार
26 द्वितीय से ज्योति सिंह- हार
27 कप्तानगंज प्रथम से रामवृक्ष निषाद- हार
28 द्वितीय से प्रमोद कुमार उर्फ गिल्लम- जीत
29 बहादुरपुर प्रथम से इ्ंद्रावती गौतम- हार
30 द्वितीय से उपेंद्र पांडेय राजन- हार
31 तृतीय से श्याम सुंदर- हार
32 कुदरहा प्रथम से रेनू राजभर- हार
33 द्वितीय से आरसी वर्मा- जीत
34 तृतीय से लवकुश- जीत
35 बनकटी प्रथम से लता त्रिपाठी- जीत
36 द्वितीय से संत लाल- हार
37 सदर प्रथम से गीता देवी- हार
38 द्वितीय से रिंकू सोनकर- हार
39 तृतीय से केतकी देवी- हार
40 चतुर्थ से महेंद्र प्रताप चौधरी- हार
41 सांऊघाट प्रथम से ज्योति सिंह- जीत
42 द्वितीय से प्रेम लता- हार
43 तृतीय से बच्चा लाल चौधरी उर्फ टिड्डू चौधरी- हार

UP Panchayat Chunav: हिंसा के बीच चौथे चरण में 75.38 फीसदी मतदान, अब 2 मई के लिए मतगणना की तैयारी

यूपी: पंचायत चुनाव में चौथे चरण में वोटिंग के साथ ही मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई है.

Lucknow News: उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव की मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई है. अब 2 मई से मतगणना शुरू होगी. पूरे पंचायत चुनव में औसतन 72.72 फीसदी मतदान हुआ. पहले चरण में 71 प्रतिशत, दूसरे चरण में 72 फीसदी के बाद तीसरे चरण के चुनाव में 73.5 फीसदी वोट पड़े थे.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव (UP Panchayat Chunav) के चौथे और आखिरी चरण (Fourth Phase) में 75.38 प्रतिशत मतदान हुआ. राज्य निर्वाचन आयोग (State Election Commission) से मिली जानकारी के मुताबिक चौथे चरण में 17 जिलों में हुए मतदान में औसतन छिटपुट हिंसा के बीच अधिकतर जगह शांतिपूर्ण रहा. आखिरी चरण में वोट पड़ने के साथ ही प्रदेश में पंचायत चुनाव की मतदान प्रक्रिया पूरी हो गई है. अब 2 मई से मतगणना शुरू होगी. पहले चरण में 71 प्रतिशत, दूसरे चरण में 72 फीसदी के बाद तीसरे चरण के चुनाव में 73.5 फीसदी वोट पड़े थे. इस तरह से पूरे पंचायत चुनव में औसतन 72.72 फीसदी मतदान हुआ.

अब 2 मई को मतणगना के लिए काउंटिंग सेंटर पर राज्य निर्वाचन आयोग की गाइडलाइन जारी हो गई है. राज्य निर्वाचन आयुक्त मनोज कुमार ने बताया कि हर मतगणना केन्द्र पर मेडिकल हेल्थ डेस्क खोले जाएंगे. सभी आवश्यक दवाइयों के साथ डॉक्टर उपलब्ध रहेंगे. कोविड-19 के लक्षण दिखने पर मतगणना स्थल पर प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. मतगणना स्थल पर थर्मल स्कैनिंग कराना अनिवार्य रहेगा. नतीजों के बाद विजय जुलूस पर प्रतिबन्ध रहेगा. प्रत्याशियों और अभिकर्ताओं को कोविड नेगेटिव की रिपोर्ट अनिवार्य रहेगी, उनकी आरटीपीसीआर या एंटीजन टेस्ट की निगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य होगी, कोविड-19 वैक्सिनेशन कोर्स पूरा करने की रिपोर्ट भी दिखा सकेंगे.

चौथे चरण में कुल 347436 उम्मीदवार मैदान में हैं. जिला पंचायत सदस्य की 738 सीटों पर 10679 प्रत्याशी, क्षेत्र पंचायत सदस्य की 18356 सीटों पर 55408 प्रत्याशी, जबकि ग्राम पंचायत वार्ड सदस्य की 177648 सीटों के लिए 114400 उम्मीदवार मैदान में हैं.

इन जिलों में पड़े वोट

चौथे चरण में अंबेडकर नगर, अलीगढ़, कुशीनगर, कौशांबी, गाजीपुर, फर्रुखाबाद, बुलंदशहर, बस्ती, बहराइच, बांदा, मऊ, मथुरा, शाहजहांपुर, संभल, सीतापुर, सोनभद्र तथा हापुड़ जिलों में मतदान हुआ.

मतदान के दौरान फायरिंग
शाहजहांपुर के सिधौली ब्लॉक में परवाड़ी गांव में मतदान के दौरान प्रत्याशियों के एजेंटों के बीच विवाद हो गया है, जिसके बा हुई मारपीट में लाठी-डंडे चल गए और भगदड़ मच गई. इस दौरान कई लोगों के घायल होने की सूचना है. कुछ देर बाद मतदान पर फायरिंग भी हुई. पुलिस ने कई को हिरासत में लिया है.

मतदान कर्मी की मौत
शाहजहांपुर में ही चुनाव ड्यूटी के दौरान निगोही ब्लाक के हितेनी गांव में एक कर्मचारी सोबरन लाल की तबीयत बिगड़ने के बाद उसकी मौत की खबर है. वहीं कलान ब्लॉक में एक महिला मतदान कर्मी अपर्णा ने तबीयत खराब होने पर वीडियो बनाकर वायरल कर दिया. उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

मथुरा में हिंसा
मथुरा में रखोली ग्राम पंचायत के नेहरा गांव में मतदान के दौरान दो प्रतिद्वंदी प्रत्याशियों के गुटों के बीच गोली चली, जिसमें आठ लोग घायल हुए. पुलिस ने छह लोगों को गिरफ्तार किया है. इसकी वजह से मतदान कुछ देर के लिए प्रभावित हुआ. वहीं मऊ के बड़राव ब्लाक के अमिला ग्राम सभा स्थित रकबा गांव के बूथ पर मतपत्रों को लेकर विवाद हुआ. अधिकारियों द्वारा इस बूथ पर पुनर्मतदान कराए जाने के आश्वासन पर प्रदर्शन समाप्त हुआ.

बाराबंकी: ऑक्सीजन प्लांट में लिक्विड गैस खत्म, मचा हाहाकार, लखनऊ सहित इन जिलों की सप्लाई ठप

बाराबंकी के ऑक्सीजन प्लांट से सप्लाई रुक गई है.

Barabanki News: बाराबंकी जिले में लखनऊ-अयोध्या मार्ग के असेनी मोड पर सांरग गैस प्लांट स्थित है. प्लांट मैनेजर जेपी तिवारी ने बताया कि लिक्विड खत्म हो गया है. जब तक लिक्विड का टैंकर नहीं आएगा, तब तक प्लांट से दोबारा ऑक्सीजन की मैन्युफैक्चरिंग शुरू नहीं हो पाएगी.

SHARE THIS:
बाराबंकी. अभी तक बाराबंकी (Barabanki) में लिक्विड ऑक्सीजन न मिलने से जिले के ऑक्सीजन प्लांट (Oxygen Plant) बंद हो गए हैं. बाराबंकी के सारंग ऑक्सीजन प्लांट को प्रति दिन कम से कम 10 टन लिक्विड की जरूरत होती है, मगर नियमित लिक्विड ऑक्सीजन न मिलकर तीसरे-चौधे दिन मिल रही है. ऐसे में प्लांट बंद हो गया है. जिसकी वजह से मरीजों को ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है. इस प्लांट से बाराबंकी जिले के अलावा लखनऊ (Lucknow), सीतापुर (Sitapur), गोंडा (Gonda), बहराइच (Behraich), बस्ती (Basti), बलरामपुर (Balrampur) सहित दूसरे आसपास के कई जिलों में ऑक्सीजन सप्लाई होती है. ऐसे में ऑक्सीजन न मिलने से कोरोना मरीजों की जान आफत में पड़ गई है.

बाराबंकी जिले में लखनऊ-अयोध्या मार्ग के असेनी मोड पर सांरग गैस प्लांट स्थित है. यहां लिक्विड ऑक्सीजन की कमी के चलते कोविड हास्पिटलों के अलावा निजी चिकित्सालयों को आक्सीजन आपूर्ति नहीं हो पा रही है. इस प्लांट से बाराबंकी जिले के अलावा लखनऊ, सीतापुर, गोंडा, बहराइच, बस्ती, बलरामपुर सहित दूसरे आसपास के कई जिलों में ऑक्सीजन सप्लाई होती थी. वहां के चिकित्सालयों के सिलिंडर भरे जाते थे. लेकिन अब लिक्विड खत्म होने से यह प्लांट ठप हो गया है, जिससे यहां हाहाकार मच गया है.

लिक्विड के टैंकर का इंतजार

प्लांट मैनेजर जेपी तिवारी ने बताया कि लिक्विड खत्म हो गया है. जब तक लिक्विड का टैंकर नहीं आएगा, तब तक प्लांट से दोबारा ऑक्सीजन की मैन्युफैक्चरिंग शुरू नहीं हो पाएगी. उन्होंने बताया कि उनका एक टैंकर बनारस में है. वह जब यहां पहुंचेगा तो रिफलिंग के बाद ही प्लांट दोबारा शुरू हो पाएगा.

घंटों से इंतजार कर रहे मरीजों के परिजन हो रहे परेशान

वहीं प्लांट पर ऑक्सीजन लेने पहुंचे मरीजों के परिजनों का कहना है कि प्लांट में गैस खत्म होने के चलते उन्हें ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है. परिजनों का कहना है कि वह कई घंटों से यहां खड़े हैं, लेकिन गैस नहीं मिलने से उनके मरीजों की हालत बिगड़ती जा रही है.

Chhath Puja 2021: उगते सूर्य को अर्घ्य के साथ छठ पूजा का समापन आज, जानें मुहूर्त और उषा अर्घ्य महत्व


उगते सूर्य को अर्घ्य देकर अच्छे स्वास्थ्य, सुखी जीवन की कामना की जाती है ( credit: shutterstock/Designsoul)

Chhath Puja 2021 Morning Arghya Muhurt Know Significance- छठ पूजा (Chhath Puja) और प्रातः काल सूर्य देव को अर्घ्य (Morning Arghya To God Sun)देते समय कोरोना (Covid 19 Guidelines) से सम्बंधित नियमों का पालन जरूर करें.

SHARE THIS:
Chhath Puja 2021 Morning Arghya Muhurt Know Significance- आज 19 अप्रैल, सोमवार को छठ पूजा का चौथा दिन है. आज व्रती सूर्योदय (Morning Arghya) के समय सूर्यदेव को अर्घ्य देकर व्रत का पारण करेंगे. इसके साथ ही चार दिन के महापर्व छठ का समापन होगा. उगते सूर्य को अर्घ्य देकर लोग अच्छे स्वास्थ्य और सुखी जीवन की कामना करेंगे और छठ का प्रसाद वितरण करेंगे. लेकिन छठ पूजा (Chhath Puja) और प्रातः काल सूर्य देव को अर्घ्य (Morning Arghya To God Sun)देते समय कोरोना (Covid 19 Guidelines) से सम्बंधित नियमों का पालन जरूर करें. पूजा सामूहिक रूप से ना करें और अपनी सेहत और सुरक्षा का ख्याल रखें. आइए जानते हैं छठ पूजा के चौथे दिन ऊषा अर्घ्य (Morning Arghya) का महत्त्व और प्रातः कालीन अर्घ्य का शुभ मुहूर्त....

उषा अर्घ्य का शुभ मुहूर्त:
आज छठ पूजा के चौथे दिन सूर्योदय अर्घ्य तथा पारण 19 अप्रैल को होगा.
व्रती सुबह 06:49 बजे तक सूर्य देव को अर्घ्य देंगे तथा सूर्योस्त शाम को 05:25 बजे होगा.

यह भी पढ़ें: Thekua Recipe For Chhath Puja: ठेकुआ से छठी मैया को करें खुश, इस प्रसाद के बिना अधूरी है छठ पूजा

उषा अर्घ्य की विधि:
सूर्योदय से पहले बांस की टोकरी में ठेकुआ, चावल के लड्डू और कुछ फल लिए जाते हैं सजा लें. सूप में भी फल और पूजा का सामान सजाया जाता है. लोटे में जल एवं दूध भरकर इसी से सूर्यदेव को ऊषा अर्घ्य दिया जाता है. इसके साथ ही सूप की सामग्री के साथ भक्त छठी मैया की भी पूजा अर्चना करते हैं.

यह भी पढ़ें: Happy Chhath Puja 2021 Wishes: महापर्व छठ पर दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजें ये Messages

उषा अर्घ्य का महत्व:
आज छठ पूजा के चौथे दिन व्रती सूर्यदेव को अर्घ्य देंगे. कुछ व्रती नदी के घाट पर जाकर सूर्यदेव को अर्घ्य देंगे और व्रत का पारण करेंगे. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, महापर्व छठ के अंतिम दिन सूर्य की पत्नी उषा को अर्घ्य दिया जाता है. इससे जीवन में तेज बना रहता है और व्रत करने वाले जातकों की मनोकामना पूरी होती है. पूजा के बाद व्रत करने वाले लोग कच्चे दूध का शरबत और प्रसाद खाकर व्रत का पारण करते हैं. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Chhath Puja 3rd Day: छठ पर सूर्य देव को पहला अर्घ्य आज, जानें शुभ मुहूर्त, विधि और महत्व

आज शाम को अस्ताचलगामी सूर्यदेव को पहला अर्घ्य दिया जाएगा (credit: shutterstock/Designsoul)

Chaiti Chhath 2021 Puja 3rd Day Know Evening Arghya Muhurt Significance And Vidhi: सूर्य षष्ठी यानी कि छठ पूजा के तीसरे दिन शाम के वक्त सूर्यदेव अपनी पत्नी प्रत्यूषा के साथ रहते हैं. इसीलिए संध्या अर्घ्य देने से प्रत्यूषा को अर्घ्य प्राप्त होता है. प्रत्यूषा को अर्घ्य देने से लाभ मिलता है.

SHARE THIS:
Chhath Puja Third Day Know Evening Arghya Muhurt Significance And Vidhi: आज 18 अप्रैल रविवार को छठ पूजा का तीसरा दिन है. आज शाम को अस्ताचलगामी सूर्यदेव को पहला अर्घ्य दिया जाएगा. इसे संध्या अर्घ्य कहा जाता है. इसके पश्चात विधि-विधान के साथ पूजा अर्चना की जाती है. अगले दिन यानी कि 19 अप्रैल सोमवार को उगते सूर्य शुरू को प्रात:कालीन अर्घ्‍य (Morning Arghya) देने के साथ छठ पर्व का समापन होगा. आइए जानते हैं छठ पूजा के तीसरे दिन संध्या अर्घ्य का महत्त्व और संध्या अर्घ्य का शुभ मुहूर्त....

यह भी पढ़ें:  Chaiti Chhath 2021 Kharna Today: खरना आज, जानें महत्व और कब देना है सूर्य को अर्घ्य

छठ पूजा के तीसरे दिन संध्या अर्घ्य का महत्त्व :
छठ पूजा के तीसरे दिन यानी कि षष्ठी तिथि के दिन संध्या अर्घ्य दिया जाता है. सूर्यदेव को संध्या अर्घ्य कार्तिक शुक्ल की षष्ठी के दिन दिया जाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, सूर्य षष्ठी यानी कि छठ पूजा के तीसरे दिन शाम के वक्त सूर्यदेव अपनी पत्नी प्रत्यूषा के साथ रहते हैं. इसीलिए संध्या अर्घ्य देने से प्रत्यूषा को अर्घ्य प्राप्त होता है. प्रत्यूषा को अर्घ्य देने से लाभ मिलता है. मान्यता यह भी है कि संध्या अर्घ्य देने और सूर्य की पूजा अर्चना करने से जीवन में तेज बना रहता है और यश, धन , वैभव की प्राप्ति होती है.

यह भी पढ़ें: Happy Chhath Puja 2021 Wishes: महापर्व छठ पर दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजें ये Messages





संध्या अर्घ्य ऐसे दें:
संध्या अर्घ्य देने के लिए शाम के समय सूप में बांस की टोकरी में ठेकुआ, चावल के लड्डू और कुछ फल लिए जाते हैं. पूजा का सूप सजाया जाता है. लोटे में जल एवं दूध भरकर इसी से सूर्यदेव को संध्या अर्घ्य दिया जाता है. इसके साथ ही सूप की सामग्री के साथ भक्त छठी मैया की भी पूजा अर्चना करते हैं. रात में छठी माई के भजन गाये जाते हैं और व्रत कथा का श्रवण किया जाता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Thekua Recipe For Chhath Puja: ठेकुआ से छठी मैया को करें खुश, इस प्रसाद के बिना अधूरी है छठ पूजा

छठ पूजा ठेकुआ प्रसाद के बिना अधूरी मानी जाती है (credit: shutterstock/Rangeecha)

Thekua Recipe For Chhath Puja:छठ मैया को ठेकुआ प्रसाद बहुत प्रिय है. ठेकुआ प्रसाद खाने में भी काफी क्रिस्पी और खुसखुस लगता है. ये बेहद स्वादिष्ट होता है.

SHARE THIS:
Thekua Recipe For Chhath Puja: छठ पूजा चल रही है. छठ पूजा में कई तरह के प्रसाद बनाए जाते हैं लेकिन मुख्य प्रसाद ठेकुआ है. इस प्रसाद के बिना यह पूजा अधूरी मानी जाती है. मान्यता है कि छठ मैया को ठेकुआ प्रसाद बहुत प्रिय है. ठेकुआ प्रसाद खाने में भी काफी क्रिस्पी और खुसखुस लगता है. ये बेहद स्वादिष्ट होता है. ठेकुए बेहद ही लजीज होते हैं. आइए जानते हैं कैसे बनाए जाते हैं ठेकुए ताकि रह न जाए आपकी छठ पूजा अधूरी...

ठेकुआ प्रसाद के लिए सामग्री
गेहूं का आटा - 500 ग्राम
गुड़ - 250 ग्राम
नारियल - 1 कप कद्दूकस किया हुआ
तेल -तलने के लिए
घी - 3 टेबल स्पून
इलायची कुटी हुई- 10

यह भी पढ़ें: Rasiya Prasad Recipe For Chhath: खरना पर बनाएं रसिया प्रसाद, छठ पर सूर्य देव को करें प्रसन्न

ठेकुआ प्रसाद बनाने की विधि
-छठ पूजा का प्रसाद ठेकुआ बनाने के लिए सबसे पहले गुड़ को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ लें और इसके बाद एक बड़े भगोने में इन टुकड़ों और आधा कप पानी को डालकर गर्म करें. जब इसमें उबाल आये तो चमचे से चलाकर चेक करें कि गुड़ पानी में अच्छे से घुल गया है या नहीं.
-अगर गुड़ घुल चुका है तो इस घोल को चलनी से छान लें ताकि अगर कोई गंदगी रह गयी हो तो वो साफ हो जाए. अब गुड़ के पानी में शुद्ध देसी घी मिलालें और थोडी देर तक के लिए रख दें ताकि ठंडा हो जाए.

- अब एक साफ बर्तन में आटा, कूटी इलायची और नारियल बुरादा डालकर गुड़ के घोल वाले पानी की मदद से एकदम टाइट और ड्राई आटा गूंथ लें. ठेकुआ बनाने के लिए आपका आटा तैयार हो चुका है.

- अब आटे से लोई निकालकर इसके हथेली से लंबाई का आकार देते हुए ठेकुए वाले सांचे में रखें और हथेली से हल्का सा दबाव दें. इसी तरह बाकी के ठेकुए भी बना लें. ठेकुआ बनाने के लिए एक साफ कढ़ाई में देसी घी डालकरमद्धम आंच पर गरम करें और इसमें ठेकुए को तलते जाएं.

- इस बात का ख्याल रखें कि ठेकुए को एकदम कम और मीडियम आंच पर ही तला जाएगा ताकि ये अंदर तक सिंक जाए. सुनहरा भूरा होने तक ठेकुए को तल लें और उसके बाद कढ़ाई से निकाल लें. इसके बाद एक प्लेट में साफ कागज़ लगाकर ठेकुए को एक एक कर निकालते जाएं. लीजिए तैयार हो चुका है पूजा के लिए आपका ठेकुआ प्रसाद.

Chaiti Chhath 2021 Kharna Today: खरना आज, जानें महत्व और कब देना है सूर्य को अर्घ्य

छठ 2021- खरना शुद्धिकरण की प्रक्रिया है. (credit: shutterstock/ArnavIG)

Chaiti Chhath 2021 Second Day Kharna Today Know Vidhi, Significance, Surya Arghya Date: खरना एक प्रकार से शुद्धिकरण (Kharna Detoxify Body) की प्रकिया है. खरना में पूरी साफ सफाई के साथ घर की महिलाएं पूरे दिन व्रत रखेंगी और शाम को मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ और दूध की खीर का प्रसाद बनाएंगी.

SHARE THIS:
Chaiti Chhath 2021 Second Day Kharna Today Know Vidhi, Significance, Surya Arghya Date : आज 17 अप्रैल, शनिवार को चैती छठ का दूसरा दिन यानी कि खरना है. आज के दिन महिलाएं घरों में गुड़ की बनाएंगी और व्रत रहेंगी. इसके बाद सूर्य को अर्घ्य देन से पारण करने तक अन्न-जल ग्रहण नहीं करते हैं. खरना एक प्रकार से शुद्धिकरण (Kharna Detoxify Body) की प्रकिया है. खरना में पूरी साफ सफाई के साथ घर की महिलाएं पूरे दिन व्रत रखेंगी और शाम को मिट्टी के चूल्हे पर गुड़ और दूध की खीर का प्रसाद बनाएंगी. सूर्य देव की पूजा करने के बाद यह प्रसाद सूर्यदेव को अर्पित करेंगी इसके बाद प्रसाद खुद ग्रहण करेंगी. इसके बाद व्रत का पारणा छठ पर्व के समापन के बाद ही किया जाता है. आइए जानते हैं छठ में नहाय खाय के बाद आखिर क्या है खरना का महत्व...

खरना का महत्व:
इस दिन व्रती शुद्ध मन से सूर्य देव और छठ मां की पूजा करके गुड़ की खीर का भोग लगाती हैं. खरना का प्रसाद काफी शुद्ध तरीके से बनाया जाता है. खरना के दिन जो प्रसाद बनता है, उसे नए चूल्हे पर बनाया जाता है. व्रती इस खीर का प्रसाद अपने हाथों से ही पकाती हैं. इसका उद्देश्य पारण तक शरीर का पूरी तरह से शुद्ध होना है.

यह भी पढ़ें: Happy Chhath Puja 2021 Wishes: महापर्व छठ पर दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजें ये Messages



यह भी पढ़ें: Chaiti Chhath 2021: नहाय-खाय के साथ आस्था का महापर्व चैती छठ शुरू, जानें कब है खरना



खरना पर बनता है रसिया प्रसाद (Rasiya Prasad On Kharna):
खरना के दिन रसिया यानी कि गुड़ की खीर का विशेष प्रसाद बनाया जाता है. महिलाएं इसके लिए पहले मिट्टी से नए चूल्हा तैयार करती हैं. इस नए चूल्हे पर ही खीर और गुड़ से विशेष रसिया प्रसाद बनाती हैं. नए चूल्हे में आम की लकड़ी के ईंधन का इस्तेमाल किया जाता है. इसके अलावा खरना के दिन सूर्य देव को पूड़ियों और मिष्ठान का भी भोग लगाया जाता है. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Rasiya Prasad Recipe For Chhath: खरना पर बनाएं रसिया प्रसाद, छठ पर सूर्य देव को करें प्रसन्न

खरना के दिन घरों में प्रसाद के लिए महिलाएं रसिया बनाती हैं. (credit: instagram/tasty.jevan)

Rasiya Prasad Recipe For Chhath 2021 Kharna: खरना के दिन घरों में प्रसाद के लिए महिलाएं रसिया बनाती हैं. इस खास खीर को बनाने के लिए आम की लड़की और मिट्टी के चूल्हे का उपयोग किया जाता है.

SHARE THIS:
Rasiya Prasad Recipe For Chhath 2021 Kharna: आज खरना है यानी कि छठ का दूसरा दिन. छठ पर्व चार दिनों तक चलता है. इस पर्व में हर एक दिन प्रसाद में कुछ खास बनने का रिवाज है. खरना के दिन घरों में प्रसाद के लिए महिलाएं रसिया बनाती हैं. इस खास खीर को बनाने के लिए आम की लड़की और मिट्टी के चूल्हे का उपयोग किया जाता है. रसिया प्रसाद बनाने के लिए चावल, दूध और गुड़ का इस्तेमाल किया जाता है. यह प्रसाद सूर्य देवता को चढ़ाया जाता है. माना जाता है कि सूर्य देव को यह प्रसाद बेहद प्रिय होता है. आइए जानते हैं इसकी रेसिपी के बारे में.

रसिया बनाने की सामग्री
चावल - 500 ग्राम
गुड़ - तोड़ा हुआ (150 ग्राम)
फुल क्रीम दूध - 1 लीटर
बादाम - 10
काजू - 10
किशमिश - 2 टेबल स्पून
इलायची - 5

रसिया बनाने की विधि
रसिया यानी गुड़ की खीर बनाने के लिए सबसे पहले एक बड़े बरतन में दूध उबालने के लिए रख दीजिए. इसके साथ ही सूखे मेवों (बादाम, काजू, किशमिश) को बारीक टुकड़ों में काट कर अलग रख लें. इसके बाद आधा कप चावल साफ करके धोकर 2 घंटे के लिए पानी में भिगो कर रख दीजिए. दूध में उबाल आने पर चावलों को दूध में डाल दें. दूध को चम्मच से चलाते रहें ताकि वह जल न जाए. खीर में उबाल आने के बाद गैस को धीमा कर दें. इसे हर 2 मिनट में चलाते रहें ताकि वह बर्तन के तले पर चिपक न जाए.

दूसरे बरतन में ½ कप पानी और गुड़ डाल कर गैस पर रख दें. जब गुड़ पानी में पूरी तरह से घुल जाए तो गैस बंद कर दें. अब दूध में डला चावल जब मुलायम हो जाए तो इसमें काजू, किशमिश और बादाम डाल दें. चावल जब दूध में अच्छे से मिल जाए तो उसमें इलायची पाउडर डाल दें. खीर के ठंडा हो जाने पर, गुड़ का घोल छलनी से छान कर खीर में मिला दें. अब आपकी रसिया खीर बनकर तैयार है.

Chhath Puja 2021 Wishes: छठ पर दोस्तों और रिश्तेदारों को भेजें ये Messages

लिहाज कोरोना काल में इस बार भी लोगों को अपने घरों में ही छठ महापर्व मनाना पड़ेगा. (सांकेतिक फोटो)

Happy Chhath Puja 2021 Wishes, Images, Quotes, Status, Pics, Wallpapers, Messages, Photos, gif Download in Hindi: छठ (Chhath 2021) पर अपने घरों पर रहते हुए कोरोना गाइडलाइन (Covid 19 second wave guidelines) और सोशल डिस्टेंसिंग (Social distancing) का पालन करते हुए अपने करीबियों, रिश्तेदारों, दोस्तों को भेजें चैती छठ के ये मैसेज (Chaiti Chhath 2021 Messages), इमेज, विश (Chhath 2021 Wishes And Images)...

SHARE THIS:
Happy Chhath Puja 2021 Wishes, Images, Quotes, Status, Pics, Wallpapers, Messages, Photos, gif Download in Hindi: आज से नहाय-खाय के साथ महापर्व चैती छठ की शुरुआत हो गई है. छठ पर्व सूर्य देवी और छठ मैया को समर्पित माना जाता है. उगते सूर्य को अर्घ्य देने के साथ इस पर्व की शुरुआत होती है और पर्व की इति अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य देने के साथ होती है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, छठ मैया सूर्यदेव की बहन है इसलिए उनकी भी पूजा-अर्चना की जाती है. यह त्योहार बिहार और उत्तर प्रदेश में पूरी धूमधाम के साथ मनाया जाता है लेकिन अब ये पूरे विश्व में प्रसिद्ध हो चुका है. मान्यता है कि जो भक्त पूरी श्रद्धा के साथ छठ व्रत करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं. लेकिन कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए इस बार छठ का त्योहार खुशियों के साथ मनाएं लेकिन सावधानी से और कोरोना नियमों का पालन करते हुए. छठ पर अपने-अपने घरों पर रहते हुए कोरोना गाइडलाइन और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए अपने करीबियों पर रिश्तेदारों, दोस्तों को भेजें चैती छठ के ये मैसेज (Chaiti Chhath 2021 Messages), इमेज, विश (Chhath 2021 Wishes And Images)...

1. मंदिर की घंटी, आरती की थाली

नदी के किनारे सूरज की लाली

जिंदगी में आए खुशियों की बहार

आपको मुबारक हो छठ का त्यौहार

Happy Chhath Puja 2021

यह भी पढ़ें- Chaiti Chhath 2021: नहाय-खाय के साथ आस्था का महापर्व चैती छठ शुरू, जानें कब है खरना



2. छठ पूजा का पावन पर्व

करो मिलकर सूर्य देव को प्रणाम,

आपको मिले सुख-शांति अपार!

शुभ छठ पूजा 2021

3. सुनहरे रथ पर होकर सवार,

सूर्य देव आए हैं आपके द्वार,

छठ पर्व की शुभकामनाएं,

मेरी ओर से करें स्वीकार!

4. अन्ना डेलु…

धन डेलु…,

डेलुन तू समंगवा,

छथि मइया एहु बरसिया करब हम वरतिअन्न,

बास निभाई तू संघा …

5.  खुशियों का त्योहार आया है,

सूर्य देव से सब जगमगाया है,

खेत खलिहान धन और धान,

यूं ही बनी रहे हमारी शान,

छठ पूजा की शुभकामनाएं...

6. सात घोड़ों के रथ पर सवार,

भगवान सूर्य आएं आपके द्वार

किरणों से भरे आपका घर संसार,

छठ आपके लिए बन जाए समृद्धि का त्योहार

छठ पूजा की बधाई

7. जो है जगत का पालनहार,
सात घोड़ों की है जिनकी सवारी,
न कभी रुके, न कभी देर करे,
ऐसे हैं हमारे सूर्यदेव, आओ मिलकर करें इस छठ पर उनकी पूजा,
छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं.

8. सदा दूर रहो गम की परछाईयों से, सामना न हो कभी तन्हाइयों से,
हर अरमान हर ख्वाब पूरा हो आपका, यही दुआ है दिल की गहराइयों से,
छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं.

Basti News: भूत-प्रेत के अंधविश्वास में चाकू से गोद कर चाची को उतारा मौत के घाट

भूत-प्रेत के अंधविश्वास में चाकू से गोद कर चाची को उतारा मौत के घाट

एसपी (SP) आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी भतीजे गंगाराम के खिलाफ मुकदमा (FIR) दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है.

SHARE THIS:
बस्ती. उत्तर प्रदेश के बस्ती (Basti) जिले के कलवारी थाना क्षेत्र के सिंगही गांव में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. जहां सगे भतीजे ने घर में भूत-प्रेत के अंधविश्वास के शक में अपनी सगी (70) वर्षीय चाची को मौत के घाट उतार दिया. आरोपी एयरफोर्स का रिटायर कर्मचारी है. पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. प्रारंभिक पूछताछ में झाड़-फूंक की आशंका में वारदात को अंजाम देने की बात सामने आई है. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.

बता दें कि सिंगही निवासी गायत्री देवी (70) गांव में अकेली रहती थीं. उनके पति शुभकरन की मौत हो गई थी. उनके दोनों बेटे परिवार के साथ दिल्ली में रहकर नौकरी करते हैं. सबसे छोटी बेटी की शादी हो चुकी है. करीब एक माह से वह मायके में की अपनी मां गायत्री देवी के साथ रह रही थी. वारदात से डरी-सहमी बेटी गम्मज ने पुलिस को बताया कि वह अपनी मां के साथ बरामदे में बैठकर बातचीत कर रही थी. अचानक उसके बड़े पिता के बेटे गंगाराम वहां आ गए और मां पर हमला बोल दिया. चाकू से उनके चेहरे और गले पर ताबड़तोड़ कई वार किया, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई.

UP पंचायत चुनाव 2021: कांग्रेस ने जारी की गोरखपुर समेत 18 जिलों के उम्मीदवारों की पहली लिस्ट

एसपी आशीष श्रीवास्तव ने बताया कि आरोपी भतीजे गंगाराम के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया गया है. हत्या में प्रयुक्त आला कत्ल पुलिस ने बरामद कर लिया है. उन्होंने बताया कि झाड़फूंक के विवाद को लेकर भतेजे ने अपनी सगी चाची की हत्या कर दी. सूचना पर पहुंची पुलिस ने आरोपी को अरेस्ट कर जेल भेज दिया गया है. घटना के बाद मृतका के घर में कोहराम मचा हुआ है.

Gorakhpur News: पूर्वांचलवासियों को मिली चिड़ियाघर की सौगात, सीएम योगी ने किया लोकार्पण

पूर्वांचलवासियों को मिली चिड़ियाघर की सौगात

सीएम योगी (CM Yogi) के निर्देश पर चिड़ियाघर में 48 सीटर 7-डी थियेटर भी बनाया गया है. यह सरकारी क्षेत्र का पहला 7-डी थियेटर है.

SHARE THIS:
गोरखपुर. पूर्वांचल में पर्यटन के विकास को पंख लगने वाले हैं. शनिवार को मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (CM Yogi Adityanath) गोरखपुर के साथ पूर्वांचलवासियों को बड़ी सौगात दी हैं. सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्‍ट और बरसों से प्रतीक्षित शहीद अशफाकउल्‍लाह खान प्राणि उद्यान का खुद उनके हाथों लोकार्पण किया. इसके बाद इसे जनता के लिए खोल दिया गया. 121 एकड़ में बने इस चिड़ियाघर को काफी हाईटेक बनाया गया है. इस चिड़ियाघर में 7डी थियेटर भी बनाया गया है. गोरखपुर के चिड़ियाघर में ओडीओपी प्रोडक्ट को भी प्लेटफार्म दिया गया है. इससे पर्यटकों को यहीं ओडीओपी उत्पाद देखने और खरीदने की सुविधा भी मिलेगी. यहां के ओडीओपी शोकेस से टेराकोटा जैसे विश्व प्रसिद्ध पारम्परिक उत्पाद की ब्रांडिंग भी और मजबूत होगी.

बता दें कि चिड़ियाघर का शिलान्यास 18 मई 2011 को तत्कालीन बसपा सरकार में हुआ था. वर्ष 2012 में सपा की सरकार बनी और 2016 तक चिड़ियाघर का प्रोजेक्ट पूरी तरह उपेक्षित रहा. केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण (सीजेडए) से ले आउट अनुमोदित कराने, निर्माण कार्य शुरू कराने से लेकर पूर्ण करने और बाड़ों को वन्यजीवों से आबाद करने का कार्य सीएम योगी ने किया.

खूबसूरती को चार चांद लगाते गोल्फ कार 
सीएम योगी ने व्यक्तिगत रुचि ली और समय-समय पर स्थलीय भ्रमण और समीक्षा के जरिए अफसरों का मार्ग दर्शन करते रहे. उनके ही निर्देश पर चिड़ियाघर के इंट्रेंस प्लाजा को गोरखनाथ मंदिर की थीम पर और यहां के साइनेज, कैफेटेरिया, कियॉस्क, फाउंटेन, हॉस्पिटल को महात्मा बुद्ध के थीम पर विकसित किया गया. यही नहीं, चिड़ियाघर में लायन और राइनोसोरस एन्क्लोजर, पीकॉक एवियरी, सरपेंटेरियम, बटरफ्लाई पार्क, 7- डी थिएटर, गोल्फ कार आदि चिड़िया घर की खूबसूरती को चार चांद लगाते हैं.

विशाल वेटलैंड वाला पहला चिड़ियाघर
चिड़ियाघर 34 एकड़ के विशाल वेटलैंड वाला पहला चिड़ियाघर है. इस वेटलैंड के संरक्षण पर ध्यान देने से यहां दो सालों से स्थानीय पक्षियों के साथ बहुतायत में प्रवासी पक्षी विचरण करने आ रहे हैं. इसके अलावा तमाम खूबियां इसे नायाब बना रही हैं. इंडोर बटरफ्लाई पार्क, सरपेंटेरियम (सांप घर) और वाक थ्रू एवियरी सहित कई नायाब खूबियां हैं.

देश का पहला 7-डी थिएटर
सीएम योगी के निर्देश पर चिड़ियाघर में 48 सीटर 7-डी थियेटर भी बनाया गया है. यह सरकारी क्षेत्र का पहला 7-डी थियेटर है. इस अत्याधुनिक थियेटर में शो के दौरान बारिश, बिजली, बुलबुले, धुआं और कोहरा आदि के साथ सुगंध का भी अहसास होगा. इसके निर्माण पर सवा दो करोड़ रुपए की लागत आई है. इसमें शो के दौरान 13 तरह के स्पेशल इफेक्ट देखे और महसूस किए जा सकेंगे.
Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज